लाइव टीवी

RTI से बड़ा खुलासा: 'राहगिरी' के लिए DGP ने भेजे ₹6.40 लाख, SP को मिले सिर्फ 2.30 लाख
Panipat News in Hindi

News18 Haryana
Updated: February 17, 2020, 5:14 PM IST
RTI से बड़ा खुलासा: 'राहगिरी' के लिए DGP ने भेजे ₹6.40 लाख, SP को मिले सिर्फ 2.30 लाख
राहगिरी के लिए डीजीपी ने 6.40 लाख रुपये भेजे लेकिन एसपी तक 2.30 लाख ही पहुंचे।

पानीपत एसपी (Panipat SP) को राहगिरी (Rahagiri) कार्यक्रम के लिए 6.40 लाख रुपये भेजे गए जबकि एसपी पानीपत कार्यालय कुल 2.30 लाख रुपये की राशि मिलने की बात बता रहा है. अब सवाल यह उठता है कि फिर 4. 10 लाख रुपये कौन डकार गया?

  • Share this:
पानीपत. सीएम मनोहर लाल खट्टर (CM Manohar Lal Khattar)  के ऐलान के तहत पानीपत जिले में पिछले 2 वर्षों से जारी राहगिरी (Rahagiri) कार्यक्रम के बारे जिला पुलिस ने चौंकाने वाली सूचना दी है. डीजीपी कार्यालय (DGP Office) से पानीपत एसपी को राहगिरी कार्यक्रम के लिए 6.40 लाख रुपये भेजे गए जबकि एसपी पानीपत कार्यालय कुल 2.30 लाख रुपये की राशि मिलने की बात बता रहा है. अब सवाल यह उठता है कि फिर 4. 10 लाख रुपये कौन डकार गया? जिला प्रशासन 16 कार्यक्रम कर चुका है लेकिन जिला पुलिस को अभी यह नहीं पता कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य व औचित्य क्या है? ना ही ये पता है कि इसका संचालन कौन कर रहा है? सबसे दिलचस्प है कि हर कार्यक्रम में डीजे, स्टेज, माइक, जनरेटर, डांस कार्यक्रम, बैंड, ढोल, पेंटिंग, नुक्कड़ नाटक आदि कार्यक्रम होते हैं, लेकिन इन पर प्रशासन का एक रुपया भी खर्च नहीं हुआ तो फिर ये खर्चा करता कौन है?

दो वर्षों से चलाई जा रही राहगिरी कार्यक्रम

आरटीआई एक्टिविस्ट पीपी कपूर ने बताया कि पिछले 2 वर्षों से जिला प्रशासन द्वारा राहगिरी कार्यक्रम किए जा रहे हैं. इसमें डीसी, एसपी सहित जिला प्रशासन के तमाम प्रमुख अधिकारी शामिल होते हैं. इस बारे में उन्होंने 23 अप्रैल 2019 को एसपी कार्यालय में 11 सूत्रीय आरटीआई लगाई थी. राज्य सूचना अधिकारी एवं डीएसपी (मुख्यालय) ने पहले तो भ्रामक व गोलमोल जवाब थमाकर टरकाना चाहा, लेकिन राज्य सूचना आयोग में मामला पहुंचने पर 30 जनवरी व 7 फरवरी 2020 के पत्रों द्वारा डीएसपी (मुख्यालय) सतीश वत्स ने चौंकाने वाली सूचनाएं दी हैं.

रा​हगिरी कार्यक्रम के उद्देश्यों के बारे में इन्हें नहीं है जानकारी



राहगिरी कार्यक्रम के उद्देश्य व औचित्य के बारे डीएसपी (मुख्यालय) सतीश वत्स ने बताया कि इस सूचना का उनके पास कोई रिकॉर्ड नहीं है. यह कार्यक्रम जनता अपने बूते करती है. पुलिस द्वारा सिर्फ कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए ड्यूटी दी जाती है. डीजीपी कार्यालय से 23 अप्रैल 2019 को मिले 2.30 लाख रुपये में से कोई पैसा खर्च नहीं किया गया. राहगिरी की संचालन कमेटी व इसके सदस्यों का भी कोई रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं है. इस कार्यक्रम की कार्रवाई रजिस्टर व मीटिंगों के निर्णयों के बारे में कोई सूचना होने से मना किया है.

पानीपत जिले में राहगिरी कार्यक्रम 16 मई 2018 से जारी

जिले में राहगिरी कार्यक्रम 16 मई 2018 से जारी है. मई 2018 से अप्रैल 2019 तक किए गए कुल 16 कार्यक्रमों में कुल करीब एक लाख लोगों के शामिल होने का दावा जिला पुलिस ने किया है. इस कार्यक्रम को करने का कोई आदेश पत्र रिकॉर्ड में मौजूद नहीं है. दिनांक 27 नवम्बर 2016 की सीएम घोषणा के तहत कार्यक्रम किए जा रहे हैं.

कार्यक्रम पर प्रशासन का नहीं हुआ एक भी पैसा खर्च

कपूर ने आरोप लगाया कि इन राहगिरी कार्यक्रमों में प्रशासन का एक भी पैसा खर्च नहीं होने के दावों से स्पष्ट है कि इसमें भ्रष्टाचारियों का पैसा खर्च हो रहा है. डीजीपी द्वारा एसपी को 6.40 लाख रुपये भेजे गए लेकिन एसपी को सिर्फ 2.30 लाख रुपये ही मिले हैं, इसकी जांच होनी चाहिए. इतना ही नहीं, पानीपत राहगिरी को प्रथम पुरस्कार मिलने पर पिछले वर्ष होटल स्वर्ण महल में पार्टी पर खर्च किए लाखों रुपये बारे भी प्रशासन मौन है.

सरकार से मिली ग्रांट में भारी घपला

डीएसपी (मुख्यालय) सतीश वत्स ने अपने 30 जनवरी 2020 के पत्र द्वारा आरटीआई में बताया कि 23 अप्रैल 2019 को उन्हें 2.30 लाख रुपये ग्रांट के बतौर डीजीपी कार्यालय से मिला है. दूसरी ओर डीजीपी कार्यालय ने आरटीआई में बताया कि 27 नवम्बर 2019 के पत्र द्वारा 6.40 लाख रुपये एसपी पानीपत को भेजे जा चुके हैं. आठ अप्रैल 2019 को 2.30 लाख रुपये, 8 जुलाई 2019 को 1.80 लाख व 14 अक्टूबर 2019 को 2.30 लाख रुपये की राशि एसपी पानीपत को दिया गया है. अब सवाल है कि 4.10 लाख रुपये कौन खा गया?

(पानीपत से सुमित भारद्वाज की रिपोर्ट)

यह भी पढ़ें: दादरी की सुरक्षा के लिए लगाए गए 2 मेगा पिक्सल वाले कैमरे, अधिकांश हुए खराब

चिकेन की दुकान में गैस सिलेंडर में लगी आग, बाल-बाल बचा दुकानदार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पानीपत​ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 17, 2020, 4:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर