पलवल के किसानों ने जाम नहीं किया केएमपी एक्सप्रेस-वे, आंदोलन से पीछे हटने की बताई वजह

किसान आंदोलन की फाइल फोटो 

किसान आंदोलन की फाइल फोटो 

हरियाणा (Haryana) के संयुक्त किसान मोर्चा (Kisan Sanyukt Morcha) द्वारा शनिवार को केएमपी एक्सप्रेसवे को 24 घन्टे के लिए जाम करने का आह्वान किया गया था.

  • Share this:
पलवल. हरियाणा (Haryana) के संयुक्त किसान मोर्चा (Kisan Sanyukt Morcha) द्वारा शनिवार को केएमपी एक्सप्रेसवे को 24 घन्टे के लिए जाम करने का आह्वान किया गया था. संयुक्त किसान मोर्चे के इस आह्वान का अबकी बार पलवल जिले में कोई असर देखने को नहीं मिला. क्योंकि धरना स्थल पर किसानों द्वारा एक दिन पूर्व ही मीटिंग कर फैसला ले लिया गया था कि फसलों की कटाई के समय को देखते हुए वे 24 घन्टे के लिए केएमपी को जाम नहीं करेंगे. किसान समिति ने कहा कि वे इस बार धरना स्थल पर एकत्रित होकर प्रतिदिन की तरह कृषि कानूनों का विरोध करेंगे.

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान को देखते हुए पुलिस प्रशासन भी अपनी पूरी तैयारियों के साथ अलर्ट है. धरना स्थल पर काफी पुलिस बल मौजूद कर दिया गया है. एक दिन पूर्व ही प्रशासन ने रूटों का डायवर्ट कर दिया था. आमजन मानन, वाहन चालक व दैनिक यात्रियों से प्रशासन द्वारा आह्वान कर दिया गया था कि वे 10 अप्रैल सुबह 11 बजे से लेकर 11 अप्रैल सुबह 11 बजे केएमपी एक्सप्रेस वे का प्रयोग न करें. किसान नेता राजकुार ओलियान व सुभाष दलाल ने कहा कि इस समय फसलों की कटाई का समय चल रहा है और सभी किसान अपने खेतों में फसलों की कटाई करने में लगे हुए हैं, जिसे देखते हुए किसानों द्वारा यह अपील कर दी गई थी कि उनके द्वारा पलवल जिले में केएमपी एक्सप्रेस को जाम नही किया जाए। बल्कि धरना स्थल पर पंडाल में एकत्रित होकर कृषि कानूनों का विरोध करें.

सफल नहीं हुआ आह्वान

किसान नेता राजकुमार ओलियान ने कहा कि सयुंक्त किसान मोर्चा के हर आह्वान का पलवल जिले में किसानों द्वारा सफल बनाया गया है, लेकिन फसलों की कटाई के समय को देखते हुए संयुक्त किसान मोर्चा के केएमपी एक्सप्रेस वे को जाम के आह्वान को पलवल जिले में इस बार सफल नही बनाया जाएगा. उन्होंने कहा आगे सयुंक्त किसान मोर्चा द्वारा जो भी आह्वान किया जाएगा. उसको पलवल जिले में पहले की तरह शांतिपूर्ण तरीके से सफल बनाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज