Home /News /haryana /

शहीदों की याद में कवि सम्मेलन, राजनेताओं पर जमकर कटाक्ष

शहीदों की याद में कवि सम्मेलन, राजनेताओं पर जमकर कटाक्ष

आज आजाद देश में सांस लेने के लिए हम अपने शहीदों को याद कर रहे हैं। भिवानी में शहीदों की शहादत को सलाम करने के लिए राष्ट्रीय कवि सम्मेलन कराया गया, जिसमें कवियों ने अपनी कविताओं के माध्यम से शहीदों को सलाम कर देश के नेताओं पर सीमा पर होने वाले हमलों तथा भगत सिंह के लिए भारत रत्न की मांग पर सियासत को लेकर कटाक्ष किया गया।

आज आजाद देश में सांस लेने के लिए हम अपने शहीदों को याद कर रहे हैं। भिवानी में शहीदों की शहादत को सलाम करने के लिए राष्ट्रीय कवि सम्मेलन कराया गया, जिसमें कवियों ने अपनी कविताओं के माध्यम से शहीदों को सलाम कर देश के नेताओं पर सीमा पर होने वाले हमलों तथा भगत सिंह के लिए भारत रत्न की मांग पर सियासत को लेकर कटाक्ष किया गया।

आज आजाद देश में सांस लेने के लिए हम अपने शहीदों को याद कर रहे हैं। भिवानी में शहीदों की शहादत को सलाम करने के लिए राष्ट्रीय कवि सम्मेलन कराया गया, जिसमें कवियों ने अपनी कविताओं के माध्यम से शहीदों को सलाम कर देश के नेताओं पर सीमा पर होने वाले हमलों तथा भगत सिंह के लिए भारत रत्न की मांग पर सियासत को लेकर कटाक्ष किया गया।

अधिक पढ़ें ...
आज आजाद देश में सांस लेने के लिए हम अपने शहीदों को याद कर रहे हैं। भिवानी में शहीदों की शहादत को सलाम करने के लिए राष्ट्रीय कवि सम्मेलन कराया गया, जिसमें कवियों ने अपनी कविताओं के माध्यम से शहीदों को सलाम कर देश के नेताओं पर सीमा पर होने वाले हमलों तथा भगत सिंह के लिए भारत रत्न की मांग पर सियासत को लेकर कटाक्ष किया गया।

शहीद स्मृति सभा के राष्ट्रीय कवि सम्मेलन का आयोजन का शुभारंभ महंत चरण दास व नगर विधायक घनश्याम सर्राफ ने किया। कवि सम्मेलन में राष्ट्रकवि रमेश रमण विशेष तौर पर पहुंचे थे, जिन्होंने इस सम्मेलन को युवाओं के नाम बताया। सम्मेलन में कवियों के निशाने पर राजनेता रहे, जिन्होंने शहीदों पर भी समय-समय पर सियासत की है।

कवियों ने अपनी कविता में भारत माता व शहिदों को सलाम करते हुए कहा कि ये देश शहीदों की शहादत पर ही टिका है। चीन व पाकिस्तानी हमलों पर भी कवियों ने कटाक्ष किया और अपनी कविता के माध्यम से बताया कि हमारे देश के रखवाले सैनिकों को आजाद कर दिया जाए तो वे दुश्मन को सबक सिखा सकते हैं।

कवियों ने नेताओं से भगत सिंह को भारत रत्न देने पर सियासत न करने की भी अपने ही अंदाज में सलाह दी। कवियों के निशाने पर देश में जनता द्वारा नकारी गई कांग्रेस भी रही।

आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर