अपना शहर चुनें

States

Kisan Aandolan: पानीपत टोल प्लाजा पर किसानों के लिए लगवाए गए लंगर को प्रशासन ने हटवाया

प्रशासन के कहने पर किसानों ने सामान समेट लिया है
प्रशासन के कहने पर किसानों ने सामान समेट लिया है

Kisan Aandolan: किसानों का दिल्ली से वापसी आना अभी भी जारी है और पानीपत जीटी रोड का टोल फ्री है.

  • Share this:
पानीपत. बीते करीब 40 दिनों से किसानों (Farmers) के लिए लगाई गई लंगर सेवा को हटा दिया गया. जिला प्रशासन ने दिल्ली में हुए उपद्रव के बाद एहतियात के तौर पर इसे हटाने के आदेश दिए हैं. दिल्ली से आने-जाने वाले किसानों के लिए दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाईवे (National Highway) पर पानीपत टोल पर किसानों की सेवा के लिए लंगर व अन्य सुविधाएं मुहैया करवाई जा रही थी. पुलिस प्रशासन के आदेशों के बाद खुद सेवादारों ने शांतिपूर्वक आदेश की पालना की और अपने सामान को समेटना शुरू कर दिया.

किसान स्वरूप सिंह ने कहा कि भले ही दिल्ली में हुई कुछ घटनाओं ने किसान आंदोलन का रूप बदल दिया हो लेकिन इतनी बड़ी तादाद में किसानों की दिल्ली में कैजुअलिटी ना के बराबर होना इस बात की सबूत है कि किसानों ने ना सिर्फ शांतिपूर्वक आंदोलन किया, बल्कि आंदोलन के बाद बड़े ही शांत ढंग से अपने घरों में वापसी की. किसान सैंकड़ों किलोमीटर भूखे-प्यासे रहकर ट्रैक्टरों को शांति से अपने घरों को ले जा रहे हैं. कहीं पर रास्ते मे हुड़दंग बाजी नहीं की. हर पल सैंकड़ों की संख्या में दिल्ली-अमृतसर राष्ट्रीय राजमार्ग पर 26 जनवरी की शाम से ही ट्रेक्टरों की कतारें देखी जा रही हैं.





किसानों ने सामान समेटा
हरियाणा के किसानो ने इन्ही किसानों की सेवा में टोल प्लाजा पर लंगर सेवा लगाई हुई थी, जिसे अब प्रशासन ने हटवा दिया है. पुलिस के मौखिक आदेश पर ही किसानों ने आदेशों की पालना की. किसानों ने बिना किसी विरोध के अपना सामान समेटना शुरू कर दिया. हालांकि लंगर सेवा में आये कुछ किसानों ने इसे गलत जरूर बताया.

किसानों की सुध लेने वाला कोई नहीं

फिलहाल किसानों का दिल्ली से वापसी आना अभी भी जारी है और पानीपत जीटी रोड का टोल फ्री है. लेकिन देशभर के लोगों का पेट भरने वाले भूखे-प्यासे इस अन्नदाता की कम्पकम्पाती हुई इस ठंड में सुध लेने वाला कहीं कोई दिखाई नहीं दे रहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज