होम /न्यूज /हरियाणा /Coronavirus: चीन से लाए गए 244 छात्रों की रिपोर्ट नेगेटिव, सेना कैंप से किया घर रवाना

Coronavirus: चीन से लाए गए 244 छात्रों की रिपोर्ट नेगेटिव, सेना कैंप से किया घर रवाना

चीन से लौटे छात्र काफी अब काफी खुश हैं

चीन से लौटे छात्र काफी अब काफी खुश हैं

आर्मी के द्वारा बनाए गए कैंप में करीब 17 दिन बिताने के बाद अब सभी को अपने-अपने घर भेजा जा रहा है. यहां रखे जाने के दौरा ...अधिक पढ़ें

    गुरुग्राम. कोरोना वायरस (Coronavirus) ने पड़ोसी देश चीन (China) में कहर बरपाया हुआ है, वहीं इसका खौफ भारत (India) समेत विश्व भर में फैला हुआ है. सभी देशों की प्राथमिकता अपने नागरिकों को चीन से निकालने की है तो वहीं वायरस से बचाव के भी हर संभव जतन किए जा रहे है. एक फरवरी को केंद्र सरकार चीन में फंसे भारतीय छात्रों और अन्य को एयर इंडिया के विशेष विमान से देश वापस लेकर आई थी. भारत लाए गए सभी छात्रों को करोना वायरस से अफेक्टेड होने की आशंका के चलते गुरुग्राम (Gurugram) के मानेसर (Manesar) स्थित आर्मी कैंप में बनाए गए अस्थाई अस्पताल में रखा गया था.

    सेना के अधिकारियों के मुताबिक यहां करीब 244 छात्र और दूसरे लोगों को 14 बैरक में रखा गया था. जहां ये सभी चौबीसों घंटे आर्मी के डॉक्टर और अन्य स्टाफ की देख-रख में रहते थे. आर्मी के द्वारा बनाए गए कैंप में करीब 17 दिन बिताने के बाद अब सभी को अपने-अपने घर भेजा जा रहा है. यहां रखे जाने के दौरान सभी करोना वायरस संदिग्धों के अलग-अलग टेस्ट किए गए जिसमें सबकी रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई.

    आर्मी की निगरानी में रखा गया

    आर्मी के मुताबिक सभी लोगों के लिए रहने, खाने-पीने और बाकी व्यवस्थाएं डॉक्टरों की निगरानी में जा रही थी. इसके अलावा जिस जगह ये सभी रह रहे थे या फिर इनके कपड़ों को भी किसी भी तरह के इंफेक्शन से बचाव के लिए ट्रीट किया जाता था. आर्मी के अधिकारियों की मानें तो शुरुआत में इन्हें यहां रखने में कुछ परेशानियों का सामना भी करना पड़ा.

    News18 Hindi
    चीन के वुहान समेत अन्य जगहों से स्वदेश लाए गए भारतीय छात्र


    काम करने से किया मना

    दरअसल आर्मी कैंप से जुड़े सिविलियन सप्लायर्स को जब इनके कैंप में आने की जानकारी मिली तो उन्होंने यहां काम करने से मना कर दिया. लेकिन आर्मी ने सभी व्यवस्था अपने स्तर पर संभाली. वुहान और चीन के अन्य शहरों से आए इन छात्रों और अन्य लोगों की मानें तो 23 जनवरी को उन्हें जब चीन में करोना वायरस के फैलने के बारे में पता लगा तो डर और दहशत के बीच जल्द से जल्द अपने देश लौटने की उम्मीद शुरु कर दी थी.

    छात्रों ने कही ये बात

    छात्रों की मानें तो चीन के वुहान में सड़कों पर सन्नाटा पसर गया था तो वहीं खाने और दूसरी चीजों के लिए अफरा-तफरी मची हुई थी. चीन से वापस लौटे लोगों की मानें तो आर्मी के द्वारा उन्हें बेहतर सुविधाएं दी गई. आर्मी कैंप में बिताए 17 दिनों के दौरान हुए टेस्ट में सभी रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद अब सभी को अपने-अपने घर भेजा जा रहा है.

    ये भी पढ़ें- नूंह: कुएं में तैरती मिली दो एटीएम मशीन, जांच में जुटी पुलिस

    चलती कार में चलाते थे कॉल सेंटर, तीन युवतियों समेत पांच गिरफ्तार

    Tags: Corona Virus, Haryana news, Indian army

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें