कबड्डी टूर्नामेंट में इंडियन रेलवे के सिर सजा एक करोड़ का ताज
Sirsa News in Hindi

कबड्डी टूर्नामेंट में इंडियन रेलवे के सिर सजा एक करोड़ का ताज
विजेता टीम

इंडियन रेलवे को 1 करोड़ रुपये, सर्विसिज की टीम को 50 लाख रुपये, हरियाणा की टीम को 25 लाख रुपये और उत्तराखंड की टीम को 11 लाख रुपये का पुरस्कार प्राप्त हुआ.

  • Share this:
पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मृति तृतीय अखिल भारतीय कबड्डी टूर्नामेंट का ताज इंडियन रेलवे के सिर सजा. इंडियन रेलवे की टीम ने रोमांचक मुकाबले में सर्विसिज की टीम को शिकस्त देते हुए फाइनल मुकाबला अपने नाम कर लिया. पुरस्कार के तौर पर इंडियन रेलवे को एक करोड़ मिला है. मुख्यातिथि परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार ने विजेता टीम को बधाई व पुरस्कार देकर सम्मानित किया और खिलाडिय़ों की खेल भावना की सराहना की. समारोह के दौरान प्रसिद्ध खिलाडिय़ों व सांस्कृतिक टीमों ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत कर दर्शकों का दिल जीत लिया.

मुख्यातिथि परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार ने फाइनल मुकाबले से पहले इंडियन रेलवे व सर्विसिज की टीमों के खिलाडिय़ों से मुलाकात की. इसके बाद एक करोड़ रुपये इनाम के लिए का मैच शुरू हुआ. दोनों टीमों के बीच रोमांचक मुकाबला हुआ जिसमें इंडियन रेलवे ने 41 अंक प्राप्त किए, जबकि सर्विसिज की टीम को 37 अंक प्राप्त हुए. मैच के मध्यांतर तक इंडियन रेलवे ने 25 जबकि सर्विसिज की टीम ने 19 अंक प्राप्त किए थे.

इससे पहले प्रथम सेमी फाइनल मुकाबले में इंडियन रेलवे व उत्तराखंड की टीमें भिड़ीं. इस मुकाबले में इंडियन रेलवे ने 39 अंक प्राप्त करके 33 अंक प्राप्त करने वाली उत्तराखंड की टीम को परास्त किया. दूसरे सेमी फाइनल मुकाबले में हरियाणा और सर्विसिज की टीमों के बीच मुकाबला हुआ. इसमें सर्विसिज की टीम को 49 अंक मिले जबकि हरियाणा की टीम 23 अंक प्राप्त कर सकी. इसके बाद सेमी फाइनल में हारने वाली उत्तराखंड व हरियाणा की टीमों के बीच मुकाबला करवाया गया जिसमें हरियाणा ने 43 अंक लेकर उत्तराखंड की टीम को हराया. इस मैच में उत्तराखंड की टीम को 35 अंक प्राप्त हुए. मुकाबलों के आधार पर इंडियन रेलवे को 1 करोड़ रुपये, सर्विसिज की टीम को 50 लाख रुपये,  हरियाणा की टीम को 25 लाख रुपये और उत्तराखंड की टीम को 11 लाख रुपये का पुरस्कार प्राप्त हुआ.



परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार ने विजेता टीमों को बधाई दी. उन्होंने अपना संबोधन को पुलवामा में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए शुरू किया. उन्होंने कहा कि परंपरागत खेलों, विशेषकर कबड्डी को बढ़ावा देने के लिए यह सबसे बड़ा मंच है, जहां विजेता टीम को 1 करोड़ रुपये जबकि द्वितीय, तृतीय व चतुर्थ स्थान प्राप्त करने वाली टीमों को भी क्रमश: 50, 25 व 11 लाख रुपये की भारी-भरकम राशि प्रदान की जाती है. इससे इन खेलों में रुचि लेने वाले खिलाडिय़ों की संख्या बढ़ी है. उन्होंने बताया कि कबड्डी की ही तरह हरियाणा सरकार द्वारा 1 करोड़ रुपये इनाम की कुश्ती प्रतियोगिता भी 2016 से आयोजित करवाई जा रही है.
परिवहन मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने खेल व खिलाडिय़ों को प्रोत्साहित करने के लिए सरकारी नौकरियों में खिलाडिय़ों के लिए आरक्षण का प्रावधान किया है. सरकार ने गु्रप ए, बी व सी की नौकरियों में खिलाडिय़ों के लिए 3 प्रतिशत जबकि गु्रप-डी की नौकरी के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण लागू किया है. इसी प्रकार खिलाडिय़ों को उच्च स्तर का प्रशिक्षण देने के लिए हरियाणा में 2 राज्य स्तरीय खेल परिसर, 21 जिला स्तरीय खेल परिसर, 13 खंड स्तरीय खेल स्टेडियम, 160 राजीव गांधी ग्रामीण खेल परिसर, 8 तैराकी तालाब, 10 बहु उद्देश्यीय हॉल, 6 सिंथेटिक एथलेटिक्स टै्रक, 10 हॉकी एस्ट्रोटर्फ व एक फुटबाल सिंथेटिक सरफेस की सुविधा उपलब्ध हैं.

उन्होंने बताया कि ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को 6 करोड़ रुपये, रजत पदक प्राप्त करने पर 4 करोड़ रुपये, कांस्य पदक प्राप्त करने पर 2.5 करोड़ रुपये तथा प्रत्येक प्रतिभागी खिलाड़ी को 15 लाख रुपये नकद इनाम के रूप में दिए जाते हैं. इसी प्रकार एशियन गेम्स में स्वर्ण पदक पर 3 करोड़ रुपये, रजत पदक पर 1.5 करोड़ रुपये, कांस्य पदक पर 75 लाख रुपये तथा प्रतिभागी खिलाड़ी को 7.5 लाख रुपये प्रदान किए जाते हैं. अन्य खेलों में भी विजेता खिलाडिय़ों के लिए आकर्षक इनामों का प्रावधान है. उन्होंने बताया कि वर्ष 2015-16 में 89.90 करोड़ रुपये तथा 2016-17 में 1862 खिलाडिय़ों को 48.88 करोड़ रुपये के इनाम दिए गए. 15 अगस्त 2018 को 1166 खिलाडिय़ों को 33 करोड़ से अधिक राशि के इनाम दिए गए.

इस अवसर पर मेयर गौतम सरदाना, खेल विभाग के निदेशक भूपेंद्र सिंह, उपायुक्त अशोक कुमार मीणा, पुलिस अधीक्षक शिवचरण, अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान, सीटीएम शालिनी चेतल, एसडीएम परमजीत सिंह, जनसंपर्क विभाग के उपनिदेशक डॉ. साहिब राम गोदारा, जिला खेल अधिकारी गंगादत्त यादव व कुलदीप दलाल सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति व बड़ी संख्या में शहरवासी व दर्शक मौजूद थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज