लाइव टीवी

पेंशनधारी पूर्व सांसदों की संख्या में भारी गड़बड़ी, जेल में बंद 'चौटाला' भी पा रहे हैं पेंशन
Panipat News in Hindi

News18 Haryana
Updated: March 6, 2020, 3:31 PM IST
पेंशनधारी पूर्व सांसदों की संख्या में भारी गड़बड़ी, जेल में बंद 'चौटाला' भी पा रहे हैं पेंशन
आरटीआई के तहत यह खुलासा हुआ है कि पेंशनधारी पूर्व सांसदों की संख्या में गड़बड़ी पाई गई है.

लोकसभा व राज्यसभा सचिवालयों ने पेंशनर (Pensioner) पूर्व सांसदों (Ex MP) की संख्या 4796 बताई है तो पेंशन देने वाले केन्द्रीय पेंशन लेखा विभाग ने यह संख्या मात्र 1470 ही बताई है.

  • Share this:
पानीपत. आरटीआई एक्टिविस्ट पीपी कपूर ने (RTI Activist) यह खुलासा किया है कि पेंशनर लोकसभा व राज्यसभा सांसदों की संख्या में भारी गड़बड़ी पाई गई है. लोकसभा व राज्यसभा सचिवालयों ने पेंशनर पूर्व सांसदों की संख्या 4796 बताई है तो पेंशन देने वाले केन्द्रीय पेंशन लेखा विभाग ने यह संख्याा मात्र 1470 ही बताई है. फिर ये 2618 फर्जी पेंशन लेने वाले पूर्व सांसद कौन हैं. राज्यसभा ने पेंशनर राज्यसभा सांसदों की सूची सार्वजनिक की है. गौरतलब है कि पूर्व सांसदों के पेंशन पर प्रतिवर्ष 70.50 करोड़ रुपये का खर्च आता है. पेंशनरोंं में फिल्मी सितारे, नामी उद्योगपति, बसपा सुप्रीमो, तिहाड़ जेल में बंद पूर्व सीएम ओमप्रकाश चौटाला (Om Prakash Chautala) व उनके पुत्र अजय चौटाला (Ajay Chautala) भी शामिल हैं. देश में पेंशन ठुकराने वाले एक मात्र सांसद तमिलनाडु के एस शरत कुमार हैं.

भ्रष्टाचार के आरोपों में तिहाड़ जेल में कैद हरियाणा के पूर्व सीएम ओमप्रकाश चौटाला 20,000 रुपये और उनके बेटे अजय चौटाला 26,000 रुपये प्रति माह पेंशन प्राप्त कर रहे हैं.

 राशि में एक वर्ष में 21.50 प्रतिशत बढ़ोतरी 



लोकसभा के पेंशनर पूर्व लोकसभा सांसदों की सूची देने से वित्त मंत्रालय ने ​इंकार कर दिया तो लोकसभा सचिवालय ने पेंशनर पूर्व सांसदों का ब्योरा उपलब्ध नहीं होना बताया है. पेंशन राशि में एक वर्ष में 21.50 प्रतिशत बढ़ोतरी हुई है. पेंशनर लोकसभा और राज्यसभा सांसदों पर वर्ष 2017-18 में 58.02 करोड़ रुपये का खर्च आता था, जो बढ़कर वर्ष 2018-19 में बढ़कर 70.50 करोड़ हो गई.



सालाना पेंशन पर 70.50 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं

आरटीआई एक्टिविस्ट पीपी कपूर ने लोकसभा राज्यसभा व वित्त मंत्रालय से आरटीआई में प्राप्त जानकारी के बाद यह जानकारी दी है कि 2178 पूर्व सांसदों की सालाना पेंशन पर 70.50 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं. पेंशनर पूर्व सांसदों की संख्या में भी बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है. दक्षिणी भारतीय फिल्मों के स्टार एस शरत कुमार इकलौते पूर्व सांसद हैं, जिन्होंने स्वेच्छा से पेंशन लेने से इंकार कर दिया. पेंशनर पूर्व सांसदों में नामी फिल्मी सितारे, उद्योगपति व सभी दलों के प्रमुख नेता शामिल हैं.

पेंशन पाने वाले पूर्व सांसदों की संख्या में भारी फर्जीवाड़ा

लोकसभा सचिवालय के उपसचिव के. सोना ने अपने 31 दिसम्बर 2019 के पत्र द्वारा लोकसभा पेंशन भोगी पूर्व सांसदों की संख्या 3580 व पारिवारिक पैंशनरों की संख्या 269 सहित कुल संख्या 3849 बताई है. वहीं वित्त मंत्रालय के तहत केन्द्रीय पेंशन लेखा कार्यालय के जनसूचना अधिकारी विनोद कुमार ने अपने 18 दिसम्बर 2019 के पत्र द्वारा यह संख्या सिर्फ 1470 बताई है. पेंशन भोगियों की संख्या के इस फर्जीवाड़े के विरूद्ध कपूर द्वारा अपील करने पर केन्द्रीय वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ लेखा अधिकारी जे रघुरामन ने अपने 3 जनवरी 2020 के पत्र द्वारा व लोकसभा सचिवालय के एडिशनल सैक्रेटरी गणपति भट्ट ने अपने 14 फरवरी 2020 के पत्र द्वारा अपने-अपने दावों को ही सही बताया है. इतना ही नहीं पेंशन भोगी पूर्व लोकसभा सांसदों के नामों की सूची व इन्हें दी जा रही मासिक पेंशन का ब्यौरा देने को कोई तैयार नहीं है.

पेंशन लेखा कार्यालय ने ब्योरा देने से किया मना

लोकसभा सचिवालय ने पेंशनभोगी सांसदों की सूची केन्द्रीय पेंशन लेखा कार्यालय में होने की बात कहकर पल्ला झाड़ लिया. वहीं केन्द्रीय पेंशन लेखा कार्यालय ने बताया कि यह ब्योरा देना संभव नहीं है, जबकि राज्यसभा सचिवालय ने राज्यसभा के सभी पेंशन भोगी पूर्व सांसदों की सूची व मासिक पेंशन के ब्यौरे की सूचना दे दी है. लेकिन यहां भी घपला है. केन्द्रीय पेंशन लेखा कार्यालय के केन्द्रीय जनसूचना अधिकारी विनोद कुमार ने अपने 23 दिसम्बर 2019 के पत्र द्वारा राज्यसभा के पेंशनर पूर्व सांसदों की संख्या 708 बताई है तो दूसरी ओर राज्यसभा सचिवालय के निर्देशक पी. नारायणन ने अपने 19 दिसम्बर 2019 के पत्र द्वारा यह संख्या 508+219= 847 बताई है. कपूर ने आरोप लगाया कि लोकसभा व राज्यसभा के पैंशनर पूर्व सांसदों की संख्या में भारी अन्तर व इनके नामों, पेंशन के ब्यौरे को सार्वजनिक ना करना किसी बड़े फर्जीवाड़े का सूचक है. इसकी जांच होनी चाहिए.

पेंशन भोगी पूर्व राज्यसभा सांसद

फिल्म एक्ट्रेस रेखा 27,000 रुपये, वैजयंतीमाला 39,000 रुपये, नामी उद्योगपति संजय डालमिया 25, 000 रुपये, राहुल बजाज 25,000 रुपये, फिल्म स्टार चिरंजीवी 27,000 रुपये, पूर्व सेना अध्यक्ष शंकर राय चौधरी 27,000 रुपये, आरबीआई के पूर्व गर्वनर विमल जालान 27,000 रुपये मासिक पेंशन ले रहे हैं. सर्वाधिक मासिक पेंशन कांग्रेस के पूर्व राज्य सभा सांसद डॉ. कर्ण सिंह 89,000 रुपये ले रहे हैं. पेंशनरों में पी.जे. कुरियन 79,000 रुपये, बसपा सुप्रीमो मायावती 47,000 रुपये, माकपा महासचिव सीताराम येचुरी 39,000 रुपये, पूर्व केन्द्रीय कानून मंत्री शांतिभूषण 25,000 रुपये, एचएस हंसपाल 39,000 रुपये, मोहसिना किदवई 61,000 रुपये, राजीव शुक्ला 51,000 रुपये, मणिशंकर अय्यर 55,000 रुपये, बलबीर पुंज 39,000 रुपये, तरूण विजय 27,000 रुपये, सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता आरके आनंद 27,000 रुपये, एडुअर्डो फलेरिया 61,000 रुपये, सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता फाली एस नरीमन 27,000 रुपये मासिक पेंशन ले रहे हैं.

 

ये है पेंशन का नियम

पूर्व सांसद पांच वर्षों की सेवा के लिए प्रतिमाह न्यूनतम 25,000 रुपये पेंशन लेने के व पांच वर्ष से अधिक की अवधि के लिए प्रत्येक वर्ष की सेवा के लिए 2000 रुपये प्रतिमाह अतिरिक्त पेंशन के हकदार होते हैं.

(पानीपत से सुमित भारद्वाज की रिपोर्ट)

यह भी पढ़ें: हरियाणा के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री मांगे राम गुप्ता का निधन

बीए की छात्रा को सुनसान जगह ले जाकर किया था रेप, कोर्ट ने सुनाई 14 साल की सजा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पानीपत​ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 6, 2020, 12:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading