पानीपत से आज दिल्ली कूच करेंगे 25 हजार किसान, घोड़ों पर निकलेगा निहंगों का जत्था

10 जून को किसानों का दिल्ली कूच भाकियू प्रदेश अध्यक्ष चढ़ूनी करेंगे पानीपत से दिल्ली कूच का नेतृत्व, सिख निहंग और ऊंटों के साथ 25 हजार किसानों के कूच का दावा किया जा रहा है.

10 जून को किसानों का दिल्ली कूच भाकियू प्रदेश अध्यक्ष चढ़ूनी करेंगे पानीपत से दिल्ली कूच का नेतृत्व, सिख निहंग और ऊंटों के साथ 25 हजार किसानों के कूच का दावा किया जा रहा है.

10 जून को किसानों का दिल्ली कूच भाकियू प्रदेश अध्यक्ष चढ़ूनी करेंगे पानीपत से दिल्ली कूच का नेतृत्व, सिख निहंग और ऊंटों के साथ 25 हजार किसानों के कूच का दावा किया जा रहा है.

  • Share this:

सुमित भारद्वाज, पानीपत. कोरोना की दूसरी लहर थमने के बाद अब किसान आंदोलन फिर से जोर पकड़ने लगा है. 10 जून को किसानों का दिल्ली कूच भाकियू प्रदेश अध्यक्ष चढ़ूनी करेंगे. पानीपत से दिल्ली कूच का नेतृत्व, सिख निहंग और ऊंटों के साथ 25 हजार किसानों के कूच का दावा कृषि कानूनों के विरोध में 10 जून को पानीपत से दिल्ली के लिए रवाना होगा किसानों का जत्था पानीपत से दिल्ली कूच को लेकर भारतीय किसान यूनियन (चढ़ूनी ग्रुप) ने आज किसान भवन में बैठक की. पदाधिकारियों ने बताया कि दिल्ली कूच की तैयारी पूरी हो चुकी है. भाकियू प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी दिल्ली कूच का नेतृत्व करेंगे.

पदाधिकारियों का दावा है कि घोड़ों पर सवार सिख निहंग और ऊंटों के साथ 25 हजार किसान व 5 हजार गाड़ियां कूच में शामिल होंगी. दिल्ली कूच में किसानों की संख्या बढ़ाने के लिए गांवों में संपर्क किया जा रहा है. कृषि कानूनों के विरोध में भारतीय किसान यूनियन (चढ़ूनी ग्रुप) ने 10 जून को दिल्ली कूच का ऐलान किया है. भाकियू पदाधिकारियों ने दावा किया है कि कूच की तैयारी पूरी कर ली गई है. जिले के सभी गांवों में संपर्क किया है. यूनियन के प्रचार अध्यक्ष बॉर्डर पर नेताओं से बात करने जा चुके हैं.

जिलाध्यक्ष सुधीर जाखड़ ने बताया कि कूच का नेतृत्व प्रदेश अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी करेंगे. 10 जून को 9 बजे से किसानों का जुटना शुरू होगा. करीब 10:30 बजे प्रदेश अध्यक्ष का स्वागत करने के बाद किसानों का जत्था दिल्ली की ओर बढ़ेगा. जिसमें 25 हजार किसानों के शामिल होने का दावा किया गया है. जिलाध्यक्ष ने कहा कि कूच में काफी संख्या में युवा किसान शामिल होंगे. सभी को झंडे के लिए अपने-अपने डंडों पर तेल लगाने के लिए कहा गया है। ताकि झंडा मजबूती से ऊंचा उठा रहे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज