नशे के बाद सट्टेबाजी की आगोश में पानीपत, खाकी की निगरानी में चल रहा करोड़ों का खेल

पानीपत शहर के तहसील कैंप के भूलभुलैया चौक स्थित एक बंद पड़ी फैक्ट्री में हर रोज करोड़ो रुपए का जुआ सरेआम खेला जाता है.

SUMIT KUMAR | News18 Haryana
Updated: August 15, 2019, 12:50 PM IST
नशे के बाद सट्टेबाजी की आगोश में पानीपत, खाकी की निगरानी में चल रहा करोड़ों का खेल
पानीपत में जुए का खेल
SUMIT KUMAR | News18 Haryana
Updated: August 15, 2019, 12:50 PM IST
पानीपत औद्योगिक नगरी जो अपने हैंडलूम उद्योग के दमपर देश ही नहीं विदेशो में भी अपना झंडा बुलंद करती आई है आजकल उसे ग्रहण लगता दिखाई दे रहा है. पानीपत में नशे के कारोबार के बाद अब शहर के युवाओं को सट्टेबाजी ने अपनी आगोश में लेना शुरू कर दिया है. यहां हर दिन करोड़ों की सट्टेबाजी होती है वो भी खाकी की निगरानी में.

बंद पड़ी फैक्ट्री में खेला जाता है जुआ

पानीपत शहर के तहसील कैंप के भूलभुलैया चौक स्थित एक बंद पड़ी फैक्ट्री में हर रोज करोड़ो रुपए का जुआ  सरेआम खेला जाता है. सुबह 11 बजे से शुरू होकर रात 11 बजे तक यह खेल चलता है. इसे पुलिस की लापरवाही कहें या कुछ और कि पुलिस के नाके से महज 200 मीटर दूरी पर ताश के 13 पत्तों पर रोज एक करोड़ से अधिक का जुआ लगाया जाता है.

देसी कैसिनों में चलती है एक लाख तक बाजी

इस देसी कैसिनो में एक बाजी एक लाख तक चली जाती है. यह सब पुलिस की नाक के नीचे हो रहा है. यहां हर रोज किस्मत आजमाने वाले जुआरियों से लेकर करोड़पति मांग पत्ते तक का खेल खेलने के लिए जुटते हैं. न्यूज़18 को कुछ दर्शको ने शहर में जुए का सबसे बड़ा अड्डा चलने की सूचना दी. जिस पर टीम ने लगातार कई दिनों तक न सिर्फ इस सट्टे के खेल पर नजर रखी बल्कि अंदर जाने की भी कोशिश की. पर हर कोशिश नाकामयाब रही.

हर किसी को नहीं मिलती एंट्री

अंत में जब न्यूज़ 18 की टीम फैक्ट्री के अंदर पहुंची तो वहां के आसपास का फिल्मी माहौल देखने को नजर आया. फैक्ट्री के अंदर किसी अनजान आदमी का जाना मुमकिन नहीं था. फैक्ट्री के बाहर सट्टा व्यापारी के एजेंट पहचान वाले आदमियों को ही अंदर भेजते थे और बाहर के माहौल पर पूरी नजर रखते थे. अगर यहां पर लाखों और करोड़ों रुपए का खेल खेलने वाला आपकी पहचान का नहीं है तो अंदर एंट्री नामुमकिन है.
Loading...

अलग-अलग कमरों में खेला जाता है जुआ

फैक्ट्री के अंदर कदम रखते ही वहां खुले में लाखों रुपए की बाजी लग रही थी. आगे वाले वीआईपी कमरे में सिर्फ बड़े जुआरी ही प्रवेश कर पा रहे थे. शर्ते खेल के नियम और हेसियत के हिसाब से तय की गई थी. यहां जुआ खेलने वाले को पुलिस से सुरक्षित रखने के अलावा सभी सुविधाएं इशारों पर मिलती थी और जुआ खेलने वालों के पास नगद के रूप में पैसा होना चाहिए था.

पुलिस कर रही कार्रवाई की बात

न्यूज़ 18 की टीम ने जब इस बारे में एसपी पानीपत से फोन पर बातचीत की तो उन्होंने बताया कि मामला आपके माध्यम से मेरे संज्ञान में आया है और तुरंत इस मामले पर कार्रवाई की जाएगी. वहीं मामले की जानकारी देते हुए डीएसपी सतीश कुमार वत्स ने बताया कि शहर में चल रहे सट्टे की सूचना मिलते ही आरोपियों के ठिकानों पर रेड कर वधावाराम  कॉलोनी भूल भूलैया चोक के पास अवैध रूप से जुआ खेल रहे 15 आरोपियों को 1 लाख 76 हजार रूपये की नगदी सहित काबू करने मे बड़ी कामयाबी हासिल की.

यह भी पढ़ें- मॉब लिन्चिंग केस: पहलू खान के बेटे बोले- ये दिन देखने से पहले हम उनके साथ मर जाते तो...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पानीपत​ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 15, 2019, 12:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...