• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • Haryana Assembly Results 2019: हरियाणा की राजनीति से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का क्या है 24 साल पुराना कनेक्शन?

Haryana Assembly Results 2019: हरियाणा की राजनीति से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का क्या है 24 साल पुराना कनेक्शन?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हरियाणा की राजनीति से पुराना रिश्ता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हरियाणा की राजनीति से पुराना रिश्ता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) अलग-अलग मौकों पर हरियाणा (Haryana) के साथ अपने जुड़ाव को जाहिर करते रहे हैं. राष्ट्रीय राजनीति में एंट्री के बाद छह साल तक वो हरियाणा BJP को मजबूत करते रहे.

  • Share this:
नई दिल्ली. बीजेपी (BJP) आज हरियाणा में सबसे बड़ी पार्टी है. उसके 48 विधायक (MLA) और सभी दस लोकसभा सीटों पर सांसद हैं. हौसला इतना बुलंद है कि 75 से अधिक विधानसभा सीटों पर जीतने का टारगेट रखा गया है. पार्टी को यहां तक लाने में मोदी लहर का बड़ा योगदान है. नई पीढ़ी के कम ही वोटरों को इस बात की जानकारी होगी कि नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) उन चुनिंदा नेताओं में भी शामिल हैं जो हरियाणा (Haryana) बीजेपी की नींव के पत्थर की तरह हैं. दरअसल, जब मोदी गुजरात की राजनीति से बाहर आए तो उन्हें हरियाणा का प्रभारी बनाया गया. इस पद पर उन्होंने 1995 से लेकर 2000 तक यानी छह साल तक काम किया. हर जिले में गए और संगठन को नया तेवर दिया. उन दिनों कांग्रेस, इनेलो और हरियाणा विकास पार्टी का बोलबाला था. उसमें बीजेपी को खड़ा करना बड़ा काम था.

पार्टी को दिए गए उनके तेवर का परिणाम यह रहा कि 1991 में जिस बीजेपी ने यहां सिर्फ 2 सीटें जीती थीं और 70 पर उसके प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई थी, उसने 1996 के चुनाव में 11 सीटों पर विजय हासिल की. सिर्फ 3 सीट पर ही जमानत जब्त हुई थी. उस वक्त रमेश जोशी प्रदेश अध्यक्ष हुआ करते थे. रमेश जोशी के बेटे संदीप जोशी इस समय प्रदेश महामंत्री हैं. संदीप जोशी कहते हैं कि इस वक्त हरियाणा में बीजेपी जिस ऊंचाई पर पहुंची है, उसमें पार्टी के पुराने स्थानीय कार्यकर्ताओं और नेताओं के साथ-साथ नरेंद्र मोदी का बड़ा योगदान है. तब मनोहरलाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) संगठन मंत्री के तौर पर काम कर रहे थे.

Narendra Modi, Prime Minister, haryana politics, bjp, assembly election, Manohar Lal Khattar, नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री, हरियाणा की राजनीति, बीजेपी, विधानसभा चुनाव, मनोहर लाल खट्टर
नरेंद्र मोदी कभी हरियाणा बीजेपी के प्रभारी हुआ करते थे (File Photo)


सियासी जानकारों का कहना है कि नरेंद्र मोदी का हरियाणा की राजनीति से पुराना रिश्ता है. इसीलिए तो 2018 में हुई सांपला (हरियाणा) की एक रैली में उन्होंने अपने पुराने रसोइया दीपक को मंच पर मिलने के लिए बुलवाया. पीएम मोदी ने सभी को बताया कि ये दीपक मेरे लिए रोहतक में खाना बनाता था, जिसके हाथ की बनी खिचड़ी का स्वाद आज भी नहीं भूला हूं. मोदी पांच-छह साल रोहतक में रहे. जहां दीपक उनके लिए खाना बनाता था. मोदी ने हरियाणा के साथ इसी भावुक रिश्ते की वजह से 2014 के लोकसभा चुनाव का शंखनाद रेवाड़ी से किया था. तब वो बीजेपी की तरफ से प्रधानमंत्री पद के दावेदार बनाए थे.

'कॉमनमैन-नरेंद्र मोदी' नामक किताब में लिखा गया है, '20 नवंबर 1995 को नरेंद्र मोदी भाजपा के राष्ट्रीय सचिव बनाए गए. अब उनके काम का केंद्र दिल्ली बन गया. उनको हरियाणा, हिमाचल, चंडीगढ़, पंजाब और जम्मू-कश्मीर का प्रभारी बनाकर संगठन का कार्य दिया गया. जो किसी भी युवा नेता के लिए बड़ी उपलब्धि की बात थी. इस मुश्किल काम को भी नरेंद्र मोदी ने पूरे समर्पित भाव और कठोर परिश्रम से पूरा किया.'

Narendra Modi, Prime Minister, haryana politics, bjp, assembly election, Manohar Lal Khattar, नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री, हरियाणा की राजनीति, बीजेपी, विधानसभा चुनाव, मनोहर लाल खट्टर
हरियाणा में बीजेपी ने 75 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा. (फाइल फोटो)


हरियाणा की धरती से अपना लगाव जाहिर करते हुए मोदी ने फरीदाबाद में हुई एक रैली में कहा था कि वह यहां की सारी समस्याओं से वाकिफ हैं. उन्होंने इस शहर को नजदीक से देखा है. स्कूटर पर बैठकर यहां की खाक छानी है.

ये भी पढ़ें:

क्या हरियाणा में 'जाति गणित' से बाहर निकल पाएंगी पार्टियां?
जल्द आ सकती है प्रत्याशियों की सूची, BJP में टिकट के लिए जोड़तोड़ चरम पर!

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज