हरियाणा में क्यों बढ़ रहे हैं रेप केस, क्या ये है इसकी वजह...
Rewari News in Hindi

हरियाणा में क्यों बढ़ रहे हैं रेप केस, क्या ये है इसकी वजह...
सरकार कोई भी रही हो कभी कम नहीं हुए रेप केस

हरियाणा के जिस रेवाड़ी जिले में राष्ट्रपति अवार्डी छात्रा के साथ रेप हुआ वह खराब लिंगानुपात के मामले में देश में तीसरे नंबर पर है. 2011 की जनगणना के मुताबिक, यहां 1000 पुरुषों पर सिर्फ 784 लड़कियां हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 13, 2018, 1:37 AM IST
  • Share this:
प्रगतिशील राज्यों में गिने जाने वाला हरियाणा इन दिनों रेप के बढ़ते मामलों को लेकर चर्चा में है. रेवाड़ी जिले में राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित छात्रा के साथ गैंगरेप का मामला अभी ठंडा नहीं पड़ा था कि फरीदाबाद और रोहतक में इसी तरह के मामले सामने आ गए. सरकार कोई भी रही हो बलात्कार के मामले कभी कम नहीं हुए. सवाल ये उठता है कि आखिर यहां बढ़ते रेप केस की वजह क्या है? क्या यह कि यहां लड़कियों की संख्या बेहद कम है? या पुरुष प्रधान मानिसकता?

2011 की जनगणना के मुताबिक देश के सबसे खराब लिंगानुपात वाले 10  में से 6 जिले हरियाणा के हैं. सरकारी रिकॉर्ड के मुताबिक रेवाड़ी लिंगानुपात के मामले में देश का तीसरा सबसे खराब जिला है. हरियाणा के हर गांव में दो-चार कुंवारे मिल जाएंगे, जिनकी शादी लड़कियां नहीं मिलने के कारण नहीं हो सकी. इसलिए इस प्रदेश में कुंवारे भी राजनीतिक मुद्दा हैं.

Rewari gangrape case, Rewari, Gangrape, Manoharlal khatter, Haryana Police, Sex ratio of Haryana, crime against women in haryana, Narendra Modi, beti bachao beti padhao, Haryana Women Commission, Khap Panchayat, Haryana, Jagmati Sangwan, रेवाड़ी गैंगरेप केस, हरियाणा, लिंगानुपात, मनोहरलाल खट्टर, हरियाणा पुलिस, महिलाओं के खिलाफ अपराध, भ्रूणहत्या, नरेंद्र मोदी, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, हरियाणा महिला आयोग, खाप पंचायत, महिला आयोग हरियाणा, जगमति सांगवान        सरकार कोई भी हो रेप के मामले कम नहीं हुए



हरियाणा के बीजेपी नेता ओम प्रकाश धनखड़ ने 2014 में यहां के लड़कों की शादी को लेकर एक बयान दिया था. तब वह बीजेपी किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे. उन्होंने कहा था कि "अगर हरियाणा में बीजेपी की सरकार आती है तो यहां के कुंवारे लड़कों की शादी बिहार की लड़कियों से कराएंगे. बिहार में सुशील मोदी मेरा यार है, मैं ढंग से कुंवारों की शादियां करवाऊंगा. हरियाणा में कोई कुंवारा नहीं रहेगा." आपको बता दें कि धनखड़ अब मनोहरलाल सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं.
ये भी पढ़ें: खाप को जींस-टॉप से ऐतराज तो बिकिनी वाली मिस वर्ल्ड का स्वागत कैसे?

'इस वजह से असुरक्षित हैं बेटियां'
सामाजिक कार्यकर्ता जगमति सांगवान कहती हैं, “हरियाणा में सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक तीनों कारणों से मिलजुलकर ये स्थिति बन रही है कि लड़कियां सुरक्षित नहीं रह गईं. इससे जूझने की कोई लांग टर्म पॉलिसी नहीं है, क्योंकि हमारे नेता सिर्फ वोटबैंक देखते हैं. गौर करने वाली बात ये है कि यहां बहुत कम लोग बेटियों का वोटर कार्ड बनवाते हैं. शादी होकर वह जहां जाती है वहीं उसका वोट बनता है. फिर उनकी फिक्र कोई सरकार क्यों करेगी?”

Rewari gangrape case, Rewari, Gangrape, Manoharlal khatter, Haryana Police, Sex ratio of Haryana, crime against women in haryana, Narendra Modi, beti bachao beti padhao, Haryana Women Commission, Khap Panchayat, Haryana, Jagmati Sangwan, रेवाड़ी गैंगरेप केस, हरियाणा, लिंगानुपात, मनोहरलाल खट्टर, हरियाणा पुलिस, महिलाओं के खिलाफ अपराध, भ्रूणहत्या, नरेंद्र मोदी, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, हरियाणा महिला आयोग, खाप पंचायत, महिला आयोग हरियाणा, जगमति सांगवान          हरियाणा में क्यों बढ़ रहे हैं रेप केस?

“सरकारी तंत्र ऐसे मामलों पर बोलता है कि आरोपी लड़की के जान-पहचान का था. मैं पूछती हूं कि यदि घर में महिला के खिलाफ अपराध होगा तो क्या पुलिस कार्रवाई नहीं करेगी? क्या जान-पहचान वाले लोगों को गैंगरेप करने की छूट है? अगर नहीं, तो सरकार को ऐसी बातें करने से परहेज करना चाहिए.”

ये भी पढे़: महावीर फौगाट बोले, बेटियों के ‘दंगल’ के लिए समाज से लड़ता रहा

सांगवान के मुताबिक “लड़कियां कम हैं इसलिए लड़कों की शादी नहीं हो रही. नौकरियां हैं नहीं. वे खाली घूम रहे हैं. उनकी एनर्जी को पॉजिटिव रास्ते की तरफ चैनलाइज करने के लिए सरकार के पास कोई एजेंडा नहीं है. इसलिए लड़के फ्रस्टेट हैं. वे सोचते हैं कि इस समाज ने हमें क्या दे दिया जो हम इसकी परवाह करें. इसलिए वे कुछ भी करने से हिचकिचाते नहीं. यहां लड़कियां सिर्फ अपनी बदौलत बच रही हैं. सिस्टम उनका साथ नहीं देता, क्योंकि वो भी पुरुषवादी है.”

Rewari gangrape case, Rewari, Gangrape, Manoharlal khatter, Haryana Police, Sex ratio of Haryana, crime against women in haryana, Narendra Modi, beti bachao beti padhao, Haryana Women Commission, Khap Panchayat, Haryana, Jagmati Sangwan, रेवाड़ी गैंगरेप केस, हरियाणा, लिंगानुपात, मनोहरलाल खट्टर, हरियाणा पुलिस, महिलाओं के खिलाफ अपराध, भ्रूणहत्या, नरेंद्र मोदी, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, हरियाणा महिला आयोग, खाप पंचायत, महिला आयोग हरियाणा, जगमति सांगवान         खराब लिंगानुपात वाले देश के 6 जिले हरियाणा के हैं

2011 की जनगणना के अनुसार हरियाणा में 1000 पुरुषों पर 834  महिलाएं हैं. 2001 में सिर्फ 819 ही थीं. जिस रेवाड़ी में राष्ट्रपति अवार्डी छात्रा के साथ रेप हुआ वहां 1000 पुरुषों पर सिर्फ 784 लड़कियां हैं. ऐसा नहीं है कि हरियाणा में लड़कियों की संख्या बढ़ाने का काम नहीं हो रहा. कुछ लोग संकीर्ण मानसिकता बदलने के लिए काम कर रहे हैं. बेटियों की भ्रूणहत्या की वजह से ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' कार्यक्रम की शुरुआत भी 22 जनवरी 2015 को यहां के पानीपत से की थी.

बीबीपुर गांव (जींद जिला) के सरपंच रहे सुनील जागलान ने ‘सेल्फी विद डॉटर’अभियान से लोगों की मानसिकता बदलने की कोशिश की, जिसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सराहा गया. हरियाणा की कल्पना चावला, साक्षी मलिक, दीपा मलिक और फोगाट बहनें जैसी कई बेटियों ने देश का मान पूरी दुनिया में बढ़ाया है. महिला हॉकी एवं महिला क्रिकेट में तो हमेशा यहां की बेटियों का दबदबा रहा है. इसके बावजूद यहां बेटियों को लेकर लोगों की सोच में ज्यादा बदलाव नहीं आया है.

Rewari gangrape case, Rewari, Gangrape, Manoharlal khatter, Haryana Police, Sex ratio of Haryana, crime against women in haryana, Narendra Modi, beti bachao beti padhao, Haryana Women Commission, Khap Panchayat, Haryana, Jagmati Sangwan, रेवाड़ी गैंगरेप केस, हरियाणा, लिंगानुपात, मनोहरलाल खट्टर, हरियाणा पुलिस, महिलाओं के खिलाफ अपराध, भ्रूणहत्या, नरेंद्र मोदी, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, हरियाणा महिला आयोग, खाप पंचायत, महिला आयोग हरियाणा, जगमति सांगवान       बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत हरियाणा में हुई

इसकी तस्दीक यहां महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा के आंकड़े करते हैं. 2008 से 2011 तक हरियाणा में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के 17,617 मामले रिपोर्ट किए गए. जबकि पिछले एक साल में ही करीब 10 हजार मामले दर्ज कर लिए गए. हो सकता है कि ये पुलिस की सक्रियता का नतीजा हो. लेकिन बढ़ते मामले चिंता का विषय हैं.

साल 2008 में यहां रेप के 454 मामले दर्ज किए गए थे, जबकि 2017-18 में 1,413 केस रजिस्टर्ड किए गए हैं.  रेप और दरिंदगी की बढ़ती घटनाओं के विरोध में खापों ने भी आवाज उठानी शुरू कर दी है. 11 नवंबर को चरखी दादरी में सर्वखाप महापंचायत बुलाई गई है.

Rewari gangrape case, Rewari, Gangrape, Manoharlal khatter, Haryana Police, Sex ratio of Haryana, crime against women in haryana, Narendra Modi, beti bachao beti padhao, Haryana Women Commission, Khap Panchayat, Haryana, Jagmati Sangwan, रेवाड़ी गैंगरेप केस, हरियाणा, लिंगानुपात, मनोहरलाल खट्टर, हरियाणा पुलिस, महिलाओं के खिलाफ अपराध, भ्रूणहत्या, नरेंद्र मोदी, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, हरियाणा महिला आयोग, खाप पंचायत, महिला आयोग हरियाणा, जगमति सांगवान        खराब लिंगानुपात बढ़ा रहा है समस्या

इस बारे में हमने हरियाणा महिला आयोग की सदस्य रेनू भाटिया से बात की तो उन्होंने कहा, “सरकार के प्रयासों से लड़कियों की संख्या पहले के मुताबिक बढ़ रही है. प्रति हजार लड़कों पर 931 लड़कियां हो गई हैं. जहां तक लड़कियों को लेकर माइंडसेट का सवाल है तो इसके लिए जमीन स्तर पर काम हो रहा है. हम गांव-गांव में लड़कियों को गुड टच बैड टच की जानकारी दे रहे हैं. स्कूल–कॉलेजों में लड़कियों की रिस्पेक्ट करने वाले लड़कों को जेंडर चैंपियन अवार्ड दे रहे हैं. जो उदंडता कर रहे हैं उनका ईलाज सजा है और यह काम सरकार कर रही है.”

ये भी पढ़ें: ये है राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शक्ति...!

RSS पर इस तरह हमलावर क्यों हैं राहुल गांधी?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज