लाइव टीवी

दूसरे विश्वयुद्ध में हिस्सा लेने वाले भारतीय सैनिकों को ब्रिटेन आज भी भेजता है सम्मान भत्ता

Dheerendra Chaudhary | News18 Haryana
Updated: February 4, 2020, 2:43 PM IST
दूसरे विश्वयुद्ध में हिस्सा लेने वाले भारतीय सैनिकों को ब्रिटेन आज भी भेजता है सम्मान भत्ता
भारतीय सैनिकों को आज भी याद करता है ब्रिटेन

ब्रिटेन (Britain) की रॉयल कॉमनवेल्थ एक्स-सर्विसेज लीग उन तमाम जीवित सैनिकों (Army men) या उनकी विधवाओं को हर छह महीने में सम्मान भत्ता भेजता है, जो कि अभी तक जिन्दा हैं.

  • Share this:
रोहतक. क्या आपने कभी सोचा है कि दूसरे विश्वयुद्ध (World War) में ब्रिटेन की तरफ से लड़ाई में हिस्सा लेने वाले भारतीय सैनिकों (Indian Army Men) को कोई याद करता होगा. जी हां, उन सैनिकों को याद किया जाता है और बाकायदा आज भी ब्रिटेन उन्हें या उनकी विधवा को सम्मान भत्ता भेजता है. हालांकि ये सम्मान भत्ता बेहद कम है, लेकिन 1947 से लेकर आज तक जिस परम्परा को ब्रिटेन निभा रहा है, वह काबिल-ए-तारीफ है.

रोहतक में हरियाणा एक्स सर्विस लीग के कार्यालय में ऐसे युद्ध सैनिकों और उनकी वीरांगनाओं से मिलने के लिए रॉयल कामनवेल्थ एक्स सर्विसेज लीग के प्रतिनिधि मिलने के लिए पहुंचे. दरअसल सितम्बर 1939 से सितम्बर 1945 तक कुल छह साल तक चले विश्वयुद्ध में भारतीय सैनिकों ने ब्रिटिश आर्मी के साथ मिलकर युद्ध लड़ा था.

लड़ाई के दौरान भारतीय मूल के तक़रीबन डेढ़ लाख से ज्यादा सैनिकों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ा था, जिसमें 36 हजार सैनिक शहीद हुए थे और 34 हजार से ज्यादा घायल और 60 हजार से ज्यादा युद्धबंदी बनाए गए थे. इन सबके अलावा सिविलियन की मौत का तो कोई रिकॉर्ड ही नहीं है. दूसरे वर्ल्ड वॉर को खत्म हुए 75 साल हो चुके हैं, लेकिन आज भी ब्रिटेन अपने उन सैनिकों का सम्मान कर रहा है, जिन्होंने दूसरे विश्वयुद्ध में उनका साथ दिया था.

हर 6 महीने में भेजा जाता है भत्ता

ब्रिटेन की रॉयल कॉमनवेल्थ एक्स-सर्विसेज लीग उन तमाम जीवित सैनिकों या उनकी विधवाओं को हर छह महीने में सम्मान भत्ता भेजता है, जो कि अभी तक जिन्दा हैं. ये सम्मान राशि इंडियन एक्स-सर्विसेज लीग को भेजी जाती है, जोकि सम्बंधित राज्य की एक्स-सर्विसेज लीग के माध्यम से सम्बंधित सैनिक या उसकी विधवा को घर देकर आते हैं. जिन सैनिकों की मृत्यु हो जाती है, बाद में उसकी विधवा को तब तक यह सहायता दी जाती है, जब तक वह जीवित रहेंगी.

इन्हें मिलती है सम्मान राशि

हरियाणा एक्स-सर्विसेज लीग के अध्यक्ष कर्नल टीसी दहिया ने बताया की हर छह महीने में ब्रिटेन से ये सम्मान राशि उन जीवित सैनिकों के लिए आती है, जिन्होंने दूसरे विश्वयुद्ध में ब्रिटेन के लिए लड़ाई लड़ी थी. अगर उस सैनिक की मौत हो गई तो उसकी विधवा को यह राशि दी जाती है. उन्होंने माना कि हालांकि राशि कम है, लेकिन ऐसे सैनिकों को याद करना गौरव की बात है.ये भी पढ़ें:- पत्नी के चरित्र पर शक करता था पति, कुल्हाड़ी से कई वार कर की हत्या

 

ये भी पढ़ें:- AAP नेता पर लगे सरकारी जमीन को अवैध रूप से किराए पर देने का आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रोहतक से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 2:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर