रोहतक : 7 महीने में जीएसटी कार्यालय ने हासिल किया 1100 करोड़ का राजस्व
Rohtak News in Hindi

रोहतक : 7 महीने में जीएसटी कार्यालय ने हासिल किया 1100 करोड़ का राजस्व
प्रतीकात्मक तस्वीर

रोहतक जीएसटी कमिश्नर कार्यालय के तहत प्रदेश के 9 जिले आते हैं और इन जिलों में रोहतक के अलावा सोनीपत, झज्जर, हिसार, फतेहाबाद, सिरसा, भिवानी, चरखी दादरी और जींद शामिल हैं.

  • Share this:
रोहतक स्थित वस्तु एवं सेवा कर कार्यालय ने पिछले 7 महीने में कर के रूप में तकरीबन 1100 करोड रूपए का राजस्व हासिल किया है. इसमें 593 ऐसे केस थे, जो इससे पहले टैक्स भरते ही नहीं थे, उनसे भी तकरीबन 160 करोड रूपए टैक्स लिया गया है. इस दौरान फर्जी इनवाइस बनाकर देशभर में टैक्स चोरी करने वाले एक गिरोह को भी पकड़ा गया है, जिनसे तकरीबन 11 करोड रूपए की राशि रिकवर की जाएगी.

रोहतक जीएसटी कमिश्नर कार्यालय के तहत प्रदेश के 9 जिले आते हैं और इन जिलों में रोहतक के अलावा सोनीपत, झज्जर, हिसार, फतेहाबाद, सिरसा, भिवानी, चरखी दादरी और जींद शामिल हैं. जीएसटी लागू होने के बाद इन जिलों में तकरीबन 39 हजार करदाता शामिल हैं, इसके अलावा अभी भी साढे 9 हजार के करीब ऐसे बिजनेशमैन हैं, जो कर अदायगी नहीं कर रहे. इनको विभाग की तरफ से नोटिस दिया जा रहा है और अगर इसके बाद भी टैक्स नहीं भरा तो ब्याज के साथ पैनल्टी भी भुगतनी पड़ेगी.

कांग्रेस का आरोप- PM मोदी ने 'आधे-अधूरे' KMP-एक्सप्रेसवे का किया उद्घाटन



विभाग के कमिश्नर विजय मोहन जैन ने बताया कि साल 2018-19 के लिए 2165 करोड रूपए कर संग्रह करने का लक्ष्य है, जोकि आसानी से पूरा हो जाएगा. लोगों को जागरूक किया जा रहा है और फर्जी तरीके से टैक्स चोरी करने वालों को भी पकड़ा गया है.
8-9 साल पहले मिल जाना चाहिए था KMP, कांग्रेस की वजह से 3 गुना बढ़ी लागत : PM

अभी भी साढ़े 9 हजार ऐसे लोगों की पहचान की गई है, जोकि टैक्स के दायरे में आते हैं, लेकिन टैक्स नहीं भर रहे. उनको नोटिस दिए जा रहे हैं. अगर उसके बाद भी वे मुख्यधारा में नहीं आते हैं तो भारी जुर्माना भी भुगतना पड़ सकता है.

हरियाणा, यूपी और दिल्ली के लोगों को होगा कुंडली-पलवल-मानेसर एक्सप्रेस-वे से फायदा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज