नूंह नगर पालिका में आज से ‘स्वच्छता दूत’ संभालेंगे सफाई की कमान

सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करने के साथ-साथ अज्ञात शवों के अंतिम संस्कार के तरीके को भी बेहतर किया जा रहा है. इतना ही नहीं सरकार द्वारा चलाई जा रही सरकारी योजनाओं बेटी-बचाओ,बेटी-पढ़ाओ, स्वच्छ भारत मिशन का भी बड़े पैमाने पर प्रचारित किया जा रहा है.

Kasim Khan | News18 Haryana
Updated: October 13, 2018, 11:06 AM IST
नूंह नगर पालिका में आज से ‘स्वच्छता दूत’ संभालेंगे सफाई की कमान
स्वच्छता दूत
Kasim Khan | News18 Haryana
Updated: October 13, 2018, 11:06 AM IST
सफाई कर्मियों की कमी से जूझ रही नगर पालिका प्रशासन ने सफाई का तोड़ ढूंढ निकाली है. सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करने के साथ-साथ अज्ञात शवों के अंतिम संस्कार का भी व्यवस्था किया जा रहा है. सरकार द्वारा चलाई जा रही सरकारी योजनाओं जैसे बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, स्वच्छ भारत मिशन को भी बड़े पैमाने पर प्रचारित किया जा रहा है. इसके लिए शहर में 'स्वच्छता दूत' नाम से टिप्पर गाड़ियां चलाई जा रही है.

शुक्रवार को नगर पालिका नूंह चैयरपर्सन सीमा सिंगला और सचिव नवल किशोर ने हरी झंडी दिखाकर स्वच्छता दूत नाम के वाहनों को जनता को समर्पित किया. अब ये घर-घर, गली-गली जाकर लोगों को स्वच्छता का संदेश देंगे. इन वाहनों से संदेश प्रसारित किए जाएंगे ताकि लोग स्वच्छता के प्रति जागरूक हो सकें. नगर पालिका नूंह ने आउट सोर्स के आधार पर यह पहल शुरू की है. नगर पालिका ने करीब दो दर्जन मोबाइल टॉयलेट के साथ अज्ञात शवों के अंतिम संस्कार के लिए भी ठेका लेने वाली कंपनी से भी संपर्क किया है.

सीमा सिंगला ने कहा कि "नूंह शहर की सफाई व्यवस्था में सफाई कर्मियों की कमी की वजह से बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था. शहर की सफाई व्यवस्था को बेहतर करने के लिए शहर के सभी 13 वार्डों में टिप्पर गाड़ियों से कूड़ा उठाने का इंतजान किया जाएगा. शहर के लोगों से अपील है कि इस अभियान को सफल बनाने में अपनी भूमिका ठीक से निभाएं".

सचिव नवल किशोर ने कहा कि "सफाई कर्मियों की कमी और जिला मुख्यालय पर स्वच्छ भारत मिशन को आने वाले जनवरी महीने तक कड़ाई से लागू करने के लिए यह कदम उठाया गया है. शहर की सफाई व्यवस्था अगले कुछ दिनों में चाक-चौबंध दिखाई देंगी. टिप्पर गाड़ियां शनिवार से ही कुड़ी उठाने के काम में लग जाएंगी. घरों के बाहर कूड़ा डालने वाले लोग अपना गीला और सूखा कूड़ा स्वच्छता दूत में ही डालें".

बता दें कि तावडू नगर पालिका को छोड़कर पुन्हाना, फिरोजपुर, झिरका में टिप्पर गाड़ियों से सफाई का काम अभी शुरू नहीं हो पाया है. करीब 30 हजार आबादी वाले नूंह शहर में 13 वार्ड हैं. सफाई की सही व्यवस्था नहीं होने की वजह से शहर की गिनती गंदे शहरों में की जाती है.

यह भी पढ़ें- इनेलो के घमासान पर विरोधियों का तंज, विज बोले- परिवार टूटना दुखद, पार्टी टूटना मजेदार
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर