अपना शहर चुनें

States

हरियाणा: अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड से कोरोना पॉजिटिव फरार, मुकदमा दर्ज

कोरोना संक्रमित मरीज भागा
कोरोना संक्रमित मरीज भागा

आरोपी के आईसोलेशन वार्ड (Isolation Ward) से फरार होने पर स्वास्थ्य विभाग (Health Department) और पुलिस प्रशासन के हाथ पैर फूल गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 24, 2020, 9:16 AM IST
  • Share this:
पलवल. हरियाणा के पलवल जिले में कोरोना संक्रमण पॉजिटिव व्यक्ति सिविल अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड (Isolation Ward) से फरार हो गया. जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग (Health Department) और पुलिस प्रशासन के बाद हाथ पैर फूल गए. शहर थाना पुलिस ने ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. पुलिस ने आऱोपी की तलाश शुरू कर दी है.

हथीन गेट चौकी इंचार्ज टेकसिंह डागर ने बताया कि सिविल अस्पताल में कार्यरत डॉ. राजकुमार ने शिकायत दर्ज कराई है कि 22 नवम्बर को उनकी ड्यूटी आईसोलेशन वार्ड में थी. उसी दौरान होडल थाना पुलिस द्वारा आर्मस एक्ट के मुकदमे में एक व्यक्ति को मेडिकल चेकअप के लिए लाया गया. चेकअप के दौरान पता चला कि वह व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव है, जिसको आईसोलेशन वार्ड में आईसोलेट किया गया. जिनका नाम सागर निवासी कुंडा कॉलोनी होड़ल था.

देर रात पुलिस ने आऱोपी को किया गिरफ्ताार



उक्त व्यक्ति वहां पर मौजूद स्टाफ और पुलिस को चकमा देकर वार्ड से फरार हो गया. जिसकी शिकायत संबंधित थाना पुलिस को दी गई. पुलिस ने डॉ. की शिकायत के आधार पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज करके आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है. आरोपी के आईसोलेशन वार्ड से फरार होने पर स्वास्थ्य विभाग और पुलिस प्रशासन के हाथ पैर फूल गए. बड़ी मुश्किल के बाद होडल थाना पुलिस ने आरोपी को उझीना से गिरफ्तार किया. जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग और पुलिस प्रशासन ने राहत की सांस ली.
कोरोना टेस्ट कराने में देरी बनी 50 प्लस के मरीजों की जान की दुश्मन

50 वर्ष व अधिक आयु वर्ग के वो लोग जो हाइपरटेंशन, डायबिटीज, हार्ट, लीवर, कैंसर, फेफड़े के रोग से ग्रस्त हैं उन पर कोरोना सीधा अटैक कर रहा है, इतना ही नहीं इन बीमारियों से ग्रस्त लोग कोविड टेस्ट कराने में जो लापरवाही बरत रहे हैं उससे वायरस इनकी जान का दुश्मन साबित हो रहा है. पीजीआई के पीसीसीएम विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. पवन कुमार ने बताया कि पीजीआई में पिछले कुछ दिनों में हुई 99 कोरोना मरीजों की मौत मामले में एक स्टडी रिपोर्ट तैयार हुई है. खुलासा हुआ कि टेस्ट देरी से कराने पर संक्रमण का लेवल सीटी स्कोर 16 से 25 के बीच मिला है. इस स्टेज पर पीजीआई जैसे संस्थान में भी ये मरीज रिकवर नहीं हो पाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज