हरियाणा : सिरसा जिले में कोरोना के बाद ब्लैक फंगस का कहर, अब तक मिले 38 मरीज, 8 की मौत

हरियाणा के सिरसा जिले में ब्लैक फंगस से हो चुकी है अब तक 8 मौतें. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

सिरसा के सीएमओ डॉ मनीष बांसल ने बताया कि ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए सिरसा को मिले 18 इंजेक्शन. चिंतित तीमारदारों का कहना है कि बाजार में आसानी से नहीं मिल रहा ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाला इंजेक्शन.

  • Share this:
सिरसा. सिरसा जिले (Sirsa district) में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के कहर के बाद अब ब्लैक फंगस (black fungus) के बढ़ते प्रकोप ने स्वास्थ्य विभाग और आमजन की चिंताएं बढ़ा दी हैं. ब्लैक फंगस के नए मामले रोज सामने आ रहे हैं. अब तक ब्लैक फंगस के 38 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि इसके कारण 8 लोगों की मौत हो चुकी है.

इंजेक्शन आसानी से उपलब्ध नहीं

ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाला इंजेक्शन आसानी से उपलब्ध नहीं होने से भी मरीजों और उनके तीमारदारों की परेशानी बढ़ी है. हालांकि सिरसा सदर अस्पताल को 18 इंजेक्शन मिलने की पुष्टि सिरसा के सीएमओ डॉ मनीष बांसल ने की है. लेकिन ब्लैक फंगस के केसों की संख्या के लिहाज से इंजेक्शन की यह खेप ऊंट के मुहं में जीरा के समान है. लोगों को बाहर से इंजेक्शन मंगवा कर अपने मरीजों का इलाज करवाना पड़ रहा है.

अग्रोहा मेडिकल कॉलेज को बनाया गया नोडल सेंटर

सदर अस्पताल में आने वाले मरीजों को अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफेर करने की व्यवस्था की गई है, क्योंकि अग्रोहा मेडिकल कॉलेज को ब्लैक फंगस के इलाज के लिए नोडल सेंटर बनाया गया है. लेकिन सिरसा में ज्यादातर मरीज निजी अस्पतालों से अपना इलाज करवा रहे हैं.

ब्लैक फंगस के 38 मामले मिले, 8 मरीजों की हुई मौत

सदर अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. मनीष बंसल ने बताया कि सिरसा में 38 केस रिपोर्ट हुए हैं, जबकि अब तक ब्लैक फंगस के कारण 8 लोगों की मौत हो चुकी है. उन्होंने बताया कि ब्लैक फंगस को लेकर अग्रोहा मेडिकल कॉलेज को नोडल सेंटर बनाया गया है.

अग्रोहा मेडिकल कॉलेज को मिले 18 इंजेक्शन

उन्होंने बताया कि सिरसा में ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में किया जाएगा. उन्होंने बताया कि सिरसा को ब्लैक फंगस के मरीजों के इलाज के लिए अभी तक 18 इंजेक्शन मिले हैं और उम्मीद करते हैं कि शीघ्र और भी इंजेक्शन मिल जाएंगे.