राम रहीम के बर्थडे कार्ड्स की सुनारिया जेल में आई बाढ़, पोस्टमास्टर परेशान

राम रहीम  (फाइल फोटो)
राम रहीम (फाइल फोटो)

सुनारिया गांव के पोस्टमास्टर जगदीश बधवार का कहना है कि बीते एक सप्ताह से उनका काम दोगुना हो गया है.

  • Share this:
रोहतक की सुनारिया जेल में साध्वी यौन शोषण मामले में सजा काट रहे राम रहीम के जन्मदिन पर 8-10 भक्तों ने शुभकामनाएं नहीं भेजीं, बल्कि सैंकड़ों की तादाद में कार्ड सुनारिया जेल पहुंचे हैं. जन्मदिन को 6 दिन गुजर चुके हैं, लेकिन कार्ड पहुंचने का सिलसिला अब भी जारी है. देश के अलग-अलग हिस्सों से राम रहीम के नाम पर कार्ड पहुंच रहे हैं. रोहतक के स्थानीय पोस्ट ऑफिस में पिछले एक हफ्ते से कार्ड्स का अंबार लगा हुआ है.

सुनारिया गांव के पोस्टमास्टर जगदीश बधवार का कहना है कि बीते एक सप्ताह से उनका काम दोगुना हो गया है. उन्होंने कहा कि दो दशक के अपने करियर में मैंने कभी किसी एक शख्स के नाम इतने खत आते नहीं देखे. ऐसे बैकग्राउंड वाले शख्स के लिए इतनी शुभकामनाएं हैरान करती हैं.

बड़ी तादाद में पहुंच रहे ग्रीटिंग कार्ड



उन्होंने बताया कि आमतौर पर वह सुबह 9 बजे दफ्तर पहुंचते हैं और दोपहर 1 बजे तक लगभग सारे काम सिमटने को होते हैं. लेकिन पिछले कुछ दिनों से स्टाफ 8 बजे सुबह आता है और शाम 6 बजे तक भी काम खत्म नहीं हो पा रहा. इसका कारण है, बड़ी तादाद में ग्रीटिंग कार्डों का पहुंचना.
बाइक की जगह ऑटो रिक्शा से भेजनी पड़ रही पोस्ट

राम रहीम के नाम स्पीड पोस्ट और जनरल पोस्ट से खूबसूरत और रंगीन कार्ड पहुंच रहे हैं जिनकी कीमत 50 से 100 रुपये के बीच है. पोस्ट मास्टर राजेश कुमार का काम है रोहतक के हेड ऑफिस से सुनारिया सब-पोस्ट ऑफिस तक पोस्ट लेकर पहुंचना. इस काम के लिए आमतौर पर वह बाइक का इस्तेमाल करते थे लेकिन इन दिनों उन्हें ऑटोरिक्शा करना पड़ता है.

कार्डो को स्कैन कर राम रहीम तक पहुंचाया जा रहा

जब जेल अधिकारियों से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हरियाणा जेल मैनुअल के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए वे सारे कार्ड राम रहीम तक पहुंचा रहे हैं. राम रहीम तक कार्ड पहुंचाने से पहले उनकी स्कैनिंग की जा रही है.

पंचकूला हिंसा: SIT ने मोस्ट वांटेड आरोपी गोबी राम को किया गिरफ्तार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज