कोरोना संक्रमित BPL परिवारों की मदद करेगी हरियाणा सरकार, इलाज के लिए देगी इतनी राशि

राज्य स्वास्थ्य विभाग की योजना के मुताबिक गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों के सदस्य यदि कोरोना से संक्रमित होते हैं तो उन्हें सरकार की तरफ से उपचार के लिए आर्थिक मदद दी जाएगी (फाइल फोटो)

राज्य स्वास्थ्य विभाग की योजना के मुताबिक गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों के सदस्य यदि कोरोना से संक्रमित होते हैं तो उन्हें सरकार की तरफ से उपचार के लिए आर्थिक मदद दी जाएगी (फाइल फोटो)

स्वास्थ्य विभाग के द्वारा यह योजना राज्य के प्रत्येक जिले में संचालित किया जा रहा है. इसके लिए विभाग की तरफ से सभी प्राइवेट अस्पताल संचालकों को निर्देश दिए गए हैं कि वो अपने अस्पताल में आने वाले कोविड पॉजिटिव (Covid Positive) मरीजों की जानकारी हरियाणा सरकार द्वारा चलाए जा रहे स्वास्थ्य विभाग पोर्टल पर उपलब्ध कराएं

  • Share this:

पलवल. हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने कोरोना संक्रमण (Corona Virus) की वजह से प्रभावित गरीबी रेखा से नीचे आने वाले लोगों को आर्थिक मदद देने का ऐलान किया है. इसके तहत घर पर आइसोलेट कोरोना मरीज (Corona Patient) को 5,000 रुपए और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन या आईसीयू (ICU) बेड पर उपचाराधीन बीपीएल परिवारों (BPL Family) के कोरोना मरीजों के लिए प्रतिदिन प्रति मरीज 5,000 रुपये (अधिकतम सात दिन) यानी 35,000 रुपये की सहायता देगी.

स्वास्थ्य विभाग के द्वारा यह योजना राज्य के प्रत्येक जिले में संचालित किया जा रहा है. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की तरफ से सभी प्राइवेट अस्पताल संचालकों को निर्देश दिए गए हैं कि वो अपने अस्पताल में आने वाले कोविड पॉजिटिव मरीजों की जानकारी हरियाणा सरकार द्वारा चलाए जा रहे स्वास्थ्य विभाग पोर्टल पर उपलब्ध कराएं. वैसे कोरोना मरीज जो गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन कर रहे हैं और होम आइसोलेशन में हैं उनको 5,000 रुपए की एकमुश्त राशि चिकित्सा सहायता के रूप में दी जाएगी. यह राशि सीधे मरीजों के बैंक खाते में भेजी जाएगी. इसके लिए लाभार्थी कोविड मरीजों का परिवार पहचान पत्र होना अनिवार्य होगा.

इसके अलावा जो बीपीएल परिवार से संबंध रखते हैं और निजी अस्पताल में अपना इलाज करा रहे हैं उनको सरकार की तरफ से 5,000 रूपये की सहायता राशि सात दिन के लिए प्रदान की जाएगी. यह रकम मरीज को ना मिलकर सीधे अस्पताल को मिलेगी. यानी सात दिन में 35,000 रूपये का भुगतान राज्य सरकार द्वारा निजी अस्पताल को किया जाएगा. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार मरीज के बिल में से इन पैसों की कटौती की जाएगी. इसके अलावा, अस्पतालों को कोरोना मरीजों के इलाज के लिए प्रोत्साहन देने के लिए प्रत्येक मरीज के हिसाब से 1,000 की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी.

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी डॉ. अजय माम ने बताया कि सरकार ने गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले लोगों की मदद के लिए यह कदम बढ़ाया गया है. लॉकडाउन के चलते उनकी आजीविका खत्म हो चुकी है. उन्होंने कहा कि सभी अस्पतालों को निर्देश दिए गए हैं कि वो अस्पताल में आने वाले सभी मरीजों की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के पोर्टल पर अपलोड करे. साथ ही उन्होंने कोरोना काल में लोगों से भी यह आह्वान किया कि जो मरीज घर पर आइसोलेट हैं और किन्हीं कारणों से अपनी जानकारी स्वास्थ्य विभाग की वेबसाइट पर अपलोड नहीं करा पाए हैं तो वो अपने विभिन्न दस्तावेज जैसे पहचान पत्र, फैमिली पहचान पत्र और दूसरे झांसी फोटो को स्वास्थ्य विभाग की वेबसाइट पर अपलोड करें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज