लाइव टीवी

चुनावों की घंटी बजते ही नेताओं का याद आने लगा 'डेरा'
Sirsa News in Hindi

Nakul Jasuja | News18 Haryana
Updated: September 27, 2019, 9:28 AM IST
चुनावों की घंटी बजते ही नेताओं का याद आने लगा 'डेरा'
एक बार फिर से हरियाणा की सियासत में डेरावाद गूंजने लगा

डेरा चीफ के जेल में जाने के बाद डेरा में धार्मिक, सियासी गतिविधयां कम हो गई है. डेरा के राजनीतिक फैसले लेने वाली सियासी विंग के पदाधिकारी गायब हैं.

  • Share this:
सिरसा. चुनावों की घंटी बजते ही एक बार फिर से हरियाणा (Haryana) की सियासत में डेरावाद गूंजने लगा है. हालांकि सिरसा के डेरा सच्चा सौदा (Dera Sacha Sauda)  में इस वक़्त खामोशी का आलम है. हरियाणा के अलावा पंजाब की सियासत में पूरी दखल रखने वाले डेरा सच्चा सौदा प्रमुख का चीफ गुरमीत राम रहीम (Gurmeet Ram Rahim) इस समय जेल में है जिसके चलते डेरे में अधिकतर गतिविधि ठप्प है. हरियाणा में हुए साल 2014 के लोकसभा व अक्तूबर 2014 के हरियाणा विधानसभा चुनाव में डेरा ने खुलकर भाजपा का समर्थन किया था. पर इस बार स्थिति उलट है.

डेरा चीफ के जेल में जाने के बाद डेरा में धार्मिक, सियासी गतिविधयां कम हो गई है. डेरा के राजनीतिक फैसले लेने वाली सियासी विंग के पदाधिकारी गायब हैं. ऐसे में डेरा के सियासी निर्णय को लेकर न केवल राजनेताओं में बेचैनी का आलम है, बल्कि डेरा के अनुयायियों में भी असमंजस की स्थिति है. हालांकि चुनाव नजदीक आते ही अब सूबे के सियासी दल के नेताओ ने डेरा सच्चा सौदा के वोट बैंक पर अपनी नज़रे गड़ानी शुरू कर दी है. हर  नेता डेरे के वोटर्स का समर्थन चाहता है. यही वजह है की अभी से ही सूबे के अधिकतर नेता डेरा के पक्ष में ब्यानबाज़िया करने लग गए है.

बता दें कि डेरा सच्चा सौदा का हैडक्वार्टर सिरसा में है. 1948 में मस्ताना जी महाराज ने डेरा की स्थापना की थी. 1960 में शाह सतनाम इस डेरे के गद्दीनशीन बने. इसके बाद साल 1990 में महज 23 बरस की उम्र में गुरमीत सिंह इस डेरे के प्रमुख बने. गुरमीत के डेरा चीफ बनने के बाद ही डेरा में राजनीतिक गतिविधियों का सिलसिला शुरू हुआ. साल 1998 में डेरा की राजनीतिक विंग बनाई गई. हरियाणाा, पंजाब, राजस्थान, उत्तरप्रदेश व हिमाचल प्रदेश में इस विंग के करीब 35 सदस्य बनाए गए.



2014 विधानसभा चुनावों में भाजपा को दिया था समर्थन



साल 2014 के लोकसभा चुनाव में सिरसा सीट से अप्रत्यक्ष रूप से चुनाव से कुछ दिन पहले डेरा ने कांग्रेस को समर्थन दिया, लेकिन कांग्रेस यहां बड़े अंतर से चुनाव हार गई. इसके बाद 2014 के विधानसभा चुनाव में डेरा ने प्रत्यक्ष रूप से भाजपा को समर्थन दिया. प्रदेश में भाजपा ने 47 सीटें लेकर सरकार बनाई. रोचक पहलू यह है कि सिरसा जहां, डेरा का मुख्यालय है 5 में से भाजपा को एक भी सीट पर जीत हासिल नहीं हुई, जबकि सिरसा संसदीय क्षेत्र में 9 में 8 सीटों पर भाजपा को हार का मुंह देखना पड़ा. रोचक पहलू यह है कि सिरसा में डेरा प्रमुख ने पहली बार अपना वोट डाला था.

सुनारिया जेल में बंद राम रहीम

25 अगस्त 2017 को साध्वी यौन शोषण मामले में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की ओर से डेरा चीफ को सजा सुनाए जाने के बाद वे सुनारिया जेल में हैं. डेरा में अधिकतर गतिविधि लगभग ठप्प है. कुछ व्यवसायों में ताले बंदी है. डेरा की सियासी विंग के ओहदेदार डेरा चीफ को सजा सुनाए जाने के बाद गायब हैं. डेरा में प्रबंधन का काम देख रहे लोगों को भी इनकी जानकारी नहीं है.

ये भी पढ़ें:- हरियाणा विधानसभा चुनाव: BJP में शामिल होंगे पूर्व हॉकी खिलाड़ी संदीप सिंह

ये भी पढ़ें:- हरियाणा में मुस्लिमों को भी विधानसभा चुनाव का टिकट दे सकती है बीजेपी!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सिरसा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 27, 2019, 9:28 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading