Home /News /haryana /

नजरअंदाज ना करें बच्चों में कैंसर के लक्षण, खतरनाक है झाड़-फूंक या देसी इलाज

नजरअंदाज ना करें बच्चों में कैंसर के लक्षण, खतरनाक है झाड़-फूंक या देसी इलाज

रोहतक पीजीआई में तकरीबन 300 बच्चों को यह इलाज दिया जा रहा

रोहतक पीजीआई में तकरीबन 300 बच्चों को यह इलाज दिया जा रहा

Cancer Treatment: कैंसर के इलाज में कीमोथेरेपी, रेडियोथेरेपी या फिर सर्जरी की जाती है. कैंसर का इलाज संभव है और रोहतक पीजीआई में तकरीबन 300 बच्चों को यह इलाज दिया जा रहा है और वे ठीक भी हैं.

रोहतक. बच्चों में कैंसर के लक्षणों (Symptoms of Cancer) को नजरअंदाज करना भारी पड़ सकता है. आमतौर पर अभिभावक इन लक्षणों को पहचानने में गलती कर बैठते हैं या फिर झाड़-फूंक के चक्कर में कीमती समय गंवा बैठते हैं, जो बाद में बच्चों के जीवन के लिए खतरनाक (Dangerous) साबित हो सकता है. अगर समय रहते इलाज कराया जाए तो कैंसर का इलाज संभव है और इससे घबराने की कोई जरूरत नहीं है.

बाल कैंसर जागरूकता दिवस के मौके पर रोहतक पीजीआई की बाल रोग विशेषज्ञ प्रोफेसर डॉ अलका यादव ने बताया कि कैंसर का इलाज संभव है. बशर्ते समय रहते इसकी पहचान हो जाए. उन्होंने बताया कि हालांकि बच्चों में कई तरह के कैंसर पाए जाते हैं, लेकिन सबसे कॉमन ब्लड कैंसर है. तकरीबन 50 से 60 फ़ीसदी मरीज ब्लड कैंसर के ही होते हैं और इसमें ठीक होने के चांस सबसे ज्यादा होते हैं, अगर सही समय पर इलाज लिया जाए.

ब्लड कैंसर के लक्षणों में अचानक से खून की कमी हो जाना, तेज बुखार का होना, जोकि सामान्य दवाइयों से ठीक नहीं होता. अत्यधिक रक्तस्राव होना या खून के धब्बे बन जाना. गले में गांठ हो जाना या फिर पेट में गांठ हो जाना भी ब्लड कैंसर के लक्षण हो सकते हैं. हड्डी के कैंसर में किसी भी हड्डी में सूजन आ जाना, आंखों के कैंसर में सफेद मोतिया जैसा बन जाना. यह ऐसे लक्षण हैं, जिनका सामान्य जांच में पता चल सकता है. किसी भी लैब में यह जांच आसानी से करवाई जा सकती हैं.

कैंसर के इलाज में कीमोथेरेपी, रेडियोथेरेपी या फिर सर्जरी की जाती है. कैंसर का इलाज संभव है और रोहतक पीजीआई में तकरीबन 300 बच्चों को यह इलाज दिया जा रहा है और वे ठीक भी हैं. उन्होंने अभिभावकों से अपील की है कि वे देसी इलाज या झाड़-फूंक के चक्कर में फस कर कीमती समय ना गवाएं और अगर बच्चों में किसी भी तरह के लक्षण मिलते हैं तो उनकी तुरंत जांच कराकर इलाज शुरू कराएं. कैंसर का इलाज संभव है, इससे घबराने की जरूरत नहीं है.

Tags: Cancer, Haryana news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर