Home /News /haryana /

Ram Rahim Case: रंजीत हत्याकांड पर फैसला सुरक्षित, 18 को होगा सजा का ऐलान

Ram Rahim Case: रंजीत हत्याकांड पर फैसला सुरक्षित, 18 को होगा सजा का ऐलान

अब मामले की अगली सुनवाई 18 अक्टूबर को होगी और इसी दिन कोर्ट सजा का ऐलान करेगा. (फाइल फोटो)

अब मामले की अगली सुनवाई 18 अक्टूबर को होगी और इसी दिन कोर्ट सजा का ऐलान करेगा. (फाइल फोटो)

Haryana News: 10 जुलाई 2002 को रंजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, वो राम रहीम का समर्थक था और इस मामले में CBI स्पेशल कोर्ट ने पांच लोगों को दोषी करार दिया था.

    पंचकूला. डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim) के समर्थक रंजीत सिंह की हत्या के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने फैसला सुरक्षित कर लिया है. सुनवाई के दौरान मामले की अंतिम सुनवाई के बाद कोर्ट (Court) ने अपना फैसला सुरक्षित (Judgment Reserved) करते हुए, सजा के ऐलान के लिए अगली तारीख दे दी. अब मामले की अगली सुनवाई 18 अक्टूबर को होगी और इसी दिन कोर्ट सजा का ऐलान करेगा.

    गौरतलब है कि कुरुक्षेत्र निवासी रंजीत सिंह (Ranjit Singh Murder Case) की 10 जुलाई 2002 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. इस मामले में 8 अक्टूब को पंचकूला स्थित हरियाणा स्‍पेशल सीबीआई कोर्ट ने गुरमीत राम रहीम, तत्कालीन डेरा प्रबंधक कृष्ण लाल, अवतार, जसबीर और सबदिल को दोषी करार दिया था. सीबीआई की स्‍पेशल कोर्ट में जज डॉ. सुशील कुमार गर्ग ने करीब ढाई घंटे बहस के बाद आरोपियों को दोषी करार दिया था. वहीं, इससे पहले गुरमीत राम रहीम को साध्वियों से यौन शोषण के मामले में 20 साल की सजा हो चुकी है. इसके अलावा वह पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में उम्रकैद की सजा काट रहा है.

    ऐसे दिया था हत्‍याकांड को अंजाम
    10 जुलाई 2002 को डेरा सच्चा सौदा की प्रबंधन समिति के सदस्य रहे रणजीत सिंह की उस समय हत्या हुई थी, जब वह अपने घर से कुछ ही दूरी पर जीटी रोड के साथ लगते अपने खेतों में नौकरों को चाय पिलाकर वापस घर जा रहे थे. हत्यारों ने अपनी गाड़ी जीटी रोड पर खड़ी रखी और वे धीरे से खेत से आ रहे रणजीत सिंह के पास पहुंचे और काफी नजदीक से उन्हें गोलियों से छलनी कर दिया था. गोलियां मारने के बाद हत्यारे फरार हो गए थे. हत्यारों में पंजाब पुलिस का कमांडो सबदिल सिंह, अवतार सिंह, इंद्रसेन और कृष्णलाल आरोपी थे. यह भी मालूम हुआ था कि रणजीत सिंह की हत्या करने के बाद हत्यारों ने इस्तेमाल किए गए हथियार डेरे में जाकर जमा करवा दिए ‌थे. रणजीत सिंह डेरा की उच्च स्तरीय प्रबंधन समिति का सदस्य था. वह डेरामुखी के काफी करीब माना जाता था.

    Tags: CBI, Gurmeet Ram Rahim, Haryana news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर