रोहतक: PGI ने स्टाफ को क्वारेंटाइन करने के लिए MDU से मांगा फैकल्टी हाउस, कर्मचारियों ने किया विरोध
Rohtak News in Hindi

रोहतक: PGI ने स्टाफ को क्वारेंटाइन करने के लिए MDU से मांगा फैकल्टी हाउस, कर्मचारियों ने किया विरोध
क्वारेंटाइन सेंटर बनाने को लेकर बढ़ा विवाद (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना में ड्यूटी देने वाले मेडिकल स्टाफ (Medical Staff) और पैरामेडिकल स्टाफ को भी क्वारेंटाइन करना पड़ता है. इसके अलावा अन्य बीमारियों के भी कुछ ऐसे मरीज आ जाते हैं, जो कि कोरोना (Corona Virus) संदिग्ध होते हैं, लेकिन उनका पता नहीं चल पाता.

  • Share this:
रोहतक. पीजीआई और एमडी यूनिवर्सिटी के कर्मचारियों के बीच इन दिनों एक अजीब सा विवाद बना हुआ है. पीजीआई ने कोरोना में ड्यूटी करने वाले मेडिकल स्टाफ (Medical ) को क्वॉरेंटाइन करने के लिए एमडी यूनिवर्सिटी से फैकल्टी हाउस मांगा तो एमडीयू के कर्मचारियों ने इसका विरोध शुरू कर दिया और कहा कि किसी भी कीमत पर एमडीयू (MDU) की बिल्डिंग को क्वारेंटाइन सेंटर नहीं बनने देंगे. विवाद बढ़ता देख रोहतक के डीसी को इस मामले में हस्तक्षेप करना पड़ा.

बता दें कि रोहतक पीजीआई प्रदेश का सबसे बड़ा मेडिकल संस्थान है और यहां पर रोहतक के अलावा झज्जर और जींद जिले के कोरोना मरीजों का इलाज किया जाता है. कोरोना में ड्यूटी देने वाले मेडिकल स्टाफ और पैरामेडिकल स्टाफ को भी क्वारेंटाइन करना पड़ता है. इसके अलावा अन्य बीमारियों के भी कुछ ऐसे मरीज आ जाते हैं, जो कि कोरोना संदिग्ध होते हैं, लेकिन उनका पता नहीं चल पाता.

ऐसे हालात में इलाज करने वाले पूरे स्टाफ को इमरजेंसी क्वारेंटाइन करना पड़ता है. फिलहाल डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ को अलग-अलग स्थानों पर क्वारेंटाइन कर रखा गया है. अब अतिरिक्त जगह की जरूरत पड़ी तो एमडीयू का फैकल्टी हाउस मांगा गया है.



एमडीयू का स्टाफ नाराज
फैकल्टी हाउस को क्वारेंटाइन सेंटर में बदलने की योजना से एमडीयू का टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ नाराज हो गया. उन्होंने कहा कि एमडीयू ग्रीन जोन में है और इसे क्वारेंटाइन सेंटर बनाने के बाद यहां पर इंफेक्शन फैलने का खतरा बढ़ जाएगा, यूनिवर्सिटी में रहने वाले स्टाफ और उनके परिजनों पर भी यह खतरा बढ़ जाएगा. इसलिए मेडिकल के स्टाफ को यहां पर क्वॉरेंटाइन करने से यूनिवर्सिटी के सभी कर्मचारी नाराज हैं.

उपायुक्त ने की मध्यस्तता

इस बारे में हेल्थ यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डॉ एचके अग्रवाल ने बताया कि पीजीआई में इलाज के लिए आने वाले कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. समय-समय पर इलाज करने वाले मेडिकल स्टाफ को भी क्वारेंटाइन करना पड़ता है. हमारे पास फिलहाल जगह की कमी है इसलिए एमडीयू से फैकल्टी हाउस मांगा गया है. रोहतक के डीसी ने मध्यस्था की है और हमें उम्मीद है कि एमडीयू हमें फैकल्टी हाउस देगा. वहीं, दूसरी ओर रोहतक एडीसी आरएस वर्मा ने भी साफ किया कि मेडिकल फैकल्टी को क्वारेंटाइन के लिए एमडी यूनिवर्सिटी में जगह दी जाएगी और इसके पूरे प्रबंध कर लिए गए हैं.

ये भी पढ़ें-

Lockdown में विदेश घूमना चाहते हैं दर्जनों शिक्षक, सरकार ने कहा- घर बैठो 

दादरी सीएमओ पर COVID-19 की गलत रिपोर्ट देने का आरोप, बंद कमरे में हुई पूछताछ
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading