होम /न्यूज /हरियाणा /हरियाणा: जिला परिषद चुनाव में वोटर्स ने बड़ी पार्टियों को नकारा, निर्दलीयों का रहा बोलबाला

हरियाणा: जिला परिषद चुनाव में वोटर्स ने बड़ी पार्टियों को नकारा, निर्दलीयों का रहा बोलबाला

हरियाणा में चेयरमैन चुनाव को लेकर सियासत तेज. (File)

हरियाणा में चेयरमैन चुनाव को लेकर सियासत तेज. (File)

हरियाण में जिला परिषण और पंचायत समितियों के नतीजों ने सियासी पार्टियों को बड़ा झटका दिया है. अब सूबे में चेयरमैन की कुर ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

हरियाणा में चेयरमैन की कुर्सी हथियाने सियासी जोड़-तोड़ शुरू
निर्दलीयों को साधने की तैयारी तेज
बीजेपी-कांग्रेस-आप कर रही चेयरमैन बनाने का दावा

रोहतक. हरियाणा के लोगों का एक खास स्वभाव है कि वे नेताओं को ज्यादा दिन सिर पर नहीं बैठाते. अगर कोई राजनीति में मुगालता पाल लेता है तो उसे आईना दिखाने में भी देर नहीं करते. साफ लफ्जों में कहें तो यहां के लोग नेताओं को जिताने की बजाय हराने में ज्यादा दिलचस्पी रखते हैं. पंचायत चुनाव के नतीजे इसका एक बड़ा उदाहरण है. प्रदेश के 22 जिलों से 411 उम्मीदवार जिला परिषद का चुनाव जीतकर आए हैं. हालांकि प्रदेश के सभी राजनीतिक दल लगातार दावे कर रहे हैं कि उनके पास जिला परिषद में बहुमत है. सबका अपना-अपना गणितहै, जबकि हकीकत यह है कि सभी राजनीतिक पार्टियों को जनता ने धूल चटाई है.

सत्तारूढ़ बीजेपी, आम आदमी पार्टी, इंडियन नेशनल लोकदल, बहुजन समाज पार्टी और सीपीएम ने ही अपने चुनाव चिन्ह पर कुल मिलाकर तकरीबन 300 सीटों पर चुनाव लड़ा था, जबकि कांग्रेस ने अपना सिंबल किसी उम्मीदवार को नहीं दिया और जननायक जनता पार्टी ने भी महज दो लोगों को पार्टी सिंबल पर चुनाव लड़वाया. ये इन राष्ट्रीय और प्रादेशिक पार्टियों का लेखा-जोखा है, जिसमें सभी पार्टियों के मिलाकर 411 में से महज 54 उम्मीदवार ही जीत पाए, बाकी 357 सीटों पर निर्दलीयों ने बाजी मारी है. सबसे बड़ा धक्का अगर किसी पार्टी को लगा है तो वह सत्तारूढ़ बीजेपी है, क्योंकि भाजपा ने काफी मंथन के बाद महज 7 जिलों की 102 सीटों पर पार्टी सिंबल पर चुनाव लड़ा. पार्टी अभी आदमपुर उपचुनाव की जीत की खुमारी में ही थी कि उसके  80 उम्मीदवार चुनाव हार गए. पार्टी को सबसे बड़ा धक्का उस वक्त लगा, जब सांसद नायब सिंह सैनी की धर्मपत्नी भी जिला परिषद का चुनाव हार गई.

230 से ज्यादा निर्दलीय हमारे समर्थक-भाजपा

भाजपा के प्रदेश महामंत्री वेदपाल एडवोकेट का दावा है कि निर्दलीय उम्मीदवारों में 230 से ज्यादा भाजपा समर्थित उम्मीदवार विजयी हुए हैं और कुछ अन्य निर्दलीय उम्मीदवार भी उनके संपर्क में है. प्रदेश के लगभग सभी जिला परिषद में भाजपा के चेयरमैन बनेंगे.

गठबंधन सरकार की उलटी गिनती शुरू -भूपेन्द्र हुड्डा

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने दावा किया कि प्रदेश से बीजेपी, जेजेपी, आप और इनेलो का सूपड़ा साफ हो चुका है. जनता ने इनको आईना दिखा दिया है. कांग्रेस पंचायत चुनाव कभी सिंबल पर नहीं लड़ती. ज्यादातर निर्दलीय कांग्रेस पार्टी के समर्थित हैं और उन्होंने बीजेपी-जेजेपी को हराकर ही जीत हासिल की है. हुड्डा ने तंज कसते हुए कहा कि अब गठबंधन सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो गई है और 2024 में प्रदेश की जनता इन्हें सबक सिखाएगी. हुड्डा ने कहा कि बीजेपी को सिर्फ 5 फ़ीसदी वोट मिले हैं और जेजेपी का आंकड़ा तो जीरो प्रतिशत है.

जनता ने बीजेपी-जेजपी को दिखाया आईना- अभय चौटाला

इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने भी दावा करते हुए कहा कि इन चुनावों में जनता ने बीजेपी और जेजेपी को आईना दिखाया है. अगर उनमें दम था तो सभी सीटों पर सिंबल पर चुनाव लड़ कर देख लेते. अभय सिंह ने दावा किया कि 98 सीटों पर हमने चुनाव लड़ा था, जिनमें 16 सीटों पर उनके उम्मीदवार जीते हैं और जो दूसरे या तीसरे नंबर पर आए हैं, उनमें कोई भी उम्मीदवार बीजेपी या जेजेपी के उम्मीदवारों से नहीं हारा.

ये भी पढ़ें: हरियाणा विधानसभा चुनाव में लोगों की पहली पसंद होगी AAP : अरविंद केजरीवाल

इधर, जेजेपी नेता दिग्विजय चौटाला ने भी दावा किया कि उनकी पार्टी के समर्थित 84 उम्मीदवार चुनाव जीते हैं, जिनमें ज्यादातर पार्टी पदाधिकारी हैं. कांग्रेस पार्टी को चैलेंज करते हुए कहा कि वे जिस तरह के दावे कर रहे हैं, वह सिर्फ जनता को बरगलाने के लिए है. अगर कांग्रेस के पास कोई सूची है तो वह जारी करे. हम डंके की चोट पर दावा करते हैं कि हमारे 84 सदस्य हैं, जो चुनाव जीतकर आए हैं. कई अन्य निर्दलीय सदस्य भी उनके संपर्क में हैं. प्रदेश के कई जिलों में जननायक जनता पार्टी के चेयरमैन बनेंगे.

हम बनाएंगे दो चेयरमैन-अनुराग ढांडा

आम आदमी पार्टी के 100 उम्मीदवारों में से 15 सदस्य जिला परिषद चुनाव में जीते हैं. पार्टी के नेता अनुराग ढांडा ने दावा किया कि विभिन्न जिलों में 28 सदस्य उनके संपर्क में हैं, जिन्हें जल्द ही आम आदमी पार्टी में शामिल कराया जाएगा. उनका कहना है कि दो जिला परिषद में आम आदमी पार्टी के चेयरमैन बनेंगे. अब सबसे बड़ी अग्नि परीक्षा उन निर्दलीय सदस्यों की है, जोकि इन पार्टियों के उम्मीदवारों को धूल चटाकर जीत दर्ज करके आए हैं. सभी पार्टियां दावे कर रही है कि उनके संपर्क में सबसे ज्यादा निर्दलीय सदस्य हैं. भाजपा और कांग्रेस ने बाकायदा अपने पदाधिकारियों की ड्यूटी लगा दी गई है कि ज्यादा से ज्यादा निर्दलीय सदस्यों को अपने पाले में लाया जाए. जेजेपी, इनेलो और आम आदमी पार्टी भी पीछे नहीं है. सभी पार्टियां दावे कर रही हैं कि वे निर्दलीय सदस्यों के संपर्क में है और सबसे ज्यादा चेयरमैन वही बनाएंगे.

Tags: Haryana news, Rohtak News

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें