नूहं: 43 कोरोना पॉजिटिव मरीजों को खोजने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने ली साइबर सेल की मदद

स्वास्थ्य विभाग लापता 43 कोरोना मरोजों को खोजने के लिए साइबर सेल की मदद ले रहा है.

स्वास्थ्य विभाग लापता 43 कोरोना मरोजों को खोजने के लिए साइबर सेल की मदद ले रहा है.

कोरोना (Corona) की जांच कराते समय अपना सही पता ना देने के साथ ही सही मोबाइल नंबर नहीं देने और बाद में कोरोना पॉजिटिव आने पर मराजों के लापता होने से स्वास्थ विभाग (Health Department) परेशान हो गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 22, 2021, 8:11 PM IST
  • Share this:
नूहं. कोरोना (Corona) की जांच कराते समय अपना सही पता ना देने के साथ सही मोबाइल नंबर नहीं देने और बाद में कोरोना पॉजिटिव आने पर मराजों के लापता होने से स्वास्थ विभाग परेशान हो गया है. अब इन कोरोना संक्रमित मरोजों को खोजने के लिए स्वास्थ विभाग (Health Department) साइबर सेल की मदद ले रहा है.

पिछले करीब 10 दिन में ऐसे 43 कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं, जिन्होंने सही पता और मोबाइल नंबर नहीं बताया. इसके कारण ये लोग मिल नहीं पा रहे हैं. आखिरकार ऐसे लोगों का पता लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने साइबर सेल पुलिस की मदद ली है. अब 43 ऐसे पॉजिटिव लोगों की सूची साइबर सेल को मिल चुकी है जो उनका पता लगाने में जुट गई है. सिविल सर्जन डॉ सुरेंद्र यादव ने माना कि जो लोग जिले से बाहर के जिलों से नल्हड़ मेडिकल कॉलेज इत्यादि में कोरोना की जांच करा रहे हैं. इनमें अधिकतर ऐसे लोग हो सकते हैं.

जिनका मोबाइल नंबर सही नहीं होने की वजह से उनका सही पता नहीं लग पाया है. संक्रमण ज्यादा तेजी से फैल रहा है, इसलिए जांच करते समय ज्यादा बारीकी में नहीं जाया जाता. यही वजह है कि इतनी बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव मरीज स्वास्थ्य विभाग को नहीं मिल रहे हैं. लेकिन, स्वास्थ्य विभाग भी अब अपनी टीमें भेजकर ऐसे लोगों का पता लगाने में जुट गया है.

फरीदाबाद में कोरोना का कहर, श्मशान घाट में नहीं बची जगह तो पार्किंग में किया गया दाह संस्कार
वैसे पुलिस विभाग का साइबर सेल अपने तरीके से ऐसे लोगों का पता लगाने का काम कर रहा है. कुल मिलाकर सीएमओ नूहं ने लोगों से अपील की है की कोरोना जांच कराने के बाद अपना सही पता और मोबाइल नंबर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों के पास दर्ज कराएं. इसमें परिवार व आमजन की भलाई है.

सबसे बड़ी बात यह है की पॉजिटिव पाए जाने की सूरत में समय रहते इलाज किया जा सकता है और साथ ही संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है. लिहाजा ऐसे लोग स्वास्थ्य विभाग की मदद करें और सामने आकर अपना इलाज कराएं. कुल मिलाकर करीब 43 कोरोना के मरीज इस समय स्वास्थ्य विभाग की सूची से लापता हैं. जिनका पता लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग व पुलिस विभाग अपने-अपने तरीके से हर संभव कोशिश में जुटे हुए हैं. अगर जल्द ही ऐसे लोगों की पहचान कर उनका इलाज नहीं किया गया तो संक्रमण तेजी से इस जिले को भी अपनी जद में ले सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज