अपना शहर चुनें

States

हरियाणा रोडवेज की पहली महिला बस कंडक्टर बनी दो बेटियों की मां शर्मिला

महिला कंडक्टर शर्मिला
महिला कंडक्टर शर्मिला

रोडवेज की जिन बसों में महिलाएं सिर्फ मुसाफिर बनकर नजर आती रही हैं उन्हीं बसों में अब शर्मिला मुसाफिरों के टिकट काटती नजर आती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2018, 12:58 PM IST
  • Share this:
हरियाणा में रोडवेज कर्मचारी भले ही हड़ताल पर हैं. लेकिन इस हड़ताल ने एक बदलाव जरूर लाया है. जिन बसों में महिलाएं सिर्फ मुसाफिर होती थीं. उन बसों में अब महिलाएं टिकट काट रही हैं. कंडक्टरों के तौर पर महिलाओं की भर्ती हो रही है. रोडवेज अब महिलाओं को रोडवेज की बसों में कंडक्टर की नौकरियां दे रहा है.

अब इसे क्या कहेंगे आप महिला सशक्तीकरण या फिर रोडवेज के बेड़े का विकासशील से विकसित होना. कर्मचारियों की हड़ताल पिछले 12 दिनों से चल रही है और उस हड़ताल के नतीजे के तौर पर सामने आई रेवाड़ी के खलीलपुर गांव की शर्मिला.

PHOTOS: हरियाणा रोडवेज की दूसरी महिला कंडक्टर बनी शैफाली, IAS की कर रही हैं तैयारी



सिरसा के खलीलपुर गांव की रहने वाली शर्मिला 2 बच्चों की मां है. घर की माली हालत बेहद खस्ता थी तो रोडवेज के कर्मचारी शर्मिला के लिए हड़ताल का वरदान लेकर पहुंच गए. शर्मिला के लिए ये हड़ताल खुशी का सबब लेकर आई है. क्योंकि ये रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल का ही नतीजा है कि शर्मीला आज हरियाणा रोडवेज की पहली महिला बस कंडक्टर हैं.
शर्मीला के रूप में पहली महिला बस कंडक्टर लोगों का भी ध्यान खींच रही है. रोडवेज की जिन बसों में महिलाएं सिर्फ मुसाफिर बनकर नजर आती रही हैं उन्हीं बसों में अब शर्मिला मुसाफिरों के टिकट काटती नजर आती हैं.

इस हड़ताल से और कुछ हुआ हो या न हुआ हो शर्मिला की जिंदगी जरूर बदली है. अभी बदलाव मामूली है. लेकिन आगे चलकर खास जरूर हो सकता है. कर्मचारियों की हड़ताल कब खत्म होगी उसका पता नहीं. लेकिन शर्मिला के घर का चूल्हा अब बेफिक्री से जलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज