रोहतक जेल में बंद गुरमीत राम रहीम सिंह की तबियत बिगड़ी, PGI में किया गया भर्तीः सूत्र

गुरमीत राम रहीम की तबियत बिगड़ने की बात पर कोई भी अधिकारी कुछ बताने को तैयार नहीं है. (फाइल फोटो)

गुरमीत राम रहीम की तबियत बिगड़ने की बात पर कोई भी अधिकारी कुछ बताने को तैयार नहीं है. (फाइल फोटो)

Gurmeet Ram Rahim Singh के बीमार होने की बात पर अभी कोई भी प्रशासनिक या पुलिस अधिकारी बोलने को तैयार नहीं हैं. हालांकि अस्पताल और उसके बाहर बड़ी संख्या में पुलिस बल काे तैनात कर दिया गया है.

  • Share this:

दीपक भारद्वाज

रोहतक. साध्वी यौन शोषण मामले में रोहतक जेल में बंद गुरमीत राम रहीम सिंह की तबियत अचानक खराब हो गई है और उसे रोहतक पीजीआई में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है. हालांकि अभी इस बात की पुष्टि कोई नहीं कर रहा है लेकिन सूत्रों के अनुसार अस्पताल लाया गया कैदी गुरमीत राम रहीम सिंह ही है. पुलिस की खास सुरक्षा व्यवस्‍था के बीच गुरमीत को लेकर एंबुलेंस पीजीआई पहुंची. इस दौरान अस्पताल और रास्ते में भारी संख्या में पुलिसबल को तैनात कर दिया गया था. फिलहाल ये नहीं बताया गया है कि गुरमीत को किस बीमारी के चलते अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. हालांकि ये बात भी सामने आ रही है कि वो कोरोना से संक्रमित भी हो सकता है. अस्पताल के बाहर एंबुलेंस पहुंची तो पुलिस ने एक अन्य गाड़ी उसके सामने खड़ी कर दी जिससे ये पता न चल सके कि उसमें कौन है.

इस दौरान अस्पताल और बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है और किसी को भी अंदर नहीं जाने दिया जा रहा है. मीडियाकर्मियों को भी न तो अस्पताल के अंदर जाने दे रहे हैं और न ही किसी भी तरह की कवरेज करने दी जा रही है.

प्रशासनिक अधिकारियों ने साधा मौन
इस दौरान पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने मौन साध लिया है और कोई भी स्टेटमेंट देने से वे बच रहे हैं. इस बात की पुष्टि भी कोई अधिकारी नहीं कर रहा है कि रोहतक जेल से गुरमीत राम रहीम को लाया गया है या किसी अन्य कैदी को. सूत्रों के अनुसार प्रशासन और पुलिस को डर है कि गुरमीत की तबियत खराब होने की सूचना पर माहौल बिगड़ सकता है.

कही थी जल्द बाहर आने की बात

इससे पहले गुरमीत राम रहीम सिंह ने अपनी मां और डेरा अनुयायियों के नाम पर एक चिट्ठी लिखी थी. इसमें उसने कहा था कि वो जल्द ही डेरा सच्चा सौदा आ सकता है. साथ ही उसने लिखा था कि वो जल्द ही आकर मां का इलाज करवाएगा. डेरा के दूसरे गुरु सतनाम सिंह के 102वें जन्मदिन पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान गुरमीत सिंह की ये चिट्ठी पढ़ कर सुनाई गई थी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज