श्मशान घाट में भरा पानी, बुजुर्ग महिला का दो दिन से नहीं हो पा रहा दाह संस्कार
Palwal News in Hindi

श्मशान घाट में भरा पानी, बुजुर्ग महिला का दो दिन से नहीं हो पा रहा दाह संस्कार
नहीं हो पो रहा बुजुर्ग महिला का दाह संस्कार

जब वैकल्पित रास्ते का इंतजाम होगा तब जाकर बुजुर्ग महिला का अंतिम संस्कार किया जायेगा. ग्रामीणों का कहना है कि जब भी किसी व्यक्ति की मौत होती है तो यही हाल रहता है.

  • Share this:
पलवल. जिले के गांव बघोला के श्मशान घाट में पानी का जमावड़ा होने की वजह से बुजुर्ग दलित महिला का अंतिम संस्कार कल से नहीं हो पा रहा है. दलितों के श्मशान घाट में गंदे पानी का जमावड़ा बना हुआ है. श्मशान घाट में शव का दाह संस्कार करने के लिए रास्ता ही नहीं है. इसलिए 62 वर्षीय दलित बुजुर्ग महिला रेशम का शव कल से ही उनके घर में रखा हुआ है. परिवार वालों का रो- रोकर बुरा हाल है. हर कोई चाहता है की उसका अंतिम अंतिम संस्कार (Cremation) जल्द से जल्द हो लेकिन जब तक शमशान घाट में रास्ते की कोई वैकल्पित व्यवस्था नहीं होगी तब तक रेशम का अंतिम संस्कार नहीं होगा और शव घर में ही रखा रहेगा.

बता दें कि वीरवार की शाम को बघोला गांव निवासी रेशम बुजुर्ग महिला की मौत लम्बी बीमारी के चलते हो गई थी. लेकिन श्मशान घाट में पानी भरा होने के चलते मृत महिला के परिजन उसका अंतिम संस्कार नहीं कर पाए. ग्रामीणों ने बताया कि श्मशान घाट में यह समस्या पिछले लंबे समय से बनी हुई है, जिसकी शिकायत उन्होंने सीएम विंडो के अलावा अन्य कई उच्चाधिकारी और सरपंच से कई बार की लेकिन समस्या का कोई समाधान नहीं हुआ.

अब ग्रामीणों ने खुद चन्दा जमा कर श्मशान घाट में पानी के ऊपर मिट्टी डलवाने के लिए जेसीबी मशीन मंगवाई है. उससे पहले पानी पर मिट्टी डालने का काम किया जा रहा है. गांव के लोग भी मिट्टी डालने का काम कर रहे हैं. जब वैकल्पित रास्ते का इंतजाम होगा तब जाकर बुजुर्ग महिला का अंतिम संस्कार किया जायेगा. ग्रामीणों का कहना है कि जब भी किसी व्यक्ति की मौत होती है तो यही हाल रहता है. यहां अंतिम संस्कार करना बहुत बड़ी समस्या है.



उन्होंने बताया कि कई बार अंतिम संस्कार करने के लिए श्मशान घाट की दीवारों को फांदकर शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाना पड़ता है. जिसके चलते कई बार लोगों को चोटें भी आई है. ग्रामीण हरदत्त और मृत महिला के पुत्र ने बताया कि कल से शव घर मे रखा हुआ है. लेकिन श्मशान घाट में जगह न होने के चलते दाह संस्कार नहीं कर पा रहे हैं.  उन्होंने बताया कि अब हमने खुद चन्दा जमा किया है और मिट्टी मंगवाई है. जेसीबी मशीन बुलाई है अब मिट्टी डलने के बाद ही बुजुर्ग महिला का अंतिम संस्कार किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading