BJP के लिए मुसीबत बने बागी, CM खट्टर ने की नामांकन वापस लेने की गुजारिश
Rohtak News in Hindi

BJP के लिए मुसीबत बने बागी, CM खट्टर ने की नामांकन वापस लेने की गुजारिश
सीएम खट्टर को है इस बात से परेशानी

हरियाणा विधानसभा चुनाव (Haryana Assembly Election 2019) के महज कुछ दिन पहले सत्तारूढ़ भाजपा (BJP) और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस (Congress) दोनों के लिए बागी सिरदर्द बन गए हैं.

  • Share this:
रोहतक. विधानसभा चुनाव (Haryana Assembly Election) से पहले बागियों ने बीजेपी (BJP) की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. टिकट न मिलने से नाराज रेवाड़ी के मौजूदा विधायक ने निर्दलीय उम्‍मीदवार के तौर पर उतरकर सीएम मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) की मुश्किलें और बढ़ा दी हैं. उन्होंने बागियों से गुजारिश की है कि  वो पार्टी प्रत्याशियों की खातिर अपना नामांकन वापस ले लें.

नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि सात अक्टूबर है
बता दें कि पार्टी के खिलाफ विद्रोह करने वालों में रंधीर कपड़ीवास (रेवाड़ी) और गुड़गांव विधायक उमेश अग्रवाल हैं, जिन्होंने अपनी पत्नी अनीता को निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव मैदान में उतारा है. भाजपा ने 48 विधायकों में से 12 को टिकट नहीं दिया है. इनमें राव नरबीर सिंह और विपुल गोयल शामिल हैं. नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि सात अक्टूबर यानि सोमवार तक है.

खट्टर ने एक कार्यक्रम से इतर यहां मीडिया से कहा,
'12 विधायकों में से केवल गुड़गांव और रेवाड़ी के विधायक बागी हुए हैं. हम कोशिश करेंगे कि वे पीछे हट जाएं और पार्टी द्वारा उतारे गए प्रत्याशियों को समर्थन दें.'

खट्टर ने कहा, 'लोग चुनाव में उन्हें जवाब देंगे'


इस कार्यक्रम में तीन पूर्व विधायक- इनेलो से एक और कांग्रेस से दो विधायक भाजपा में शामिल हुए. कांग्रेस द्वारा उनकी सरकार पर केवल 'कार्यक्रम प्रबंधन' करने और लोगों से किए गए वादों को पूरा नहीं किए जाने के आरोप को लेकर पूछे गए सवाल पर खट्टर ने कहा, 'लोग चुनाव में उन्हें जवाब देंगे.'

उन्होंने कहा, 'हम जानते हैं कि चुनावी घोषणापत्र में हमारे द्वारा किए गए वादों से हमने कहीं ज्यादा किया है. उदाहरण के लिए बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और हरियाणा को मिट्टी तेल से मुक्त करने जैसी पहलों का वादा नहीं किया गया था, लेकिन हमने ये चीजें की.'

कांग्रेस नेता प्रोफेसर संपत सिंह के भाजपा में शामिल होने की खबरों पर खट्टर ने कहा, 'वह अच्छे व्यक्ति हैं. जब वह सरकार में थे, उनका प्रदर्शन अच्छा था. अगर वह शामिल होते हैं, तो हम आपको बताएंगे.'

ये भी पढ़ें:

बुजुर्ग ने जमीनी विवाद और पुलिस से परेशान होकर सुसाइड नोट लिखा और दे दी जान

कुमारी शैलजा बोलीं, हरियाणा में सत्ता में आने पर माफ करेंगे किसानों का कर्ज
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज