Rohtak Corona News: कोरोना नियमों की उड़ीं धज्जियां, शीतला मंदिर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़

लोग नियमों की उड़ा रहे धज्जियां

लोग नियमों की उड़ा रहे धज्जियां

Rohtak COVID-19 Update: नवरात्रि के मौके पर रोहतक के शीतला माता मंदिर में उमड़ी श्रद्धालुओं की भारी भीड़. मंदिर के महंत ने कहा- आग्रह करने के बाद भी प्रशासन ने मंदिर बंद करने का नहीं दिया आदेश.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 15, 2021, 9:16 AM IST
  • Share this:
रोहतक. आस्था के चलते श्रद्धालु अपनी और अपने बच्चों की जिंदगी से खिलवाड़ करने में जुटे हुए हैं. रोहतक के शीतला माता मंदिर में कोरोना से बचाव की कोइ सतर्कता दिखाई नहीं दे रही है. ना लोगों के मुंह पर मास्क है और ना ही सोशल डिस्टेंसिंग. पुजारी कह रहे हैं हमने तो कहा था कि प्रशासन मंदिर बंद कर दें. लेकिन मंदिर बंद नहीं हुआ और आज हालात यह है कि हम लोगों के सामने मजबूर हैं.

चैत्र में हर बुधवार मंदिर में मेला लगाया जाता है. यहां नवजात बच्चों को लेकर नवविवाहित जोड़े पूजा करने आते हैं. कोरोना संक्रमण के चलते जहां पिछले साल मंदिर बंद रखा गया था. इस बार भी मंदिर के महंत ने प्रशासन से कोरोना संक्रमण के चलते मंदिर बंद रखने को कहा था. लेकिन प्रशासन ने मंदिर बंद नहीं किया. हालांकि कोरोना संक्रमण के चलते दिशा निर्देश ज़रूर जारी कर दिए गए थे कि श्रद्धालु मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें. लेकिन श्रद्धालु दिशा निर्देशों का पालन करते नजर नहीं आए. हालांकि पुलिस कर्मचारी मौजूद जरूर रहे और लोगों से कहते रहे कि वे मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें.

प्रशासन ने नहीं मानी बात

मंदिर के महंत थानेश्वर दास का कहना है कि पिछले साल कोरोना के कारण चैत्र में मंदिर बंद कर दिया गया था. इस बार भी महंत ने जिला प्रशासन से कहा था कि वे दिशा निर्देशों का पालन नहीं करवा पाएंगे. इसलिए मंदिर को बंद कर दिया जाए. लेकिन जिला प्रशासन ने उनकी बात नहीं मानी. हालांकि वे श्रद्धालुओं से गुजारिश कर रहे हैं कि मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें, लेकिन ऐसा कुछ दिखाई नहीं दे रहा है.
डर जरूर लग रहा, लेकिन मंदिर में नहीं होगा कोरोना!

अपने बच्चों और अपनी जान से खिलवाड़ करते दिखाई दे रहे कई श्रद्धालु मंदिर में ऐसे हालात पर कह रहे हैं कि कोरोना पर आस्था भारी पड़ रही है. श्रद्धालु कह रहे हैं कि डर जरूर लग रहा है लेकिन मंदिर में कोरोना नहीं होगा. उन्होंने अपनी गलती तो नहीं स्वीकारी, लेकिन जिला प्रशासन और सरकार पर व्यवस्थाएं ना बनाने का ठीकरा फोड़ दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज