लाइव टीवी

17 लोगों से एक करोड़ की ऑनलाइन ठगी के चार आरोपी बिहार व झारखंड से गिरफ्तार
Deoghar News in Hindi

News18 Haryana
Updated: December 29, 2019, 5:27 PM IST
17 लोगों से एक करोड़ की ऑनलाइन ठगी के चार आरोपी बिहार व झारखंड से गिरफ्तार
पानीपत पुलिस ने ऑनलाइन ठगी के चार आरोपियों को बिहार और झारखंड से गिरफ्तार कर लिया है.

देशभर में ऑनलाइन ठगी (Online Fraud) की वारदातों को अंजाम देने वाले एक गिरोह के चार सदस्यों को पानीपत पुलिस ने बिहार और झारखंड से गिरफ्तार (Four Accused Arrested) कर लिया है. ये मुंबई, अहमदाबाद, राजस्थान (हनुमानगढ़) व कर्नाटक समेत अन्य राज्यों में करीब 17 लोगों से आॅनलाइन ठगी को अंजाम दे चुके हैं.

  • Share this:
पानीपत. देशभर में ऑनलाइन ठगी (Online Fraud) की वारदातों को अंजाम देने वाले एक गिरोह के चार सदस्यों को पानीपत पुलिस ने बिहार और झारखंड से गिरफ्तार (Four Accused Arrested) कर लिया है. ये मुंबई, अहमदाबाद, राजस्थान (हनुमानगढ़) व कर्नाटक समेत अन्य राज्यों में करीब 17 लोगों से आॅनलाइन ठगी को अंजाम दे चुके हैं. ये अभी तक करीब 1 करोड़ रुपये की ठगी (Fraud Of one Crore Rupees)  की है. पुलिस को अभी इस गिरोह के 6 से 7 आरोपियों की तलाश है. आरोपियों के देशभर में कमीशन बेस पर रखे हुए एजेंट लिंक भेजकर यूपीआई के माध्यम से फेक पेटीएम के जरिये ठगी करते थे. इस गिरोह के सदस्य बिहार और झारखंड में सक्रिय हैं और इसके दिल्ली में भी तार जुड़े होने की आशंका है.

नवंबर से इन आरोपियों को ढूंढ रही थी पुलिस

सीआईए-टू प्रभारी इंस्पेक्टर दीपक कुमार ने बताया कि 5 नंवबर 2019 को थाना औधोगिक सैक्टर-29 मे बृज शंकर निवासी सिवाह पानीपत ने अपने साथ हुई ऑनलाइन ठगी की वारदात के बारे में शिकायत देकर बताया था कि उसके पास 23 अक्टूबर को शाम करीब 4:50 बजे उसके फोन पर एक अज्ञात नंबर से लिंक आया, जो उस लिंक पर क्लिक करते ही उसके खाते से यूपीआई ट्राजेंक्शन के द्वारा उसके खाते से 70 हजार रूपये निकाल लिए गए हैं. उन्होंने यह बताया कि सारे पैसे पेटीएम के माध्यम से गए हैं.

Deepak kumar
दीपक कुमार, सीआईए-टू प्रभारी ने बताया कि हमें इस गिरोह के 6-7 और सदस्यों की तलाश है.




आरोपियों को गिरफ्तार कर पानीपत लाया गया

सीआईए-टू की एक टीम सब इंस्पेक्टर बलजीत सिंह के नेतृत्व में उपरोक्त वारदात के संबध मे विभिन्न पहलुओं पर गहनता से जांच करते हुए बैंक खाता नंबर के आधार पर आरोपियों का पता लगाते हुए टीम ने 13 दिसंबर को बख्तियारपुर जिला सहरसा बिहार से एक आरोपी राशिद को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने प्रारंम्भिक पूछताछ की तो आरोपी ने गिरोह के सरगना इरफान व अन्य के साथियों के साथ मिलकर ऑनलाइन ठगी करने की वारदात को अंजाम देने की बात स्वीकारी. इसके बाद 15 दिसंबर को सीआईए-टू की टीम ने गिरोह के दो सदस्य नरूल निवासी दुधानी जिला देवघर झारखंड व नदीम निवासी पहलाम जिला सहरसा को दुधानी जिला देवघर झारखंड से काबू किया. गिरोह में शामिल रियाजूदीन निवासी पारोजोरी जिला देवघर झारखंड को 25 दिसंबर को उसके गांव से काबू कर पानीपत लाया गया.

आरोपियों पर पुलिस ने लगाई ये धाराएं

इंस्पेक्टर दीपक कुमार ने बताया कि गिरोह के सरगना इरफान, आमिर, गुडडू व ताजमल निवासी झारखंड के साथ मिलकर वह ऑनलाइन ठगी की वारदातों को अंजाम देते हैं. ये सबसे पहले खाताधारक के मोबाइल पर फोन करके उसके मोबाइल नंबर पर लिंक भेजते हैं और खाते की केवाईसी अपडेट करने की बात बोलकर खाताधारक से ओटीपी नंबर लेकर उनके खाते से सारे पैसे अपने पेटीएम मे ट्रांसफर करने के बाद सभी के खातों मे रुपये ट्रांसफर कर लेते हैं. आरोपियों ने देशभर में विभिन्न राज्यों में करीब 17 लोगोे से ऑनलाइन ठगी करने की वारदातो को अंजाम देने बारे खुलासा किया. आरोपियों के खिलाफ धारा 406, 420 व 120 बी के तहत मुकदमा दर्ज कर कानूनी कार्यवाही शुरू कर दी गई है. आरोपी को माननीय न्यायालय में पेश कर 6 दिन का पुलिस रिमांड लिया गया है.

(पानीपत से सुमित भारद्वाज की रिपोर्ट)

यहां भी पढ़ें: पाकिस्तानी होने के शक में करणी सेना ने 6 को पकड़ा, पुलिस ने छोड़ा तो किया हंगामा

बैंककर्मी के हत्यारे मां-बेटे समेत चार ​गिरफ्तार, पांच दिन पहले हुई थी हत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देवघर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 29, 2019, 5:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,709

     
  • कुल केस

    6,412

     
  • ठीक हुए

    503

     
  • मृत्यु

    199

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 10 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,152,323

     
  • कुल केस

    1,604,718

    +1,066
  • ठीक हुए

    356,660

     
  • मृत्यु

    95,735

    +42
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर