Home /News /haryana /

independence day 2022 cm manohar lal khattar hoists the tiranga in panipat hrrm

Independence Day 2022: सीएम खट्टर ने पानीपत में फहराया तिरंगा, गिनाई सरकार की उपलब्धियां

सीएम ने अपने संबोधन में कहा कि आज हर भारतवासी के लिए हर्षोल्लास का दिन है.

सीएम ने अपने संबोधन में कहा कि आज हर भारतवासी के लिए हर्षोल्लास का दिन है.

75th Independence Day: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि आज हर गली, हर मोहल्ले में तिरंगा है, हर घर हर दफ्तर में तिरंगा है, हर वाहन, हर हाथ में तिरंगा है. पूरा देश तिरंगे के रंगों में रंगा है, देशभक्ति के रंग में रंगा है. रंगा भी क्यों न हो आज हमने स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में 75 वर्ष पूरे कर लिए हैं.

अधिक पढ़ें ...

पानीपत. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पानीपत के समालखा के भापरा स्टेडियम में स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा फहराया. इस दौरान उन्होंने परेड की सलामी ली. इस दौरान उन्होंने सरकार की उपलब्धियां भी गिनवाई. सीएम ने अपने संबोधन में कहा कि आज हर भारतवासी के लिए हर्षोल्लास का दिन है. आज हर गली, हर मोहल्ले में तिरंगा है, हर घर हर दफ्तर में तिरंगा है, हर वाहन, हर हाथ में तिरंगा है. पूरा देश तिरंगे के रंगों में रंगा है, देशभक्ति के रंग में रंगा है. रंगा भी क्यों न हो आज हमने स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में 75 वर्ष पूरे कर लिए हैं. इस अवसर पर मैं सभी प्रदेशवासियों को बारम्बार बधाई देता हूं.

सीएम खट्टर ने कहा कि मैं इस पावन अवसर पर स्वतंत्रता की बलिवेदी पर अपने प्राणों की आहुति देने वाले सभी ज्ञात-अज्ञात शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि देता हूं. साथ ही, उन वीर सैनिकों को भी सलाम करता हूं, जिन्होंने आजादी के बाद देश की एकता व अखण्डता की खातिर अपने प्राण न्योछावर कर दिए. सन 1857 की क्रांति सबसे पहले अम्बाला छावनी से शुरू हुई थी. यहां से उठी चिंगारी ने न केवल प्रथम स्वतंत्रता संग्राम का रूप धारण कर ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन का अंत किया, बल्कि आगे चलकर ऐसा जन-आन्दोलन खड़ा कर दिया, जिसके बलबूते पर हम सन 1947 में अंग्रेजी हुकूमत को उखाड़ फेंकने में सफल रहे.

सीएम ने कहा कि सन 1857 की क्रांति के दौरान प्रदेश का हर गांव क्रांति का केन्द्र बन गया था. भिवानी का रोहणात गांव, हांसी की लाल सड़क, झज्जर की लाल डिग्गी, महम का आजाद चौक और नसीबपुर व तावडू की लड़ाई अंग्रेजी हुकूमत के जुल्मो-सितम के खिलाफ हरियाणावासियों के संघर्ष और बलिदान के साक्षी है.

सीएम ने कहा कि जो कौमें अपने सेनानियों, अपने शहीदों को याद नहीं रखतीं. उनका अस्तित्व मिट जाया करता है. इसी उद्देश्य से सन 1857 की क्रांति के शहीदों की स्मृतियों को सहेजने के लिए अम्बाला छावनी में शहीदी स्मारक का निर्माण किया जा रहा है। इसका कार्य लगभग पूरा होने वाला है. हरियाणा की माटी के लाल राव तुलाराम ने जिला महेन्द्रगढ़ के नसीबपुर में अंग्रेजों का डटकर मुकाबला किया था. उनकी याद में वहां जल्द ही एक स्मारक बनाया जाएगा.

इसी तरह, रोहणात गांव के शहीदों की याद को ताजा रखने के साथ-साथ इसे आदर्श गांव बनाने के उद्देश्य से हमने ‘रोहणात फ्रीडम ट्रस्ट’ की स्थापना की है. उन्होंने कहा कि बड़े ही गर्व की बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आहवान पर आज पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. इसी कड़ी में नवम पातशाह श्री गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व पर पानीपत में राज्यस्तरीय समारोह आयोजित किया गया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दशम पातशाह श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के साहबजादों जोरावर सिंह और फतेह सिंह के शहीदी दिवस 26 दिसम्बर को हर वर्ष ‘वीर बाल दिवस’ के रूप में मनाने का निर्णय लिया है.


अमर स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाने की पहल भी की है. गौरव का विषय है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 13 से 15 अगस्त तक देशभर में ‘हर घर में तिरंगा’ की अनूठी मुहिम चलाई. सरकार के कार्यकाल में अब तक शहीद सैन्य व अर्ध सैनिक बलों के 347 आश्रितों को अनुकम्पा के आधार पर नौकरी दी गई है. स्वतंत्रता दिवस का यह पावन पर्व अपनी उपलब्धियों का जश्न मनाने के साथ-साथ आत्म-विश्लेषण करने का भी दिन है. यह दिन हमें यह सोचने का अवसर देता है कि 75 वर्ष के इस कालखंड में हमने क्या हासिल किया है.

सीएम ने कहा कि निःसंदेह आजादी के बाद राष्ट्र ने उल्लेखनीय प्रगति की है. हरित क्रांति ने हमें न केवल खाद्यान्न में आत्मनिर्भर बनाया बल्कि उस स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया कि आज हम दूसरे देशों को भी निर्यात कर रहे हैं. आजादी के समय जिस देश में सूई तक नहीं बनती थी. वह आज अपनी उन्नत प्रौद्योगिकी के बल पर मिसाइलें बना रहा है. इससे भी आगे बढकर चंद्रयान और मंगलयान जैसे मिशन चला रहा है. आज देश में रेल और सड़क यातायात का एक मजबूत नेटवर्क मौजूद है. आज कई क्षेत्रों में पूरा विश्व हमारा लोहा मानता है.

सीएम ने कहा कि सेवाओं और योजनाओं का लाभ पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने की जो मुहिम शुरू की थी. वह परिवार पहचान-पत्र तक पहुंच चुकी है। इसके तहत सभी परिवारों के परिवार पहचान-पत्र बनाए जा रहे हैं. इस एकमात्र दस्तावेज से सभी योजनाओं और सेवाओं का लाभ अब पात्र व्यक्ति को घर बैठे ही मिलने लगा है. परिवार पहचान पत्र के पोर्टल से सभी योजनाओं व सेवाओं को साथ जोड़ा जा रहा है. इस वर्ष अधिकांश सरकारी सेवाएं इस पोर्टल के जरिये ऑनलाइन मिलनी शुरू हो जाएंगी. इस पर जन्म-मृत्यु का डेटा भी ऑटो अपडेट होगा.

युवाओं की शिक्षा, कौशल व बेरोजगारी का डेटा भी इस पोर्टल पर डाला गया है. पीले राशन कार्ड बनाने का काम भी परिवार पहचान पत्र के माध्यम से किया जा रहा है. शुरुआत में जिला सिरसा व कुरुक्षेत्र में यह योजना पायलट आधार पर शुरू की गई है. यदि कोई व्यक्ति वृद्धावस्था पेंशन के लिए निर्धारित आयु पूरी कर लेता है तो अब उसे अपनी पेंशन बनवाने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर नहीं काटने पड़ते. परिवार पहचान पत्र के माध्यम से उसकी पेंशन अपने-आप शुरू हो जाती है.

सीएम ने कहा कि सरकार ने सबसे गरीब लोगों का जीवन स्तर ऊंचा उठाने के लिए ‘मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना शुरू की है. इसके तहत सबसे गरीब परिवारों की पहचान करके उनकी वार्षिक आय कम से कम 1.80 लाख रुपये की जा रही है. अब तक 30 हजार परिवारों को रोजगार के लिए ऋण व अन्य सहायता दी है. गरीब परिवारों को ‘मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के तहत 6 हजार रुपये वार्षिक सहायता दी जा रही है. प्रदेश में सभी तरह की सामाजिक सुरक्षा पेंशन 1 अप्रैल, 2021 से बढ़ाकर 2500 रुपये मासिक की गई हैं.

बाढ़सा के एम्स परिसर में राष्ट्रीय कैंसर संस्थान स्थापित किया गया है. जिला रेवाड़ी में भी एम्स के निर्माण की प्रक्रिया चल रही है. अम्बाला छावनी के सिविल अस्पताल में टरशरी कैंसर केयर सेंटर (टी.सी.सी.सी.) की स्थापना की गई है. प्रदेश में समान विकास की दृष्टि से सरकार का लक्ष्य हर जिले में मेडिकल कॉलेज व 200 बैड का अस्पताल खोलना है. कलस्टर अप्रोच के तहत सभी क्षेत्रों में पर्याप्त संख्या में स्कूल और 20 किलोमीटर के दायरे में एक कॉलेज खोला गया है.

Tags: 75th Independence Day, Haryana news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर