अपना शहर चुनें

States

हरियाणा में बढ़ती बेरोजगारी युवाओं को सड़कों पर उतरने के लिए कर रही मजबूर: बलराज कुंडू

निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू ने कही ये बात
निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू ने कही ये बात

बलराज कुंडू (Balraj Kundu) ने कहा कि बेरोजगार युवाओं के साथ हर मंच पर उनका साथ देकर सड़क से विधानसभा (Assembly) तक आवाज बुलंद करते हुए लड़ाई लडूंगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 6:51 AM IST
  • Share this:
रोहतक. बेरोजगारी से परेशान सैंकड़ों युवाओं ने महम के निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू (Balraj Kundu) के साथ गुरुवार को काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन किया. कुंडू बोले कि हरियाणा (Haryana) में बढ़ती बेरोजगारी युवाओं को सड़कों पर उतरने के लिए मजबूर कर रही है. उन्होंने युवाओं को आश्वासन दिया कि सड़क से लेकर विधानसभा तक इनकी लड़ाई लडूंगा. वहीं, युवाओं ने कहा कि नेता उनका इस्तेमाल सिर्फ चुनाव में वोट हथियाने के लिए करते हैं, लेकिन सत्ता में आने के बाद नौकरी की बात नहीं करते.

दरअसल, गुरुवार को युवा राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस मना रहे थे और इसी को लेकर बेरोजगारों युवाओं ने विरोध भी किया. विधायक बलराज कुंडू के साथ सैकड़ों नौजवानों ने रोहतक में काले कपड़े पहनकर और हाथों पर काली पट्टी बांधकर बेरोजगारी के खिलाफ विरोध व्यक्त किया. खुद बलराज कुंडू भी हाथ पर काली पट्टी बांधे नजर आएं.

सरकार पर साधा निशाना



कुंडू ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि इतिहास में पहली दफा ऐसा हुआ है कि बेरोजगारी में हरियाणा नंबर एक पर पहुंच गया है, ये सीएम खट्टर का फेलियर है. प्रदेश के मुख्यमंत्री को युवाओं की चिन्ता नहीं है. सरकार की गलत नीतियों के कारण ही पढ़े-लिखे युवाओं की ये हालत हो गई है, जिसके कारण अब युवा दफ्तर में बैठने की बजाए सड़कों पर उतरने को मजबूर हो चुका है. इसलिए काली पट्टी बांधकर आज विरोध व्यक्त किया गया है.
प्रदर्शन कर रहे युवाओं ने कही ये बात

वहीं, प्रदर्शन कर रहे बेरोजगार वीरेन्द्र ने कहा कि युवा देश की रीढ़ की हड्डी हैं. आज अधिकांश शिक्षित युवा बेरोजगार घूम रहे हैं. सरकार उनके चयन के बावजूद भी नौकरी नहीं दे रही. कुछ युवक ठोंकरे खाते-खाते रास्ते से भटक जाते हैं और अपराध की दुनिया में कदम रख लेते हैं. युवाओं का कहना है कि चुनाव के दौरान युवाओं की वोट हथियाने के लिए लुभावने वायदे किए जाते हैं, लेकिन बाद में सभी वायदे भूल जाते हैं. इससे युवाओं में रोष है. सरकार ने जल्द ही उनकी मांगों को गंभीरता से लेते हुए पूरा नहीं किया तो मजबूरन आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ेगा. वहीं कुंडू ने कहा कि बेरोजगार युवाओं के साथ हर मंच पर उनका साथ देकर सड़क से विधानसभा तक आवाज बुलंद करते हुए लड़ाई लडूंगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज