हरियाणा: मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना का नहीं मिल रहा लाभ, आवेदनकर्ता लगा रहे विभाग के चक्कर
Palwal News in Hindi

हरियाणा: मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना का नहीं मिल रहा लाभ, आवेदनकर्ता लगा रहे विभाग के चक्कर
मनोहर लाल खट्टर सहित कई मंत्री कोरोना पॉजिटिव हैं.

813 आवेदनकर्ताओं का दो करोड़ 88 लाख रूपए पेंडिंग (Pending). रुका हुआ पैसा एफडी (FD) से पास नहीं हुआ.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2020, 9:47 AM IST
  • Share this:
पलवल. जिले में पिछले लम्बे समय से लोगों को मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना (Chief Minister Marriage Shagun Scheme) का कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है. आवेदनकर्ता विभाग के चक्कर लगा-लगाकर थक चुके हैं, लेकिन उनकी कोई सुनने वाला नहीं है. पलवल जिले के 813 आवेदनकर्ताओं का मुख्यमंत्री शगुन योजना का दो करोड़ 88 लाख रूपया पेंडिंग है. आवेदनकर्ताओं का कहना है की उन्होंने अपनी बेटियों की शादी इधर उधर से कर्ज लेकर कर दी, लेकिन अब विभाग (Department) से पैसे न मिलने के चलते उन्हें कर्जदाताओं की और से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

पलवल जिले के गांव भिडूकी निवासी वासुदेव ने बताया की उसने फरवरी महीने में अपनी दो बहनों की शादी के बाद मुख्यमंत्री शगुन राशि लेने के लिए वर्ष 2020  में फार्म भरा था. लेकिन करीब छह महीने से भी ज्यादा समय बीतने के बाद उन्हें अभी शगुन योजना की राशि नहीं मिली. उन्होंने अपनी बहनों की शादी में कर्ज पर पैसा लेकर शादी की थी अब जिनसे पैसे लिए थे वो अपने पैसे मांग रहे है और बार- बार चककर काटने के बाद भी उन्हें विभाग से राशि नहीं मिल रही.

वहीं  होडल निवासी सुभाष ने बताया की गत 29 जून को उन्होंने अपनी बेटी की शादी कर मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना का लाभ लेने के लिए फार्म भरा था. लेकिन अभी तक उन्हें योजना का लाभ नहीं मिला. जब भी वो विभाग के कार्यालय आते है उन्हें कोई न कोई बहाना बनाकर  दिया जाता है.



शादी कर दी, पैस नहीं मिले
पलवल के पातली गेट माता वाला मोहल्ला निवासी इंद्र  10 फरवरी को उन्होंने अपनी  शादी की थी और उसके बाद मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना के लिए फार्म भरा था. लेकिन इतने दिन बीतने के बाद भी उन्हें एक पैसा  मिला. बार बार महकमे के दफ्तर के चक्कर काटकर वो परेशान है और यहां उनकी कोई सुनने वाला नहीं है. जहां से  लड़की की शादी की थी वो पैसे मांगने के लिए  बैठे रहते है और यहां अधिकारी उनको बहकाकर यहां से वापिस भेज देते हैं.

दो करोड़ 88 लाख रुपये पेंडिंग

वहीं जब इस बारे में जिला कल्याण अधिकारी जगदेव सिंह से बात की तो उन्होंने बताया की पलवल जिले के 813 आवेदनकर्ताओं का दो करोड़ 88 लाख रूपए पेंडिंग है. उन्होंने बताया की रुका हुआ पैसा एफडी से पास नहीं हुआ जिसकी वजह से लोगों को परेशानी हो रही है. इस बारे में विभाग के उच्चधिकारिओं को भी अवगत कराया है कभी सभी समस्या का समाधान हो सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज