• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • PANIPAT HOSPITAL IN PANIPAT GAVE COVID DEAD BODY TO FAMILY AFTER 18 DAYS NODELSP

Panipat News: स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही, 18 दिन बाद मिला कोरोना मरीज का शव

कॉंसेप्ट इमेज

पानीपत  में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है. जहां कोरोना पीड़ितों की 18 दिन पहले मौत हो चुकी है. परिजन पानीपत से बिहार अपने घर जाकर मृतक का शोक मना रहे थे, लेकिन अभी तक मृतक का अंतिम संस्कार ही नहीं हुआ.

  • Share this:
    पानीपत. कोरोना वायरस संक्रमण ( corona virus infection) बेकाबू होता दिखाई दे रहा है. इस बीच स्वास्थ्य विभाग ( health department ) की एक बड़ी लापरवाही सामने आई है. लावारिस हो या बिमारी या फिर कोई हादसे में मौत के बाद जल्द दाह संस्कार किया जाता है, लेकिन पानीपत स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना महामारी में कोरोना पीड़ित की मौत के बाद भी 18 दिन शव को शव गृह में रखा. 18 दिन बाद बिहार से वापिस संस्कार में पहुंचे परिजनों ने स्वास्थ्य विभाग पर गंभीर आरोप लगाए हैं. शव की हालत देख जनसेवा दल के सदस्यों ने भी नाराजगी जताई है.

    देश व प्रदेश में कोरोना महामारी के चलते जनता वैसे ही परेशान है. अपने मरीजों के लिए चिंतित है. कोरोना के मरीज के पास किसी परिजन को भी संक्रमण फैलने के चलते जाने की इजाजत नहीं है. अगर किस कोरोना पीड़ित की मौत हो जाए तो ऐसे में परिजनों को नजदीक भी नहीं जाने दिया जाता. पानीपत  में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है. जहां कोरोना पीड़ितों की 18 दिन पहले मौत हो चुकी है. परिजन पानीपत से बिहार अपने घर जाकर मृतक का शोक मना रहे थे, लेकिन अभी तक मृतक का अंतिम संस्कार ही नहीं हुआ. सामान्य अस्पताल के शवगृह में मृतक का शव जिसमें बदबू के साथ कीड़े पनप चुके थे.

    पहले भी विभाग की लापरवाही के चलते 15 दिनों के बाद एक शव ऐसे ही बदहाल अवस्था में मिला था. समाजसेवियों का कहना है कि कि उनके भी बच्चे है और ऐसे में वह भी कोरोना की चपेट में आ सकते हैं. और ऐसे शवों से तो संक्रमण और तेजी से फैलेगा. उन्होंने भी इसे स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही करार दिया. वहीं उस परिवार पर क्या बीत रही होगी जो पिछले 18 दिनों से अपने को खोने का दु:ख मना रहे हैं. अब फिर उनकी आंखों के सामने अपनेे का शव जिसका अभी तक अंतिम संस्कार नहीं हुआ. परिजनों में भी स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के प्रति नाराजगी देखने को मिली.
    Published by:Santosh Kumar Pathak
    First published: