पानीपत: मां-बेटी की हत्या कर पड़ोसी ने थाने में दी सूचना, पुलिस के सामने फूट-फूट कर रोया
Panipat News in Hindi

पानीपत: मां-बेटी की हत्या कर पड़ोसी ने थाने में दी सूचना, पुलिस के सामने फूट-फूट कर रोया
पुलिस गिरफ्त में आरोपी

पुलिस (Police) ने सुलझाया पानीपत का डबल मर्डर (Double murder) केस. 4 आरोपियों को किया गिरफ्तार.

  • Share this:
पानीपत. इंद्रा विहार कॉलोनी में मां-बेटी की हत्या (Murder) के मामले को पुलिस ने सुलझा लिया है. पुलिस ने आरोपी पड़ोसी (Neighbor) और उसे साथियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया है. 46 वर्षीय रानी के करीब एक करोड़ की कीमत के 900 गज के प्लॉट को हथियाने की पड़ोसी भीम सिंह और मोहित की नीयत थी. इसी वजह से उन्होंने दो साथियों के साथ मिलकर रानी और उसकी 16 वर्षीय बेटी अंजली को चाकुओं से गोद कर हत्या कर दी.

डीएसपी सतीश वत्स ने जानकारी देते हुए बताया कि इंद्रा कॉलोनी की रहने वाली रानी और उसकी बेटी गीता की 17 जुलाई को हत्या कर दी थी. इस मामले की जांच सीआईए कर रही थी. पुलिस ने इस मामले में रानी के पड़ोसी भीम को गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ में भीम ने गुनाह कबूल लिया. उसने बताया कि इस वारदात को अपने दाेस्त मोहित, विपिन और सुमित के साथ मिलकर अंजाम दिया था.

डीएसपी ने बताया कि आरोपी भीम ने पूछताछ में बड़ा खुलासा किया. उसने बताया कि दोस्त अंकुश अपनी मां के प्रेमी ईदरीश का घर में रहना पसंद नहीं करता था. उसने ईदरीश के साथ अपनी मां और बहन की हत्या की योजना भी बनाई थी. अंकुश के साथ विपिन भी शामिल था. अंकुश की मां के नाम 900 गज का प्लॉट था, जिसकी कीमत करीब डेढ़ करोड़ रुपए थी. वह प्लॉट अपने नाम करवाना चाहता था. इसलिए वह मां और बहन की हत्या करना चाहता था.



6 जुलाई की रात को अंकुश ने ईदरीश की गला रेत कर हत्या कर दी. मां और बहन उस दिन बच गई. पुलिस ने दो दिन बाद अंकुश को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. महिला के बेटे के जेल में जाने के बाद अब केवल घर में महिला और उसकी बेटी बची थी. महिला के पास 900 गज का एक प्लॉट था, आरोपियों की इस प्लॉट पर नजर थी.
ऐसे में पड़ोंसी ने मौके का फायदा उठाकर अपने साथियों के साथ मिलकर महिला और बेटी की गला रेतकर हत्या कर दी. पुलिस को शक न हो इसलिए भीम सिंह ने पुलिस कर्मचारियों के साथ मिलकर मां-बेटियों के शवों को सामान्य अस्पताल में भी ले गया और रोया भी. शोक जताने आए रिश्तेदारों से भी मिलता रहा.

सीआइए-वन जांच के लिए कई बार रानी के घर पहुंची तो उनसे भी बातचीत करता रहा।.अब भीम सिंह, उसका दोस्त व रानी का पड़ोसी मोहित, ढेहा बस्ती का विपिन और इसी कॉलोनी का सुमरित सीआइए-वन की गिरफ्त में हैं. 18 अगस्त की शाम को चारों आरोपित हरिद्वार भागने की फिराक में थे. उन्हें सेक्टर छह की फाटक के पास से गिरफ्तार कर अदालत में पेश कर तीन दिन का रिमांड लिया गया.

भीम सिंह ने देहरादून, विपिन ने गाजियाबाद, मोहित ने जालंधर व सुमरित ने राजस्थान के चितौड़गढ़ में चाकू छिपा रखे हैं. रिमांड के दौरान आरोपितों की निशानदेही पर वारदात में इस्तेमाल चाकू व कपड़े बरामद किए जाएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज