Assembly Banner 2021

दुष्यंत चौटाला ने साधा किसान नेताओं पर निशाना, बोले- कहां चले गए, सरकार से बात क्यों नहीं करते?

दुष्यंत चौटाला ने पंचायत चुनाव पर भी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कहा कि प्रक्रिया चल रही है जो एक महीने में पूरी हो जाएगी.

दुष्यंत चौटाला ने पंचायत चुनाव पर भी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कहा कि प्रक्रिया चल रही है जो एक महीने में पूरी हो जाएगी.

कृषि कानून को लेकर किसानों के विरोध प्रदर्शन पर हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने लंबे समय के बाद चुप्पी तोड़ी है.

  • Share this:
पानीपत. कृषि कानून को लेकर किसानों के विरोध प्रदर्शन पर हरियाणा (Haryana) के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने किसान नेताओं पर निशाना साधा है. एक शादी समारोह में समालखा पहुंचे दुष्यंत चौटाला ने किसान आंदोलन और कृषि कानूनों को लेकर समाधान न निकालने को लेकर कहा कि आंदोलन को चलाने वाले 40 किसान नेता कहां गए और वो सरकार से चर्चा क्यों नहीं करते?  चौटाला के साथ शादी समारोह में बाबा रामदेव भी पहुंचे थे. उन्होंने भी किसान आंदोलन पर सरकार और किसानों के बीच संवाद के जरिये हल निकालने की बात कही है.

चौटाला ने पंचायत चुनाव को लेकर भी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव को लेकर प्रक्रिया चल रही है जो एक महीने में पूरी हो जाएगी. उन्होंने इस बार चुनाव में 50 प्रतिशत महिलाओं की भागीदारी होने की भी बात कही.

चौटाला ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि देश में चल रहे किसान आंदोलन में अन्नदाता और सरकार के मध्य आपसी सहमति से बीच का रास्ता निकलना चाहिए. उन्होंने कहा गतिरोध खत्म करके और मिल बैठकर के किसानों के हित की नीतियां बनाने की बातचीत हो जाए तो समस्या का समाधान हो सकता है. उन्होंने कहा कि किसान आन्दोलन पर कुछ बातें किसानों और कुछ बातें सरकार को मान लेनी चाहिए.



पत्रकारों से बातचीत करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि किसानों की आड़ में कुछ शरारती तत्व अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं और उनसे किसानों को बचना चाहिए. स्वामी रामदेव ने कहा कि कानून को टालने से समाधान निकलता है तो समय अवधि बढ़ाकर डेढ़ साल की बजाय ढाई-तीन साल के लिए कानून टाल देना चाहिए. किसी भी समस्या का समाधान हमेशा बातचीत से ही निकलता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज