कभी दादा आपस में टकराए, फिर बेटों में टक्कर अब तीसरी पीढ़ी की बारी
Rohtak News in Hindi

कभी दादा आपस में टकराए, फिर बेटों में टक्कर अब तीसरी पीढ़ी की बारी
हरियाणा में तीन लालों की तीसरी पीढ़ी चुनावी दंगल में टकरा रही है. जानते हैं कैसी है ये तीसरी पीढी और देश में कितने हैं ऐसे सियासी परिवार

हरियाणा में तीन लालों की तीसरी पीढ़ी चुनावी दंगल में टकरा रही है. जानते हैं कैसी है ये तीसरी पीढी और देश में कितने हैं ऐसे सियासी परिवार

  • Share this:
हरियाणा में सियासी बिसात में इस आम चुनावों में एक खास बात देखने में आ रही है. जिन सीटों पर कभी दादा आपस में टकराए, फिर पिताओं ने ताकत की आजमाइश की, उसी सियासी शतरंज पर अब तीसरी पीढ़ी चुनाव के मोहरे सजाकर बैठ गई है. तीसरी पीढ़ी की चुनावी अदावत में हरियाणा देश में सबसे आगे है. मूल तौर पर देश के इस सूबे की सियासत का स्टीयरिंग तीन परिवारों के पास रहता आया है. अब भी वही तीन परिवार हरियाणा की राजनीति में हावी हैं.

हरियाणा में तीन ताकतवर सियासी परिवार तीन लालों के नाम से जाने जाते हैं. यानी भजनलाल, बंसीलाल और देवीलाल. इन तीनों परिवारों की धमक 60-70 के दशक से शुरू हुई जो अब तक जारी है. हालांकि एक परिवार अब और इस टक्कर में शामिल हो चुका है, जो हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का परिवार है.

इन तीनों परिवारों से जो युवा लोकसभा चुनावों में भाग्य आजमा रहे हैं उसमें श्रुति चौधरी, भव्य विश्नोई और दुष्यंत चौटाला हैं. हिसार ऐसी सीट है जहां दो लालों की मौजूदा पीढी के युवा टकराने जा रहे हैं.



बंसीलाल परिवार 
बंसीलाल के परिवार की तीसरी पीढ़ी से अबकी उनकी पोती श्रुति चौधरी पारिवारिक सीट भिवानी से खड़ी हैं. आपातकाल के दिनों में चर्चित हुए बंसीलाल को यहां के पुराने लोग अब भी याद करते हैं. हालांकि ये शहर के बजाय एक छोटा कस्बा ज्यादा लगता है. लेकिन ये वो इलाका है, जहां से लगातार बंसीलाल के परिवार के लोग चुनाव जीतकर मंत्री बनते रहे हैं. पिछले चुनाव में परिवार को जरूर झटका लगा था, जब श्रुति चौधरी भाजपा के धर्मवीर से चुनाव हार गईं थीं.

इससे पहले श्रुति के पिता सुरेंद्र सिंह यहां से चुनाव लड़ चुके हैं. वो प्रदेश सरकार में मंत्री भी रहे हैं. बंसीलाल की बहू किरण चौधरी हरियाणा की पिछली कांग्रेस सरकार में चर्चित मंत्री रही हैं.

shruti chaudhary
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ श्रुति चौधरी बाएं.


श्रुति की शुरुआती पढ़ाई दिल्ली में हुई. उन्होंने आरके पुरम के दिल्ली पब्लिक स्कूल के बाद ऑक्सफोर्ड में पढाई की. वो पेशे वकील हैं. खूबसूरत श्रुति को पॉलिटिक्स विरासत में मिली है.

चौटाला परिवार
सही बात ये है कि हरियाणा की राजनीति चौटाला परिवार के बगैर हमेशा अधूरी कही जाएगी. इसकी शुरुआत देवीलाल से होती है. वो कद्दावर नेता थे. वो हरियाणा में मुख्यमंत्री रहे और फिर प्रधानमंत्री वीपी सिंह के कार्यकाल में उप प्रधानमंत्री बने. देवीलाल की राजनीतिक विरासत ओमप्रकाश चौटाला ने संभाली. वो भी हरियाणा में मुख्यमंत्री रहे.

हकीकत में चौटाला परिवार की ये तीसरी नहीं बल्कि चौथी पीढ़ी चुनाव मैदान में होगी. तीसरी पीढ़ी की अगुआई अजय और अभय चौटाला ने की. उन्होंने पारिवारिक पार्टी इंडियन नेशनल लोकदल का मोर्चा संभाला. लेकिन चौथी पीढ़ी तक आने के बाद पारिवारिक कलह का असर ये हुआ है कि ये पार्टी बंट गई है.
इसमें एक ओर पूर्व सांसद अजय चौटाला के युवा बेटे दुष्यंत चौटाला हैं, जिन्होंने जननायक जनता पार्टी बना ली है.dushyant chautala

इसी पार्टी से वो हिसार से चुनावी दंगल में कूदे हैं. दुष्यंत वर्ष 2014 में लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं. लंबे समय तक वो टीवी पर इनेलो का चेहरा हुआ करते थे. उन्होंने कैलिफोर्निया से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की पढाई की है. हालांकि दुष्यंत के चाचा अभय और दादा ओमप्रकाश चौटाला इनेलो का झंडा बुलंद कर रहे हैं.

भजनलाल की तीसरी पीढ़ी
हरियाणा के भजनलाल ऐसे लाल हैं, जो 1979 में जनता पार्टी का मुख्यमंत्री बनने के बाद अगले ही साल अपनी पूरी पार्टी को दलबदल कराते हुए कांग्रेस में ले गए. उन्हें राजनीति का चाणक्य और दलबदल के ‘इंजीनियर’ के नाम से भी जाना जाता था. हालांकि कांग्रेस ने उन्हें 2008 में निलंबित भी किया. भजनलाल ने नई पार्टी भी बनाई, लेकिन अब फिर वो कांग्रेस में हैं.

उनके पोते भव्य विश्नोई को कांग्रेस ने हिसार से उतारा है. वो आक्सफोर्ड से पढ़कर लौटे हैं. वो अच्छे क्रिकेटर रह चुके हैं. आक्सफोर्ड की क्रिकेट टीम से वो एक मैच भी खेल चुके हैं. वो स्मार्ट हैं. अच्छा भाषण देते हैं और जनसंपर्क की कला में माहिर हैं.bhavya bisnoi

भव्य के पिता कुलदीप विश्नोई भी चुनाव जीत चुके हैं. जबकि भजनलाल के एक और चर्चित बेटे चंद्रमोहन करनाल से चुनाव लड़ सकते हैं. करनाल की सीट भजनलाल परिवार की पारंपरिक सीट कही जाती रही है.

चौथा परिवार भी है
सोनीपत से कांग्रेस के उम्मीदवार भूपेंद्र सिंह हुड्डा हैं. वो हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री रहे हैं. उनकी तीसरी पीढ़ी भी सियासत में है. भूपेंद्र के पिता रणबीर सिंह आजादी के बाद भारतीय संविधान सभा के सदस्य थे. इस परिवार की तीसरी पीढ़ी को रिप्रजेंट करते हैं दीपेंद्र सिंह हुड्डा, जो रोहतक से सांसद रहे हैं. कांग्रेस ने फिर उन्हें रोहतक से ही टिकट दिया है.

देश के वो सियासी परिवार, जिनकी तीसरी पीढ़ी मैदान में है
1. नेहरू गांधी परिवार - कांग्रेस परिवार ने मोतीलाल नेहरू के साथ सियासत में कदम रखा. इसके बाद इसकी अगली पीढ़ियों को जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी ने रिप्रजेंट किया. ये तीनों देश के प्रधानमंत्री भी रहे. अब इस परिवार की मौजूदा पीढ़ी से राहुल गांधी हैं, जो कांग्रेस के अध्यक्ष हैं.

2. चरण सिंह- पूर्व प्रधानमंत्री चरण सिंह की राजनीतिक विरासत पहले तो उनके बेटे अजित सिंह ने संभाली. वो चरण सिंह की बनाई पार्टी लोकदल के अध्यक्ष हैं. अजित सिंह इस बार मुजफ्फरनगर से चुनाव लड़ रहे हैं. साथ ही उनके बेटे और चरण सिंह के पोते जयंत बागपत से चुनाव मैदान में हैं.

3. शरद पवार - महाराष्ट्र की राजनीति में ताकतवर शरद पवार की तीसरी पीढ़ी राजनीति में एंट्री के लिए तैयार है. उनके भतीजे अजीत पवार के बेटे पार्त मवाल सीट से चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं.

Political Family
शरद पवार फैमिली ट्री.


4. ठाकरे परिवार - महाराष्ट्र की सियासत में सबसे ताकतवर परिवार है ठाकरे परिवार. इस परिवार की तीसरी पीढ़ी राजनीति में प्रवेश कर चुकी है. बाल ठाकरे के पोते और उद्धव के बेटे आदित्य ठाकरे सियासी एंट्री ले चुके हैं.

5. करुणानिधि परिवार - करुणानिधि ने तमिलनाडु की राजनीति में हलचल मचाते हुए द्रविण मुनेत्र कड़गम पार्टी खड़ी की थी. उसके बाद ये स्टालिन के हाथों में आई. उनके बेटे उदयगिरी को भी राजनीति के मंचों पर देखा जाता है.

6. सिंधिया परिवार - सिंधिया परिवार में राजमाता सिंधिया भारतीय जनता पार्टी से जुड़ीं तो उनके बेटे माधवराव सिंधिया कांग्रेस से. अब तीसरी पीढ़ी के ज्योतिरादित्य कांग्रेस के सांसद है.

7. एनटीआर परिवार - आंध्र प्रदेश से ताल्लुक रखने वाले एनटीआर फिल्मी दुनिया से राजनीति में आए. उन्होंने तेलुगूदेशम पार्टी बनाई. इसके बाद उनके दामाद चंद्रबाबू ने इस पार्टी की विरासत संभाली. अब चंद्रबाबू के बेटे लंकेश भी राजनीति में कदम रख चुके हैं.

8. अब्दुल्ला परिवार - कश्मीर में इस परिवार की राजनीति की शुरुआत शेख अब्दुल्ला से हुई. उन्होंने नेशनल कांफ्रेंस पार्टी बनाई. पहले वो खुद कश्मीर के मुख्यमंत्री बने. फिर उनके बेटे फारूक अब्दुल्ला ने सत्ता संभाली. वो मुख्यमंत्री बने. अब पार्टी की ताकत उमर अब्दुल्ला हैं. उमर भी  मुख्यमंत्री रह चुके हैं.

9. मुलायम सिंह परिवार - तेज प्रताप यादव मुलायम सिंह यादव की तीसरी पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करते हैं. वो मुलायम के बड़े भाई रतन सिंह के पोते हैं. मुलायम के बाद अब समाजवादी पार्टी की कमान उनके बेटे अखिलेश के हाथों में है. मुलायम का कुनबा भारतीय सियासत का सबसे बड़ा कुनबा है.

Political Family
मुलायम सिंह यादव फैमिली ट्री.


इसके अलावा हिमाचल प्रदेश में सुखराम, कर्नाटक में देवेगौडा और उत्तराखंड में हेमवती नंदन बहुगुणा की तीसरी पीढ़ी भी इस चुनाव में एंट्री ले चुकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज