अपना शहर चुनें

States

रोहतक लोकसभा नतीजे: पिछली बार मोदी लहर में जीतने वाले ‘छोटे हुड्डा’ भी हारे

दीपेंद्र सिंह हुड्डा
दीपेंद्र सिंह हुड्डा

रोहतक लोकसभा नतीजे, rohtak election result 2019, deependra singh hooda, दीपेंद्र सिंह हुड्डा

  • Share this:
लोकसभा चुनाव 2019 में हरियाणा की हाई प्रोफाइल सीट रोहतक के नतीजे आ चुके हैं. रोहतक लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस के उम्मीदवार दीपेंद्र हुड्डा को मात मिल चुकी है. भाजपा के अरविंद कुमार शर्मा ने उन्हें कांटे की टक्कर में हरा दिया. 23 मई को जारी मतगणना के चलते रोहतक समेत कई सीटों के नतीजे आ चुके हैं और बाकी सीटों के आ रहे हैं. दीपेंद्र के साथ ही उनके पिता भूपेंद्र सिंह हुड्डा भी सोनीपत से हार गए हैं. इससे पहले रुझानों के मुताबिक काफी देर तक दीपेंद्र 10 से 16 हज़ार वोटों से पीछे चलते रहे लेकिन आखिरकार उनकी हार की खबर आ ही गई.

साल 2014 में जब पूरे हरियाणा में मोदी लहर चली थी तब भी रोहतक लोकसभा सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशी दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने कांग्रेसी किला सुरक्षित रखा था. दीपेंद्र हुड्डा रोहतक की राजनीति में पुराना नाम है. दीपेंद्र हुड्डा को सियासत विरासत में मिली हैं. उनके पिता भूपेंद्र सिंह हुड्डा मार्च 2005 से अक्टूबर 2014 तक हरियाणा के मुख्यमंत्री रहे. दीपेंद्र के दादा रणबीर सिंह हुड्डा एक स्वतंत्रता सेनानी और संविधान सभा के सदस्य एवं पंजाब में मंत्री थे.

कांग्रेस प्रत्याशी दीपेंद्र हुड्डा की उम्र 40 वर्ष है और उन्होंने बीटेक और एमबीए की पढ़ाई की है. दीपेंद्र ने अक्टूबर 2005में रोहतक उपचुनाव के दौरान पहली बार जीते और सांसद बने.



विरासत में मिली सियासत
दीपेंद्र को भी सियासत विरासत में मिली है. संविधान सभा के सदस्य रणबीर सिंह हुड्डा दीपेंद्र के दादा हैं और पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा दीपेंद्र के पिता हैं. वर्ष 2014 में कांग्रेस प्रत्याशी दीपेंद्र हुड्डा को 490063 वोट मिले थे. उनके निकटतम प्रतिद्वंदी भाजपा प्रत्याशी ओपी धनखड़ को 319436 वोट मिले थे.

दीपेंद्र के सामने गढ़ बचाना चुनौती

पिता द्वारा सोनीपत में चुनाव लड़ने की वजह से उनकी ताकत कम हो गई है, पिछले चुनाव में दीपेंद्र ने चुनाव प्रचार कम किया था जबकि उनके पिता भूपेंद्र हुड्डा ने ज्यादा प्रचार किया था. इस बार दीपेंद्र अपनी मां और पत्नी के साथ प्रचार में जुटे हुए हैं. इस बार बीजेपी से अपना गढ़ बचाना उनके लिए चुनौतीपूर्ण माना जा रहा है.

बीजेपी के अरविंद शर्मा दे रहे कड़ी टक्कर

बीजेपी ने अरविंद शर्मा को भले ही सोनीपत से लाकर रोहतक में उतारा हो लेकिन वे यहां कांग्रेस को पूरी टक्कर दे रहे हैं. साथ ही बीजेपी अपने पूरे संगठन की ताकत से चुनाव लड़ रही है. रोहतक निगम चुनाव में मिली जीत का भी उन्हें फायदा मिलेगा. जजपा और कांग्रेस के जाट उम्मीदवारों के बीच अरविंद शर्मा गैर जाट उम्मीदवार हैं. ऐसे में उन्हें इस बात का पूरा फायदा मिल सकता है.​

लोकसभा चुनाव के नतीजे आने में लग सकते हैं 2-3 दिन, दोपहर तक मिलेंगे शुरुआती रुझान

अपने WhatsApp पर पाएं लोकसभा चुनाव के लाइव अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज