हरियाणा: कोरोना के बाद ब्लैक फंगस का बढ़ा खतरा, सिरसा में 7 केस मिले

कोरोना के बाद ब्लैक फंगस का कहर.

कोरोना के बाद ब्लैक फंगस का कहर.

Black Fungus Cases in Haryana: हरियाणा सरकार ने ब्लैक फंगस को अधिसूचित रोग घोषित किया है. सिरसा में भी मिले ब्लैक फंगस के केसों में से 4 सिरसा व 3 फतेहाबाद के रहने वाले हैं.

  • Share this:

सिरसा. हरियाणा में कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस (Black Fungus) का खतरा भी बढ़ने लगा है. सिरसा में ब्लैक फंगस के 7 मरीज मिले हैं, जिनका शहर के निजी अस्पताल (Private Hospital) में इलाज चल रहा है. प्रदेश में ब्लैक फंगस को अधिसूचित रोग की सूचि में डाले जाने के बाद अब ऐसे मरीज मिलने के बाद संबधित सीएमओ को रिपोर्ट देनी होगी. सिरसा के सीएमओ डॉ. मुनीश बांसल ने बताया कि सभी निजी अस्पतालों को निर्देश दिए गए हैं कि ब्लैक फंगस लक्षण वाले मरीजों की सूचना सीएमओ कार्यालय में मुहैया कराएं.

सिरसा के सीएमओ डॉ. मुनीश बांसल ने बताया कि सिरसा में भी ब्लैक फंगस के मरीज मिलने की सूचना मिली है. उन्होंने बताया कि अब 7 केस रिपोर्ट किए गए हैं, जिनका इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है. उन्होंने बताया कि जो भी मरीज ब्लैक फंगस के लक्षण वाले नागरिक अस्पताल में आएंगे, उनका प्राथमिक उपचार करने के बाद उन्‍हें अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर किया जाएगा.

अत्यधिक स्टेरॉयड्स के सेवन से ब्लैक फंगस का खतरा

डॉक्‍टर मुनीश ने बताया कि जो कोरोना के मरीज पहले से शुगर की बीमारी से ग्रस्त हैं, ऐसे मरीजों में इसकी आशंका ज्यादा होती है. उन्होंने बताया कि इसके इलावा कोरोना के इलाज में अत्यधिक स्टेरॉयड्स के सेवन से ब्लैक फंगस होने का खतरा बना रहता है.
नॉन कोविड मरीजों को भी हो सकती है यह बीमारी

निजी अस्पताल संचालक डॉ. सुदीप मुंजाल ने बताया कि उनके अस्पताल में इस समय 7 ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज चल रहा है. उन्होंने बताया कि पिछले दस दिनों में ब्लैक फंगस के लक्षण वाले मरीज उनके सामने आ रहे हैं. उन्होंने बताया कि ब्लैक फंगस अब कोरोना मरीजों में देखने को मिल रहा है, लेकिन यह बीमारी नॉन कोविड मरीजों को भी हो सकती है. उन्होंने बताया कि कोरोना से मरीज ठीक होने के बाद ही इस तरह के लक्षण देखने को मिल रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज