Home /News /haryana /

हरियाणा: मानसिक रूप से परेशान शख्स नहर में कूदा, पति को बचाने के लिए पत्नी भी कूदी, दोनों की मौत

हरियाणा: मानसिक रूप से परेशान शख्स नहर में कूदा, पति को बचाने के लिए पत्नी भी कूदी, दोनों की मौत

पलवल में पति-पत्नी नहर में कूदे

पलवल में पति-पत्नी नहर में कूदे

Husband and wife died in Palwal: मृतका मोहिनी के भाई जितेंद्र ने बताया कि पिछले 2 साल में पति-पत्नी के बीच में किसी तरह की कोई कलह नहीं थी. अचानक जो हुआ वह अचंभित करने वाला है. अब उन्हें अपनी दो ढाई माह की भांजी की चिंता है.

पलवल. हरियाणा के पलवल जिले मिंडकोला गांव में नहर में कूदने से पति-पत्नी की मौत (Death) हो गई. जानकारी के अनुसार 16 दिसंबर की रात को महेश पुत्र राजवीर मानसिक तनाव के चलते घर से आत्महत्या (Suicide) के इरादे से नहर के पास चला गया. पत्नी को जब इस बात का पता चला तो वो भी उसके पीछे पीछे चली गई. पत्नी को देखकर महेश ने नहर में छलांग लगा दी. जिसे बचाने के प्रयास में पत्नी भी नहर में कूद गई. जिससे दोनों की नहर में डूब जाने से मौत हो गई.

महेश का शव 17 दिसंबर की रात को बरामद कर लिया गया, जबकि महेश की पत्नी 24 वर्षीय मोहिनी का शव 18 तारीख को शाम को निकाला जा सका. दोनों के शवों का पलवल की जिला अस्पताल की मोर्चरी में पोस्टमार्टम करवा परिजनों को सौंप दिया गया. पति-पत्नी की मौत के बाद घर पर 2 माह की बेटी पीछे रह गई है जिसके लालन-पालन तथा घर और प्रॉपर्टी में उसका हिस्सा मिलने की चिंता जताई जा रही है.

जानकारी के अनुसार मडकोला गांव महेश पुत्र राजवीर की करीब 2 वर्ष पूर्व मध्य प्रदेश के निवाड़ी चला के गांव में मोहिनी नाम की महिला के साथ शादी हुई थी. जिसके बाद दोनों की घर गृहस्थी ठीक चल रही थी. दोनों अपने भाई और पिता आदि से अलग मकान में रह रहे थे. महेश को शराब आदि नशीली चीजों का आदि बताया गया है. 16 दिसंबर की रात को महेश मानसिक तनाव के चलते घर से आत्महत्या के इरादे से घर से थोड़ी दूर बह रही आगरा कैनाल पर चला गया.

पत्नी को जब मालूम हुआ तो वो भी उसके पीछे पीछे नहर तक चली गई. बताया गया कि महेश पत्नी को देखकर नहर में कूद गया, जिसे बचाने के प्रयास में मोहिनी भी नहर में कूद गई थी. लेकिन ना तो वह महेश को बचा पाई और ना ही खुद को बचा पाई. दोनों नहर के तेज बहाव में बह गए.

दोनों के इस प्रकार घर से निकलकर जाने और नहर में कूदने की बात का किसी को अंदाजा ना था. लेकिन जब ढाई माह की छोटी बच्ची रोते-रोते चुप ना हुई तो पड़ोसी ने जाकर देखा तो घर पर उसके मां बाप कोई भी नहीं था. पड़ोसियों ने इसकी सूचना उसके परिवार वालों को दी. दोनों की खोजबीन की गई लेकिन वह कहीं नहीं मिले.

शक होने पर 17 तारीख की सुबह परिवार और गांव के लोग आगरा कैनाल पर गए. लेकिन पानी का बहाव अधिक होने के कारण उनको खोजा ना सका जा सका. काफी मशक्कत करने के बाद 17 तारीख की रात को महेश के शव को नहर में से निकाल दिया गया. लेकिन मोहिनी का शव नहीं मिल पाया. जिसकी खोज जारी रही और आखिर 18 तारीख की शाम को उसका शव नहर से निकाल लिया गया.

पलवल जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए पहुंचे ग्रामीणों के साथ मृतका मोहिनी के भाई जितेंद्र ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि पिछले 2 साल में पति-पत्नी के बीच में किसी तरह का कोई कलह नहीं थी. किसी से भी झगड़े की बात उन्होंने नहीं सुनी. लेकिन अचानक जो हुआ उसे वह अचंभित हैं. अब उन्हें अपनी ढाई माह की भांजी की चिंता है. साथ ही साथ वह चाहते हैं कि उसके हिस्से की प्रॉपर्टी और जमीन में उसकी भांजी को उसका कानूनी हिस्सा मिलना चाहिए.

Tags: Crime News, Haryana police, Suicide

अगली ख़बर