पानीपत: लॉकडाउन में कारोबार ठप होने से नहीं चुका पा रहा था लोन के पैसे, फाइनेंसरों से तंग आकर किया सुसाइड

Panipat Suicide: परिजनों ने आरोपियों पर मारपीट करने के आरोप भी लगाए हैं. उनका कहना है कि मृतक काफी दिनों से डिप्रेशन में था जिसकी वजह से उसने ये कदम उठाया है.

Panipat Suicide: परिजनों ने आरोपियों पर मारपीट करने के आरोप भी लगाए हैं. उनका कहना है कि मृतक काफी दिनों से डिप्रेशन में था जिसकी वजह से उसने ये कदम उठाया है.

Panipat Suicide: परिजनों ने आरोपियों पर मारपीट करने के आरोप भी लगाए हैं. उनका कहना है कि मृतक काफी दिनों से डिप्रेशन में था जिसकी वजह से उसने ये कदम उठाया है.

  • Share this:

पानीपत. हरियाणा के पानीपत जिले की देशराज कॉलोनी में फाइनेंसरों से तंग आकर एक 30 वर्षीय युवक ने फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या (Suicide) कर ली. रवि ने काम शुरू करने के लिए फाइनेंसरों से पैसे ले रखे थे. लेकिन लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान उसका काम ठप हो गया और वो समय पर पैसा नहीं चुका पा रहा था. रुपए लेने के लिए फाइनेंसर रवि पर बार-बार दबाव बना रहे थे.

मृतक रवि के भाई का कहना फाइनेंसर उसके भाई को पहले घर से भी उठा ले गए थे और उसके साथ मारपीट की थी, जिसके चलते उसने आत्महत्या जैसा कदम उठाया. वहीं मामले की सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए पानीपत के सिविल हॉस्पिटल में रखवा दिया. मृतक के परिजनों ने आरोप लगाया है कि पुलिस इस मामले में कार्रवाई नहीं कर रही है.

मामले की जानकारी देते हुए मृतक के परिजनों ने बताया कि उनके भाई ने रवि ने काम करने के लिए फाइनेंसर से लोन लिया गया था. हालांकि लोन की किस्त दी जा रही थी. लेकिन फाइनेंसर द्वारा उस पर जबरदस्ती दबाव बनाया गया और उसके साथ मारपीट भी की गई. जिससे तंग आकर युवक ने फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या की है.

परिजनों का आरोप है कि उनका भाई फाइनेंसर का काफी रुपया चुका दिए था. लेकिन फाइनेंसर उन पर दोबारा से पैसे लेने का दबाव बना रहे थे और कह रहे थे कि अभी तक उनके पास कोई रुपया नहीं आया जिससे परेशान होकर उनके भाई ने आत्महत्या जैसा कदम उठाया. साथ ही परिजनों ने पुलिस की कार्यवाही पर भी सवाल खड़े किए है और आरोप लगाया है कि कल समय पर कार्यवाही नहीं कर रही.
हालांकि मामले में डीएसपी सतीश वत्स का कहना है कि परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है. अगर जांच में परिजनों के आरोप सत्य पाए गए तो आरोपियो के खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई जाएगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज