लिंगानुपात में सिरसा फिर हरियाणा में नंबर 1, अक्टूबर तक 1000 लड़कों पर जन्‍मीं 947 लड़कियां

सिरसा लिंगाुनपात के मामले में हरियाणा में टॉप जिला है.
सिरसा लिंगाुनपात के मामले में हरियाणा में टॉप जिला है.

हरियाणा (Haryana) में सिरसा (Sirsa) जिला लिंगानुपात (Sex ratio) के मामले में टॉप पर है. सबसे कम लिंगानुपात झज्जर (Jhajjar) जिले में दर्ज किया गया है. अक्टूबर महीने तक प्रदेश में 434286 बच्चों ने जन्म लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2020, 6:27 PM IST
  • Share this:
सिरसा. लिंगानुपात (Sex Ratio) के मामले  में पीछे रहने वाले राज्य हरियाणा (Haryana) का सिरसा (Sirsa) जिला प्रदेश में लिंगानुपात के मामले में टॉप पर है. अक्टूबर महीने तक सिरसा जिले में 1000 लड़कों के पीछे 947 लड़कियों का जन्म हुआ है. समान लिंगानुपात कि दिशा में प्रदेश में दूसरा स्थान पानीपत (Panipat) जिले का है, जहां  पर 1000 लड़कों पर 946 लड़कियां जन्मीं हैं. वहीं तीसरा स्थान कुरुक्षेत्र का है, जहां पर 937 लड़कियां जन्मी हैं. वहीं झज्जर जिला 880 लड़कियों के साथ प्रदेशभर में सबसे निचले 22वें स्थान पर रहा. अक्टूबर महीने तक प्रदेश में 434286 बच्चों ने जन्म लिया है, जिनमें से 226359 लड़के और 207927 लड़कियां हैं. प्रदेशभर में लिंगानुपात की दर एक हजार लड़कों के पीछे 919 लड़कियां हैं. सिरसा जिले में अक्टूबर महीने तक कुल 17099 बच्चों ने जन्म लिया, इनमें 8780 लड़के और 8319 लड़कियां शामिल हैं.

2015,16, 17 और 2018 में भी टॉप रहा जिला
लिंगानुपात मामले में सिरसा जिला इससे पहले 2019 में और 2018 में भी टॉप पर था. उस समय यहां पर एक हजार लड़कों पर 935 लड़कियों की संख्या दर्ज की गई थी. वहीं 2015 और 2016 में भी लिंगानुपात में सिरसा टॉप रहा था, जबकि 2017 में सिरसा चौथे स्थान पर खिसक गया था. हालांकि 2020 की शुरुआत में लिंगानुपात के मामले में सिरसा कुछ पिछड़ गया, लेकिन बाद में फिर से विभागीय अधिकारियों ने सख्ती शुरू की और इसका सकारात्मक असर देखने को मिला.

तेजाखेड़ा की पुश्तैनी कोठी में नहीं होगी ओम प्रकाश चौटाला के 'करण-अर्जन' की शादी, HC ने लगाई रोक
जिले में लिंगानुपात में सुधार हुआ है और प्रदेश में टॉप पर पहुंचा है. हमारा लक्ष्य रहेगा कि यह स्थान बरकरार रहे. इसके लिए निरंतर प्रयास करेंगे. गर्भस्थ शिशु की लिंग जांच करने वाले गिरोहों से जुड़े लोगों को बेनकाब किया जाएगा और इस धंधे में संलिप्त लोगों पर कार्रवाई करेंगे. पहले भी सिरसा की टीम ने पंजाब क्षेत्र में भी कार्रवाई कर अल्ट्रासाउंड के द्वारा गर्भस्थ शिशु की लिंग जाने करवाने वालों को पकड़वाया है. जिले के सभी एसएमओ, एमओ, आशा वर्करों को निर्देश दिये गए हैं कि वे अपने क्षेत्रों में गर्भवती महिलाओं के बारे में अपडेट रखें और उन्हें जागरूक करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज