हरियाणा: राम रहीम ने अब मांगी इमरजेंसी पैरोल, 21 दिन के लिए जेल से आना चाहता है बाहर

गुरमीत राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में बंद है. (फाइल फोटो)

गुरमीत राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में बंद है. (फाइल फोटो)

Ram Rahim Seeks Emergency Parole: राम रहीम को साध्वी दुष्कर्म मामले में 25 अगस्त 2017 को पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत ने दोषी करार दिया था.

  • Share this:

रोहतक. हरियाणा के रोहतक जिले की सुनारिया जेल में बंद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim) ने एक बार फिर जेल से बाहर आने के लिए पैरोल (Parole) मांगी है. इस बार फिर से उसने अपनी बीमार मां से मिलने के लिए इमरजेंसी पैरोल मांगी है. उसने अपनी मां की बीमारी के संबंध में जेल अधिकारियों के सामने कुछ दस्तावेज पेश किए हैं. जेल अधिकारियों ने कहा कि डेरा प्रमुख ने अपनी बीमार मां नसीब कौर के मिलने के लिए 21 दिन की पैरोल मांगी है. पैरोल के लिए गुरमीत पहले भी कई बार प्रयास कर चुका है, लेकिन सुरक्षा कारणों के चलते जेल से बाहर जाने की मंशा पूरी नहीं हुई है.

बता दें कि सुनारिया जेल में सजायाफ्ता राम रहीम ने सोमवार को जेल प्रशाासन को पैरोल के लिए अर्जी लगाई है. जेल प्रशासन ने पैरोल की प्रक्रिया के तहत पुलिस से एनओसी मांगी है, ताकि उसे पैरोल देने में कोई बाधा उत्पन्न न हो. गुरमीत को पैरोल लेने के लिए सिरसा और रोहतक पुलिस अधीक्षक जेला प्रशासन को एनओसी देंगे.

अगर पुलिस ने उसे जेल से बाहर जाने में किसी प्रकार की कानून व्यवस्था को खतरा नहीं दिखा तो पैरोल मंजूर हो जाएगी. इसके उल्ट अगर उसके बाहर आने के बाद कानून व्यवस्था बिगड़ने की संभावना दिखी तो पहले की भांति पैरोल की अर्जी खारिज हो जाएगी.

पिछले दिनों राम रहीम की हो गई थी तबीयत खराब
राम रहीम इससे पहले परिवार में शादी, बीमार मां की देखभाल और खेती करने को लेकर पैरोल मांग चुका है. पिछले दिनों राम रहीम की जेल में तबीयत खराब हो गई थी. पीजीआई डॉक्‍टरों के बोर्ड ने उसके बिगड़ते स्वास्थ्य को देखते हुए टेस्ट करवाने की सलाह दी थी. जेल प्रशासन ने चिकित्सकों की सलाह पर उसे पीजीआई भेजने का निर्णय लिया था. राम रहीम को पीजीआई में 23 घंटे रखा गया, इसके बाद टेस्ट की रिपोर्ट सामान्य आने पर वापस जेल भेज दिया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज