6 साल से पुष्पा नाम की दो महिलाओं का चल रहा था एक बैंक खाता, एक जमा करवाती पैसे तो दूसरी निकाल ले जाती
Panipat News in Hindi

6 साल से पुष्पा नाम की दो महिलाओं का चल रहा था एक बैंक खाता, एक जमा करवाती पैसे तो दूसरी निकाल ले जाती
दोनों महिलाओं और उनके पति का नाम एक जैसा था

साल 2014 में दोनों महिलाओं ने जनधन खाते के लिए बैंक (Bank) में आवेदन किया. नाम, पति का नाम और कॉलोनी एक होने के कारण दोनों महिलाओं को एक ही खाते की पासबुक (Passbook) दे दी गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 6, 2020, 9:26 AM IST
  • Share this:
पानीपत. तहसील कैंप एरिया में खुले पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank) के कर्मियों की बड़ी लापरवाही सामने आई है. बैंक कर्मचारियों ने एक ही नंबर से अलग-अलग दो महिलाओं के खाते खोल दिए. अब एक महिला अपने खाते में रकम जमा कराती थी और दूसरी अपने पैसे समझकर निकासी कर रही थी. इस दौरान रकम जमा करा रही महिला जब अपने पति के साथ पैसे निकालने आई तो खाते में रकम ही नहीं थी. इसके बाद पूरे मामले का भेद खुला. उन्होंने बैंक मैनेजर से इसकी शिकायत की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. जिसके बाद उन्होंने बैंक और रकम निकालकर ले गए दंपति के खिलाफ शिकायत दी है.

वधावा राम कॉलोनी निवासी पुष्पा पत्नी नरेश ने बताया कि उन्होंने वर्ष 2014 में तहसील कैंप स्थित पंजाब नेशनल बैंक में अपना खाता खुलवाया था. जिसमें उन्होंने अपनी ननंद सुदेश का नंबर दिया था. फोन चोरी होने की वजह से उनके पास कोई मैसेज नहीं आते थे. उन्होंने बैंक में कई बार पैसे डलवाए, लेकिन लॉकडाउन में पैसों की जरूरत पड़ने पर वह बैंक से पैसे निकलवाने गई तो खाता खाली मिला. उन्होंने अकाउंट चेक कराया तो पता चला कि पुष्पा पत्नी नरेश निवासी वधावा राम कालोनी के नाम से एक दूसरा खाता भी खुला हुआ है, जिसका अकाउंट नंबर भी एक ही है. दोनों का अकाउंट नंबर एक होने की वजह से दूसरे दंपती ने पैसे निकाल लिए, जिसके बाद उन्होंने बैंक की मैनेजर नीतू सिंह से शिकायत की. उन्होंने खाता चेक कराने का आश्वासन दिया, लेकिन पांच माह बीत जाने के बावजूद भी बैंक ने कोई कार्रवाई नहीं की.

ऐसे हुआ खुलासा
लॉकडाउन में प्रधानमंत्री ने महिलाओं के जन धन योजना के खाते से तीन माह तक 500-500 रुपये प्रतिमाह देने की स्कीम चलाई थी. सभी के खाते में मार्च माह के 500 रुपये आ गए थे. वहीं जब वह अपने पैसे निकलवाने बैंक में पहुंची तो पता चला कि उनके खाते से यह पैसे निकल चुके हैं. इन पैसों के अलावा उनके खाते से 2500 रुपये और निकाले गए हैं. दंपती कुल 3000 हजार रुपये निकाल कर ले गया है.
एलडीएम के पास पहुंचा मामला


एलडीएम कमल गिरधर ने बताया कि 2014 में दोनों महिलाओं ने जनधन खाते के लिए बैंक में आवेदन किया. नाम, पति का नाम और कॉलोनी एक होने के कारण मानवीय भूल के चलते दोनों महिलाओं को एक ही खाते की पासबुक दे दी. तब से दोनों खाते में छोटा-छोटा लेन देन कर रही थीं. एक बार में 5 हजार से ज्यादा रुपए का लेनदेन नहीं हुआ. छोटा अमाउंट होने के कारण कैशियर हस्ताक्षर को पकड़ नहीं पाया। दोनों पक्षों को बुलाया है. अब जांच कर रहे हैं कि किस पर किसका बकाया है. उससे रुपए वापस दिलाए जाएंगे.

बैंक प्रबंधक ने कही जांच की बात
पंजाब नेशनल बैंक की मुख्य प्रबंधक नीतू सिंह का कहना था कि मामला उनके संज्ञान में आया है, दंपति ने उन्हें शिकायत दी है. दंपति की शिकायत लनपर जांच करवाई जा रही है. अभी यह कहना मुश्किल है कि गलती किस स्तर पर हुई है, मामले की जांच करवाई जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज