GST कार्यालय पर CBI का छापा, 7 लाख रुपये की रिश्वत लेते सुपरिटेंडेंट गिरफ्तार

28 अगस्त को उसने अधीक्षक सुदेश कुमार से एक लाख रुपये रिश्वत दी थी और 10 तारिख को 7 लाख रुपये देने की बात कही थी.

News18 Haryana
Updated: September 11, 2018, 9:30 AM IST
GST कार्यालय पर CBI का छापा, 7 लाख रुपये की रिश्वत लेते सुपरिटेंडेंट गिरफ्तार
सीबीआई की गिरफ्त में आरोपी
News18 Haryana
Updated: September 11, 2018, 9:30 AM IST
सीबीआई की टीम ने रोहतक स्थित जीएसटी कार्यालय में रेड की और एंटी-इवेशन के अधीक्षक सुदेश कुमार को सात लाख रुपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया. बताया जा रहा है कि फतेहाबाद निवासी राइस मिलर राजकुमार जिंदल ने सीबीआई को शिकायत दी थी कि एंटी-इवेशन के अधीक्षक ने जीएसटी का डर दिखाकर उससे दस लाख रुपये की रिश्वत मांगी है और वह अधीक्षक को एक लाख रुपये रिश्वत पहले दे चुका है.

धान की खरीद व चावल की बिक्री को लेकर जीएसटी की तरफ से उसे सम्मन किया गया था. जब उसने अधिकारियों से इस बारे में संपर्क साधा तो कई गुणा जुर्माना करने का डर दिखाया गया. इसके बाद उन्होंने रोहतक स्थित जीएसटी कार्यालय में अधीक्षक सुदेश कुमार से संपर्क किया तो उन्होंने दस लाख रुपये रिश्वत मांगी, बाद में सौदा आठ लाख रुपये में तय हुआ. 28 अगस्त को उसने अधीक्षक सुदेश कुमार से एक लाख रुपये रिश्वत दी थी और दस तारिख को सात लाख रुपये देने की बात कही थी.

रोहतक ऑनर किलिंग: पुलिस से मुठभेड़ में एक आरोपी को लगी गोली, दो साथी भी गिरफ्तार

शिकायत के आधार पर सीबीआई की विशेष टीम रोहतक पहुंची और आरोपी अधिकारी सुदेश कुमार को रंगे हाथों सात लाख रुपये रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया. देर रात तक सीबीआई की टीम मामले को लेकर अधिकारियों से पूछताछ करती रही और मामले से जुडे कागजातों भी अपने कब्जे में ले लिया है. देर रात गिरफ्तारी के बाद सीबीआई की टीम आरोपी को अपने साथ ले गई.

शिकायत कर्ता राजकुमार जिन्दल ने बताया कि उसका फतेहाबाद में राइस मिल है. वहां जीएसटी ऑफिस रोहतक की तरफ से मुझे नोटिस दिया जिसमें जीएसटी को भरने का डर दिखा कर सुदेश अधीक्षक एंटी-इवेशन ने दस लाख की डिमांड की. बाद में वे 8 लाख देने पर सहमति बनी. 28 अगस्त को एक लाख केस इन्होंने ले लिया था आज सात लाख रूपये देने के लिए आये थे जो सीबीआई ने रंगे हाथों गिरफ्तार किया.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर