लाइव टीवी

सिरसा: कपास की सरकारी खरीद शुरू न होने पर किसानों ने दिया धरना, लगाए ये आरोप

Nakul Jasuja | News18 Haryana
Updated: October 15, 2019, 2:16 PM IST
सिरसा: कपास की सरकारी खरीद शुरू न होने पर किसानों ने दिया धरना, लगाए ये आरोप
किसानों ने खट्टर सरकार पर लगाए आरोप

किसान नेता प्रह्लाद सिंह भैरू खेड़ा ने कहा की फैक्ट्री मालिकों को फायदा पहुंचाने के लिए प्रशासन सरकारी खरीद शुरू नहीं कर पा रहा है जिसके चलते किसानों को कॉटन पर 600 से 1000 तक प्रति क्विंटल नुकसान झेलना पड़ रहा है.

  • Share this:
सिरसा. कपास  की सरकारी खरीद शुरू न हो पाने के कारण किसानों (Farmers) ने सिरसा (Sirsa) में मार्केट कमेटी के गेट के बाहर धरना आज दूसरे दिन भी जारी रहा. किसान पिछले पांच दिनों से सरकारी (Government) खरीद शुरू किये जाने की मांग को लेकर लगातार धरना प्रदर्शन कर रहे है. किसानों का आरोप  है कि सीसीआई जानबूझकर  किसानों को नुकसान पहुंचा रहा है और फैक्ट्री मालिकों को लाभ पहुंचाया जा रहा है जिसके चलते फसल के मंडी में आने के 20 दिन बाद तक भी सरकारी खरीद शुरू नहीं हो पाई है. यदि सरकार ने सरकारी खरीद शुरू नहीं की तो वे मार्केट कमेटी के समक्ष धरना जारी रखेंगे.

इस मौके पर किसान नेता प्रह्लाद सिंह भैरू खेड़ा ने कहा की फैक्ट्री मालिकों को फायदा पहुंचाने के लिए प्रशासन सरकारी खरीद शुरू नहीं कर पा रहा है जिसके चलते किसानों को कॉटन पर 600 से 1000 तक प्रति क्विंटल नुकसान झेलना पड़ रहा है. किसान पहले से ही मंदी की मार में है और इस तरह यदि सरकारी खरीद शुरू नहीं हो पाई तो किसान बर्बाद हो जायेगे.

झूठे आश्वासन देने के आरोप

उन्होंने कहा कि कपास की सरकारी खरीद एजेंसी CCI किसानों को झूठा आश्वासन खरीद शुरू करने के लिए दे रही है जबकि हकीकत में उन्होंने अभी तक टेंडर भी जारी नहीं किये. उन्होंने कहा की जब तक कपास की सरकारी खरीद शुरू नहीं होती, उनका धरना जारी रहेगा.

ये भी पढ़ें:- सोनिया गांधी को 'मरी हुई चुहिया' बताने के बयान पर CM खट्टर ने दी सफाई, बोले- 'ये तो कहावत है'

ये भी पढ़ें:- हरियाणा: PM मोदी ने साधा कांग्रेस पर निशाना- विकास में रोड़ा अटका रहे विरोधी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सिरसा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2019, 2:16 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर