लाइव टीवी

हनीप्रीत को जमानत मिलना सरकार और पुलिस का 'Failure': अंशुल छत्रपति

Nakul Jasuja | News18 Haryana
Updated: November 7, 2019, 12:27 PM IST
हनीप्रीत को जमानत मिलना सरकार और पुलिस का 'Failure': अंशुल छत्रपति
हनीप्रीत को जमानत मिलने पर अंशुल छत्रपति ने उठाए सवाल

अंशुल ने कहा कि हनीप्रीत और राम रहीम ने प्रदेश में हिंसा फैलाई थी. सरकार को हनीप्रीत की जमानत के खिलाफ कोर्ट में रिवीजन पिटीशन डालनी चाहिए.

  • Share this:
सिरसा. डेरा प्रमुख राम रहीम की सबसे बड़ी राजदार हनीप्रीत (Honeypreet) को जमानत मिलने पर अंशुल छत्रपति (Anshul Chattrapati) ने पुलिस और हरियाणा सरकार (Haryana Government) पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि सरकार और पुलिस हनीप्रीत के खिलाफ सबूत क्यों नहीं पेश कर पाई. हरियाणा पुलिस (Haryana Police) के पास पुख्ता सबूत होने के बावजूद हनीप्रीत को जमानत कैसे मिली ये चिंता का विषय है.

अंशुल छत्रपति ने हनीप्रीत को जमानत मिलना सरकार और पुलिस को फेलियर बताया है. अंशुल ने कहा कि हनीप्रीत और राम रहीम ने प्रदेश में हिंसा फैलाई थी. सरकार को हनीप्रीत की जमानत के खिलाफ कोर्ट में रिवीजन पिटीशन डालनी चाहिए. वहीं जेल से बाहर आने पर हनीप्रीत को पुलिस द्वारा VIP ट्रीटमेंट देने पर भी अंशुल छत्रपति ने सवाल उठाये हैं.

हनीप्रीत


कौन हैं अंशुल छत्रपति

अंशुल छत्रपति पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के बेटे हैं. उनके पिता रामचंद्र छत्रपति ने अपने अख़बार 'पूरा सच' में वो गुमनाम चिट्ठी छापी थी जिसमें गुरमीत राम रहीम पर एक महिला ने रेप का आरोप लगाया था. बाद में रामचंद्र छत्रपति की उनके घर में हत्या कर दी गई थी.

राम रहीम को सुनाई थी उम्रकैद की सजा

पत्रकार रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को पंचकुला की विशेष सीबीआई कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है.  राम रहीम रोहतक की सुनारिया जेल में बंद है. 11 जनवरी 2019 को कोर्ट ने इस मामले में दोषी करार दिया था. राम रहीम के अलावा 3 और लोगों को आईपीसी की धारा 302 यानी हत्या और 120 बी यानी आपराधिक साजिश के तहत दोषी ठहराया गया था.
Loading...

ये भी पढ़ें-

सरकारी कर्मचारियों को भाजपा विधायक की धमकी, बदल जाएं नहीं तो बदल दिए जाएंगे

नई पार्टी बनाएंगे पूर्व मंत्री निर्मल सिंह, शैलजा पर लगाया धोखा देने का आरोप

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सिरसा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 7, 2019, 12:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...