Panipat : काम की तलाश में आए दो दो नाबालिगों को चोर समझकर पीटा, एक की जान गई

बाइक चोर समझकर दो नाबालिगों को पीटा जिसमें एक की मौत हो गई. (सांकेतिक तस्वीर)
बाइक चोर समझकर दो नाबालिगों को पीटा जिसमें एक की मौत हो गई. (सांकेतिक तस्वीर)

पिटाई के दौरान एक नाबालिग छूटकर भाग गया. युवकों ने दूसरे नाबालिग से कॉल कराई और कहा कि उसे छोड़ दिया गया है, वापस आ जाओ. जब वह लौटा तो दोनों के हाथ-पांव बांधकर रॉड व डंडों से पीटा गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 4:50 PM IST
  • Share this:
सुमित भारद्वाज

पानीपत. पानीपत (Panipat) की खटीक बस्ती में दो नाबालिगों (Minor) को चोर समझकर लोगों ने पीट डाला. इस पिटाई से एक नाबालिग की मौत (Death) हो गई. पुलिस ने 14 लोगों के खिलाफ हत्या (Murder) का मामला दर्ज (FIR) किया है. पुलिस की दो टीमें आरोपियों की तलाश कर रही है. मृतक के भाई ने रोते हुए कहा कि भाई को चोर समझकर मार डाला. जबकि वह तो काम की तलाश में आया था.

मंगलवार की रात हुई वारदात



यह मामला मंगलवार आधी रात के बाद तकरीबन 2:30 बजे का है. खटीक बस्ती के कई लोगों ने बताया कि दो नाबालिग संदिग्ध हालात में गली में घूम रहे थे. इन्होंने ने एक घर के बाहर खड़ी बाइक का ताला तोड़ने का प्रयास किया. गली के कई युवकों ने दोनों को पकड़ कर पीटा. इनमें से एक चंगुल से छूटकर भाग गया. युवकों ने दूसरे नाबालिग से कॉल कराई और कहा कि उसे छोड़ दिया गया है, वापस आ जाओ. जब वह लौटा तो दोनों नाबालिगों के हाथ-पांव बांधकर रॉड व डंडों से पीटा गया. मरने वाला अजय (17) झिंझाना यूपी का रहने वाला था. फिलहाल वह शामली यूपी के वेदखेड़ी गांव में रहता था. पुलिस ने अजय के शव का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सौप दिया है.
12वीं में पढ़ता था

अजय के बड़े भाई राहुल ने बताया कि वे गाड़ी चलाता हैं. वे दो भाई व दो बहन हैं. छोटा भाई अजय 12वीं कक्षा में पढ़ता था. 12 सितंबर को अजय को उसका दोस्त सौरभ पानीपत में फैक्ट्री में काम दिलाने आया था. 13 सितंबर को दोनों घर लौट गए और 14 सितंबर को फिर पानीपत लौट आए. 15 की शाम 4 बजे दोनों के मोबाइल फोन बंद हो गए. इसके बाद से उसने भाई की तलाश शुरू की. 17 सितंबर की सुबह 9:30 बजे बस अड्डा के कर्मचारी ने राहुल को बताया कि अजय की हत्या हो गई है. शव अस्पताल में है. वह करीब 10:15 बजे अस्पताल पहुंचा, लेकिन वहां सौरभ नहीं मिला. उसका फोन भी बंद था. दो घंटे तक राहुल बदहवास घूमता रहा. इसके बाद सौरभ ने उसके घर फोन कर बताया कि वह बस अड्डा चौकी में है. तब राहुल बस अड्डा पुलिस चौकी गए और सौरभ को साथ लेकर अस्पताल पहुंचे. वहां पर शव की शिनाख्त की.

हत्यारों की पहचान की जा रही

मामले की जानकारी देते हुए डीएसपी सतीश ने बताया कि पुलिस द्वारा मृतक के भाई की शिकायत पर 14 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. पुलिस का कहना है कि फिलहाल हत्या करने वाले युवकों की पहचान की जा रही है और जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज