Assembly Banner 2021

पलवल: निजी अस्पताल में 32 साल के कोरोना मरीज की मौत, स्वास्थ्य विभाग में मचा हड़कंप

हरियाणा में कोरोना से मौत

हरियाणा में कोरोना से मौत

Corona Death in Palwal: 32 साल के कोरोना मरीज की मौत की खबर सुनने के बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के हाथ पैर फूल गए. जिस अस्पताल में कोविड-19 मरीज का इलाज किया जा रहा था, न वहां आईसीयू की व्यवस्था थी, न वेंटिलेटर का इंतजाम.

  • Share this:
पलवल. हुडा सेक्टर दो स्थित गैलेक्सी हॉस्पिटल में 32 साल के कोविड-19 पॉजिटिव मरीज की मौत (Death) हो गई, जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग (Health Department) में हड़कंप मच गया. 32 वर्षीय मृतक बल्लभगढ़ का रहने वाला था जिसे उपचार के लिए पलवल के निजी हॉस्पिटल गैलेक्सी में उपचार के लिए लाया गया था. उसकी हालत खराब हो गई, लेकिन अस्पताल में आईसीयू की व्यवस्था नहीं थी, न ही वेंटिलेटर का इंतजाम, जिसके कारण बीती रात उपचार के दौरान यहां पर उसकी मौत हो गई. बता दें कि किसी भी कोविड-19 के इलाज के लिए सुनिश्चित अस्पताल में आईसीयू और वेंटिलेटर का होना जरूरी है.

कोरोना पॉजिटिव की मौत की खबर सुनने के बाद स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के हाथ पैर फूल गए, जिसके बाद तो शव को जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवाने में ही कई घंटे बिता दिए. सूत्रों के अनुसार पलवल जिला अस्पताल में कोरोना पॉजिटिव की लाश को देर रात करीब 11:00 बजे ले आया गया था लेकिन मोर्चरी में शव को सुबह करीब 4:00 बजे रखवाया गया.

मरीज को रेफर करने के बाद मरीज की मृत्यु
पलवल जिला अस्पताल के एसएमओ डॉक्टर लोकवीर ने बताया कि मृतक बल्लभगढ़ का रहने वाला था, जिसकी उम्र मात्र 32 वर्ष थी. जिसे पलवल हुडा सेक्टर दो स्थित गैलेक्सी हॉस्पिटल में कोविड-19 संबंधी बीमारी के उपचार के लिए ही भर्ती कराया गया था. लेकिन इलाज के दौरान आईसीयू की तथा वेंटिलेटर की आवश्यकता पड़ने पर वहां से रेफर किए जाने के कुछ ही समय बाद मरीज की मौत हो गई.
पलवल में ही दाह संस्कार


सूचना मिलने पर शव को जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया जिसके बाद जिला प्रशासन के अधिकारीयों से संपर्क करने के बाद शव का पलवल में ही दाह संस्कार कराया जा रहा है. एसएमओ डॉ लोकवीर सिंह ने निजी हॉस्पिटल कोविड-19 मंजूरी के बारे में उन्होंने कहा कि हॉस्पिटल मैं कोविड-19 का उपचार करने की मंजूरी होगी, तभी उन्होंने कोविड-19 मरीज को उपचार के लिए भर्ती कराया. लेकिन हॉस्पिटल में आईसीयू की व्यवस्था नहीं होने के कारण मरीज की हालत बिगड़ने पर रेफर किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज