Home /News /haryana /

बलात्‍कार आरोपी को पंचायत ने सुनाई पांच जूते मारने की सजा

बलात्‍कार आरोपी को पंचायत ने सुनाई पांच जूते मारने की सजा

जिले के भगवानपुर गांव में एक गरीब और दलित युवती से रेप करने के मामले में पंचायत ने अजीबोगरीब सजा सुनाई है। यहां पंचायत द्वारा आरोपी को पांच जूते मारकर फैसला निपटा दिया गया। जानकारी के मुताबिक दुष्कर्म की घटना 25 मार्च की है। युवती ने परिजनों को आपबीती सुनाई तो घरवाले सकते में आ गए। बाद में बदनामी के डर से युवती को चुप रहने को कहा गया, लेकिन युवती ने गुनहगार को सजा दिलाने की ठानी। इसके बाद युवती ने इसकी शिकायत पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने अगले दिन आने को कहा।

जिले के भगवानपुर गांव में एक गरीब और दलित युवती से रेप करने के मामले में पंचायत ने अजीबोगरीब सजा सुनाई है। यहां पंचायत द्वारा आरोपी को पांच जूते मारकर फैसला निपटा दिया गया। जानकारी के मुताबिक दुष्कर्म की घटना 25 मार्च की है। युवती ने परिजनों को आपबीती सुनाई तो घरवाले सकते में आ गए। बाद में बदनामी के डर से युवती को चुप रहने को कहा गया, लेकिन युवती ने गुनहगार को सजा दिलाने की ठानी। इसके बाद युवती ने इसकी शिकायत पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने अगले दिन आने को कहा।

जिले के भगवानपुर गांव में एक गरीब और दलित युवती से रेप करने के मामले में पंचायत ने अजीबोगरीब सजा सुनाई है। यहां पंचायत द्वारा आरोपी को पांच जूते मारकर फैसला निपटा दिया गया। जानकारी के मुताबिक दुष्कर्म की घटना 25 मार्च की है। युवती ने परिजनों को आपबीती सुनाई तो घरवाले सकते में आ गए। बाद में बदनामी के डर से युवती को चुप रहने को कहा गया, लेकिन युवती ने गुनहगार को सजा दिलाने की ठानी। इसके बाद युवती ने इसकी शिकायत पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने अगले दिन आने को कहा।

अधिक पढ़ें ...
    जिले के भगवानपुर गांव में एक गरीब और दलित युवती से रेप करने के मामले में पंचायत ने अजीबोगरीब सजा सुनाई है। यहां पंचायत द्वारा आरोपी को पांच जूते मारकर फैसला निपटा दिया गया। जानकारी के मुताबिक दुष्कर्म की घटना 25 मार्च की है। युवती ने परिजनों को आपबीती सुनाई तो घरवाले सकते में आ गए। बाद में बदनामी के डर से युवती को चुप रहने को कहा गया, लेकिन युवती ने गुनहगार को सजा दिलाने की ठानी। इसके बाद युवती ने इसकी शिकायत पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने अगले दिन आने को कहा।

    इसी बीच आरोपी के रिश्तेदार युवती के घर पहुंचे और मामले को सुलझाने की दलील देते हुए युवती के घरवालों को मनाने लगे। जब बात नहीं बनी तो अगले दिन गांव में पंचायत की गई। इस पंचायत में लड़की ने कहा कि जो कानून न्याय देगा वो उसे मंजूर होगा। इसके बाद फिर लड़की थाने गई औऱ पुलिस ने फिर से अगले दिन आने की बात कही। इसी बीच 28 मार्च को गांव में पंचायत बुलाई गई और आरोपी को पांच जूते मारने की सजा सुनाकर मामला निपटा दिया।

    क्या कहते हैं सरपंच ?
    जब इस बारे में सरपंच से पूछा गया तो उन्होंने माना की यह घटना हुई है। सरपंच ने कहा कि लड़की के भविष्य को देखते हुए ये फैसला लिया गया है।

    क्या कहते हैं चौकी इंचार्ज ?
    इस बार में जब चौकी इंचार्ज से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि लड़की से रेप की शिकायत तो मिली लेकिन दोनों पक्षों में समझौता हो गया है।

    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर